वैश्विक सुरक्षा के लिए संवाद और सहयोग अनिवार्य :गुटेरेस - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

विजयी विश्व तिरंगा प्यारा , झंडा ऊँचा रहे हमारा। देश की आज़ादी के 75 वर्ष पूरे होने पर सभी देशवासियों को अनेकानेक शुभकामनाएं व बधाई। 'लाइव आर्यावर्त' परिवार आज़ादी के उन तमाम वीर शहीदों और सेनानियों को कृतज्ञता पूर्ण श्रद्धासुमन अर्पित करते हुए नमन करता है। आइए , मिल कर एक समृद्ध भारत के निर्माण में अपनी भूमिका निभाएं। भारत माता की जय। जय हिन्द।

बुधवार, 24 अगस्त 2022

वैश्विक सुरक्षा के लिए संवाद और सहयोग अनिवार्य :गुटेरेस

dialogue-and-cooperation-essential-for-global-security-guterres
न्यूयॉर्क 24 अगस्त, संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंटोनियो गुटेरेस ने कहा है कि विश्व वर्तमान में सर्वाधिक खतरनाक दौर से गुजर रहा है और वैश्विक शांति का एक मात्र रास्ता आपसी संवाद तथा सहयोग है। श्री गुटेरेस मंगलवार को सुरक्षा परिषद में ‘अंतरराष्ट्रीय शांति और सुरक्षा अनुरक्षण: संवाद और सहयोग के माध्यम से सामान्य सुरक्षा को बढ़ावा देना’ के मुद्दे पर आयोजित बैठक को संबोधित कर रहे थे। महासचिव ने कहा, “ इस वक्त दुनिया के सामने सबसे अधिक खतरा है। सामूहिक सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए संवाद और सहयोग की आवश्यकता है।” उन्होंने कहा,“ हमारी सामूहिक सुरक्षा की मांग है कि हम अपने सामने आने वाले खतरों और चुनौतियों की एक सामान्य समझ बनाने के लिए हर पल का उपयोग करें।” श्री गुटेरेस ने कहा,“सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि हम चुनौतियों के प्रति अपने संयुक्त उत्तरदायित्व को वास्तविकता की धारतल पर साकार करने के लिए प्रयत्नशील रहें। इस बैठक का मुख्य मुद्दा है कि शांति का मार्ग संवाद और सहयोग से बनता है।” महासचिव ने कहा,“ मैं अभी-अभी यूक्रेन, तुर्की और मोल्दोवा से लौटा हूं।मैंने ‘ब्लैक सी ग्रेन इनिशिएटिव’ जो यूक्रेनी बंदरगाहों के माध्यम से अनाज और अन्य महत्वपूर्ण खाद्य आपूर्ति को फिर से प्राप्त करने की पहल है, उसका साक्षी बना। हमारे पास रूसी संघ से उत्पन्न होने वाले खाद्य और उर्वरकों के लिए वैश्विक बाजारों तक अबाधित पहुंच की सुविधा के लिए समानांतर में यह एक समझौता है।” उन्होंने कहा,“ यह व्यापक योजना दुनिया के सबसे कमजोर लोगों और देशों के लिए महत्वपूर्ण है, जो इन खाद्य आपूर्ति पर सख्त भरोसा कर रहे हैं। सबसे बढ़कर, यह इस बात का एक ठोस उदाहरण है कि कैसे संघर्ष के बीच भी संवाद और सहयोग आशा प्रदान कर सकते हैं।”

कोई टिप्पणी नहीं: