ममता मंत्रिमंडल का विस्तार , बाबुल सुप्रियो कैबिनेट में शामिल - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

विजयी विश्व तिरंगा प्यारा , झंडा ऊँचा रहे हमारा। देश की आज़ादी के 75 वर्ष पूरे होने पर सभी देशवासियों को अनेकानेक शुभकामनाएं व बधाई। 'लाइव आर्यावर्त' परिवार आज़ादी के उन तमाम वीर शहीदों और सेनानियों को कृतज्ञता पूर्ण श्रद्धासुमन अर्पित करते हुए नमन करता है। आइए , मिल कर एक समृद्ध भारत के निर्माण में अपनी भूमिका निभाएं। भारत माता की जय। जय हिन्द।

गुरुवार, 4 अगस्त 2022

ममता मंत्रिमंडल का विस्तार , बाबुल सुप्रियो कैबिनेट में शामिल

mamta-cabinet-expanded-babul-supriyo-included
कोलकाता 03 अगस्त, पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने बुधवार को मंत्रिमंडल में बड़ा फेरबदल करते हुये चार मंत्रियों को हटाया है और पूर्व केंद्रीय मंत्री बाबुल सुप्रियो समेत आठ नए चेहरों को शामिल किया। श्री सुप्रियो , जिन्होंने पिछले साल भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) छोड़ दी थी और केंद्रीय मंत्रिपरिषद से हटाए जाने के बाद तृणमूल में शामिल हो गए थे, उन्हें सूचना प्रौद्योगिकी और इलेक्ट्रॉनिक्स और पर्यटन का प्रभारी मंत्री बनाया गया है। आज दिन में श्री सुप्रियो ने पार्थ भौमिक, स्नेहासिस चक्रवर्ती, उदयन गुहा, ताजमूल हुसैन, प्रदीप मजूमदार, सत्यजीत बर्मन और बिप्लब रॉय चौधरी के साथ मंत्री पद की शपथ ली। इसके अलावा राज्य मंत्री से स्वतंत्र प्रभार राज्य मंत्री के रूप में पदोन्नत किये गये बीरबाहा सोरेन ने भी शपथ ली। राज्यपाल ला गणेशन ने यहां राजभवन में एक भव्य समारोह में सभी नौ मंत्रियों को पद एवं गोपनीयता की शपथ दिलाई। श्री सुप्रियो के अलावा भौमिक, चक्रवर्ती, गुहा और प्रदीप मजूमदार कैबिनेट में शामिल हुए, जबकि बिप्लब रॉय चौधरी को स्वतंत्र प्रभार के साथ राज्य मंत्री बनाया गया। हुसैन और बर्मन राज्य के नये मंत्री हैं। हटाए जाने वालों में शिक्षा राज्य मंत्री परेश अधिकारी भी शामिल हैं, जिन्हें कथित स्कूल सेवा आयोग (एसएससी) घोटाले के सिलसिले में सीबीआई की पूछताछ का सामना करना पड़ा था। जबकि उनकी बेटी को कलकत्ता उच्च न्यायालय द्वारा स्कूल शिक्षक की नौकरी से बर्खास्त कर दिया गया था। उन्हें अपनी नियुक्ति के बाद से प्राप्त पूरा वेतन भी वापस करना पड़ा। सत्यजीत बर्मन को अधिकारी का विभाग सौंपा गया है। जिन अन्य मंत्रियों का नाम काटा गया उनमें सौमेन महापात्रा, रत्न दे नाग और हुमायूं कबीर है। कथित एसएससी घोटाले के सिलसिले में प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) द्वारा गिरफ्तारी के बाद सुश्री बनर्जी ने दिग्गज मंत्री पार्थ चटर्जी को बर्खास्त करने के कुछ दिनों बाद मंत्री पद का फेरबदल किया है। शशि पांजा को उद्योग, वाणिज्य और उद्यम और सार्वजनिक उद्यम और औद्योगिक पुनर्निर्माण का विभाग दिया गया है,इस विभाग को चटर्जी ने लंबे समय तक संभाला है। पंजा महिला एवं बाल विकास और समाज कल्याण के अपने मौजूदा विभाग को भी बरकरार रखेगी। अनुभवी राजनेता और लंबे समय तक बिजली मंत्री सोवंदेब चटर्जी संसदीय मामलों के नए मंत्री हैं। यह वही विभाग है जिसे चटर्जी हटाए जाने तक संभाल रहे थे। एक और दिग्गज मंत्री फिरहाद हकीम ने केवल अपने शहरी विकास और नगर मामलों के विभाग को बरकरार रखते हुए, आवास और परिवहन के विभागों को खो दिया। मुख्यमंत्री के करीबी रहे अरूप विश्वास को युवा सेवा एवं खेल विभाग में रखते हुए बिजली एवं आवास मंत्री बनाया गया है। ममता बनर्जी के 43 सदस्यीय मंत्री मंडल में अब 24 कैबिनेट मंत्री और 19 राज्य मंत्री हैं, जिनमें से दस के पास स्वतंत्र प्रभार हैं। सुश्री बनर्जी ने पहले कहा था कि वर्तमान में कई विभाग बिना किसी समर्पित मंत्री के काम कर रहे हैं, जिसके कारण फेरबदल आवश्यक था। सुब्रत मुखर्जी और साधना पांडे के निधन से दो रिक्तियां सृजित हुयी। बीरबाहा हांसदा अब राज्य मंत्री, स्वयं सहायता समूह और स्वरोजगार विभाग और वन विभाग,(स्वतंत्र प्रभार) होंगे। स्नेहासिस चक्रवर्ती को परिवहन विभाग दिया गया है, जबकि पार्थ भौमिक को सिंचाई और जलमार्ग दिया गया है। उदयन गुहा उत्तर बंगाल विकास विभाग के नए मंत्री हैं, जबकि प्रदीप मजूमदार पंचायत और ग्रामीण विकास का प्रबंधन करेंगे। बिप्लब रॉय चौधरी मत्स्य पालन विभाग (स्वतंत्र प्रभार) राज्य मंत्री, ताजमुल होसैस राज्य मंत्री, सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यम और कपड़ा विभाग होंगे। 

कोई टिप्पणी नहीं: