ईडी ने यंग इंडिया के कार्यालय को किया सील - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

विजयी विश्व तिरंगा प्यारा , झंडा ऊँचा रहे हमारा। देश की आज़ादी के 75 वर्ष पूरे होने पर सभी देशवासियों को अनेकानेक शुभकामनाएं व बधाई। 'लाइव आर्यावर्त' परिवार आज़ादी के उन तमाम वीर शहीदों और सेनानियों को कृतज्ञता पूर्ण श्रद्धासुमन अर्पित करते हुए नमन करता है। आइए , मिल कर एक समृद्ध भारत के निर्माण में अपनी भूमिका निभाएं। भारत माता की जय। जय हिन्द।

गुरुवार, 4 अगस्त 2022

ईडी ने यंग इंडिया के कार्यालय को किया सील

national-herald-case-ed-seals-office-of-young-india
नयी दिल्ली 03 अगस्त, प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने नेशनल हेराल्ड मामले की चल रही जांच के तहत बुधवार को हेराल्ड हाउस में स्थित यंग इंडिया प्राइवेट लिमिटेड कार्यालय को सील कर दिया है। ईडी ने आज उसने नेशनल हेराल्ड मामले की चल रही जांच के बीच यंग इंडिया कार्यालय को सील कर दिया। ईडी ने मंगलवार को नेशनल हेराल्ड कार्यालय सहित कई स्थानों पर छापेमारी की थी और पिछले सप्ताह कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी से तीन बार और उनके सांसद बेटे राहुल गांधी से भी अपने मुख्यालय में 50 घंटे से अधिक समय तक पांच दिनों तक पूछताछ की थी। आज 24 अकबर रोड स्थित कांग्रेस कार्यालय के बाहर भारी संख्या में पुलिस कर्मियों की तैनाती की गई और अवरोधक लगाए गए। दिल्ली कांग्रेस अध्यक्ष चौ. अनिल कुमार ने ट्वीट किया, “तानाशाही सरकार इतनी डरी हुई क्यों है? कोई विरोध न होने पर भी पुलिस हमें अपने ही कार्यालय जाने से रोक रही है।” श्री कुमार ने कहा, “हमें गिरफ्तारी का डर नहीं है, अगर हम विरोध करेंगे तो हम यह कहकर करेंगे कि अब क्या पुलिस हमें अपने ही कार्यालय में बैठक करने से रोकेगी?” कांग्रेस नेता अजय माकन ने कहा कि कांग्रेस को विरोध प्रदर्शन करने से रोक दिया गया है, “ हमने घोषणा की कि हम मूल्य वृद्धि के खिलाफ विरोध प्रदर्शन करेंगे ... आज हमें दिल्ली पुलिस आयुक्त का एक पत्र मिला है कि हम खाद्य पदार्थों पर मूल्य वृद्धि, बेरोजगारी और जीएसटी के खिलाफ विरोध नहीं कर सकते हैं”। नेशनल हेराल्ड अखबार के दफ्तर पर ईडी की छापेमारी के खिलाफ कांग्रेस की महिला शाखा समेत कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने कल हेराल्ड हाउस के बाहर धरना दिया। कांग्रेस नेता मल्लिकार्जुन खड़गे ने मंगलवार को कहा कि नेशनल हेराल्ड के कई कार्यालयों पर ईडी की छापेमारी ‘राजनीतिक बदले की भावना से की गयी कार्रवाई’ है।

कोई टिप्पणी नहीं: