प्रतापगढ़ : अपर सेशन न्यायाधीष ने किया बालिका छात्रावास का औैचक निरीक्षण - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

विजयी विश्व तिरंगा प्यारा , झंडा ऊँचा रहे हमारा। देश की आज़ादी के 75 वर्ष पूरे होने पर सभी देशवासियों को अनेकानेक शुभकामनाएं व बधाई। 'लाइव आर्यावर्त' परिवार आज़ादी के उन तमाम वीर शहीदों और सेनानियों को कृतज्ञता पूर्ण श्रद्धासुमन अर्पित करते हुए नमन करता है। आइए , मिल कर एक समृद्ध भारत के निर्माण में अपनी भूमिका निभाएं। भारत माता की जय। जय हिन्द।

बुधवार, 17 अगस्त 2022

प्रतापगढ़ : अपर सेशन न्यायाधीष ने किया बालिका छात्रावास का औैचक निरीक्षण

pratapgarh-news-today
प्रतापगढ़। राजस्थान राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण, जयपुर के निर्देशानुसार श्री शिवप्रसाद तम्बोली-सचिव जिला विधिक सेवा प्राधिकरण, (अपर जिला एवं सेशन न्यायाधीश), प्रतापगढ़ द्वारा ग्राम झांसडी में जनजातीय क्षैत्रीय विकास विभाग द्वारा संचालित बालिका छात्रावास का निरीक्षण किया गया। दौराने निरीक्षण के समय अधीक्षिका श्रीमति गंगा मीणा उपस्थित मिली व कोच चंचल जैन अनुपस्थित मिली। बालिकाओं से संवाद किया गया, कुल 48 बच्चियां हॉस्टल में मौजूद होना बताया गया। बच्चियों ने बताया कि सुबह से बारिश हो रही है इसलिए कोई भी स्कूल नहीं गयी, बच्चियों ने बताया कि उन्हे सैनेटरी नैपकिन व शैम्पू काफी समय से नहीं दिया जा रहा है और बरसात में छात्रावास के सभी कमरे टपक रहे है। निरीक्षण के दौरान बच्चियों ने यह बताया कि कुछ कमरो की खिडकियो के कांच टूटे हुए है जिससे भी उन्हे परेशानी हो रही है। किसी भी बच्ची का बीमार नहीं होना बताया गया। वक्त निरीक्षण हॉस्टल में अधीक्षिका के पति श्री नंदलाल मीणा भी मौजूद मिले जबकि यह छात्रावास बालिकाओं का छात्रावास है तो जनजाति विभाग यह सुनिश्चित करावें की क्या अधीक्षिका के पति महोदय को छात्रावास में रहने की अनुमति है अथवा नहीं ? और यदि नहीं है तो छात्रावास अधीक्षिका को इस संबंध में पाबंद कराया जावें, इस संबंध में विभाग को पत्र लिखने बाबत् निर्देश दिये गये। साथ ही खिडकी के टूटे हुए कांच व टपक रही छतों को अविलम्ब दूरूस्त करवाया जाने बच्चियों को सैनेटरी नैपकिन व शैम्पू मिलना सुनिश्चित कराया जानें और अधीक्षिका के पति के संबंध में वांछित आदेश पारित किये जानें व पालना रिपोर्ट कार्यालय को अविलम्ब प्रेषित किये जाने के संबंध में उपायुक्त, जनजातिय क्षैत्रीय विकास विभाग को पत्र लिखे जाने के निर्देश दिये गये।


कोई टिप्पणी नहीं: