मां का जिक्र आने पर नायडू की आंखों से झलके आंसू - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

विजयी विश्व तिरंगा प्यारा , झंडा ऊँचा रहे हमारा। देश की आज़ादी के 75 वर्ष पूरे होने पर सभी देशवासियों को अनेकानेक शुभकामनाएं व बधाई। 'लाइव आर्यावर्त' परिवार आज़ादी के उन तमाम वीर शहीदों और सेनानियों को कृतज्ञता पूर्ण श्रद्धासुमन अर्पित करते हुए नमन करता है। आइए , मिल कर एक समृद्ध भारत के निर्माण में अपनी भूमिका निभाएं। भारत माता की जय। जय हिन्द।

सोमवार, 8 अगस्त 2022

मां का जिक्र आने पर नायडू की आंखों से झलके आंसू

naidus-eyes-shed-tears
नयी दिल्ली, 08 अगस्त, राज्य सभा के सभापति एम. वेंकैया नायडू की आंखों से सोमवार को अपने विदाई समारोह के दौरान उस समय आंखों से आंसू झलक गये जब तृणमूल कांग्रेस के डेरेक ओ बाय्रन ने एक दुर्घटना का जिक्र किया जिसमें श्री नायडू की मां की मृत्यु हो गयी थी। राज्य सभा में श्री नायडू के विदाई समारोह के दौरान श्री ब्रायन ने एक कहानी सुनाई। उन्होंने कहा कि संयुक्त आंध्र प्रदेश में एक समय में किसान परिवारों की संपन्नता बैलों की जोड़ी से मापी जाती थी। किसी के घर में एक जोड़ी बैल होते थे, किसी के घर में दो, तो किसी के घर छह-सात जोड़ी बैल भी होते थे, जिसके घर में जितने जोड़ी बैल होते थे, वह परिवार उतना ही अमीर होता था। ऐसे ही एक परिवार के पास केवल एक जोड़ी बैल थे। एक दिन बैलों की जोड़ी में से एक बैल एक महिला के पीछे दौड़ पड़ा। महिला की गोद में एक वर्ष का एक बच्चा भी था। बैल ने इस महिला को सींग मारकर गिरा दिया और घायल कर दिया। बच्चा गोद से गिर गया। इस महिला को बाद में अस्पताल ले जाया गया, जहां उनकी मृत्यु हो गयी। श्री ब्रायन ने कहा, “ सर, यह आपकी कहानी है। वह महिला आप की मां थी और वह बच्चा आप थे।” 

कोई टिप्पणी नहीं: