कविता : नारी नहीं है अभिशाप - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

विजयी विश्व तिरंगा प्यारा , झंडा ऊँचा रहे हमारा। देश की आज़ादी के 75 वर्ष पूरे होने पर सभी देशवासियों को अनेकानेक शुभकामनाएं व बधाई। 'लाइव आर्यावर्त' परिवार आज़ादी के उन तमाम वीर शहीदों और सेनानियों को कृतज्ञता पूर्ण श्रद्धासुमन अर्पित करते हुए नमन करता है। आइए , मिल कर एक समृद्ध भारत के निर्माण में अपनी भूमिका निभाएं। भारत माता की जय। जय हिन्द।

शनिवार, 13 अगस्त 2022

कविता : नारी नहीं है अभिशाप

क्यों समझा है नारी को अभिशाप।

मत करो उसपर अत्याचार।।


जो करनी हो समाज की रक्षा।

तो करो पहले नारी की सुरक्षा।।


क्यों सताते हो नारी को?

क्यों नहीं अपनाते उस प्यारी को।।


नारी होती है धरती का अभिमान।

वह भी है एक जीवन का आधार।।


नए भारत की सोच तुम बदलो।

नारी को भी जीवन का हिस्सा समझो।।


उसे भी समझे भारत की एक आत्मनिर्भर महिला।

उसका भी होगा कोई अपना सपना।।


उसे भी है जीने का अधिकार है।

बदलो अपनी सोच का आधार।।


मत करो नारी पर अत्याचार।।



शिवानी जोशी
शिवानी जोशी

उत्तरौड़ा, कपकोट

बागेश्वर, उत्तराखंड

(चरखा फीचर)

कोई टिप्पणी नहीं: