बिहार : तिरंगा जिम्मेदारी और एकता का प्रतीक : भक्तचरण दास - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

विजयी विश्व तिरंगा प्यारा , झंडा ऊँचा रहे हमारा। देश की आज़ादी के 75 वर्ष पूरे होने पर सभी देशवासियों को अनेकानेक शुभकामनाएं व बधाई। 'लाइव आर्यावर्त' परिवार आज़ादी के उन तमाम वीर शहीदों और सेनानियों को कृतज्ञता पूर्ण श्रद्धासुमन अर्पित करते हुए नमन करता है। आइए , मिल कर एक समृद्ध भारत के निर्माण में अपनी भूमिका निभाएं। भारत माता की जय। जय हिन्द।

बुधवार, 17 अगस्त 2022

बिहार : तिरंगा जिम्मेदारी और एकता का प्रतीक : भक्तचरण दास

  • * कांग्रेस ने फहराया तिरंगा, निकाला तिरंगा मार्च
  • * कांग्रेस मुख्यालय में प्रदेश अध्यक्ष ने फ़हराया तिरंगा, निकला तिरंगा मार्च

bihar-news-congress
पटना: प्रदेश कांग्रेस मुख्यालय सदाकत आश्रम में बिहार प्रदेश कांग्रेस कमिटी ने 76 वें स्वतंत्रता दिवस पर राष्ट्र ध्वज को प्रदेश अध्यक्ष डॉ मदन मोहन झा ने फहराया. इस दौरान बिहार कांग्रेस के प्रभारी भक्तचरण दास एवं सह प्रभारी बृजलाल खबरी भी मौजूद रहें. इसके बाद कांग्रेस सेवादल ने प्रदेश अध्यक्ष डॉ मदन मोहन झा को सलामी दी. झंडोतोलन के उपरांत प्रदेश अध्यक्ष डॉ मदन मोहन झा ने संबोधन में कहा कि कांग्रेस ने देश की एकता और अखंडता को अक्षुण्ण रखने के लिए बहुत संघर्ष किये हैं. आज देश में तिरंगा शान से फहराया जा रहा है तो इसमें लाखों वीरों की शहादत की देन है. भारतीयों का आत्मबोध लेकर हमने इस तिरंगे के नीचे पूरे देश को एकजुट किया है.उन्होंने पंडित नेहरू और महात्मा गांधी के महत्व को बताते हुए कहा कि वर्तमान पीढ़ी को इस तिरंगे की गौरव यात्रा को बताना बेहद जरूरी हो चुका है.देश में आजादी के दीवानों का सर्वाेच्च प्रतीक इस तिरंगे को विश्व में सर्वाेच्च बनाएं रखने की जिम्मेदारी हम सब की है. झंडोतोलन के उपरांत सदाकत आश्रम से राजापुल होते हुए राजेन्द्र समाधि स्थल तक सैंकड़ो कि संख्या में कांग्रेसजनों के द्वारा तिरंगा मार्च का आयोजन किया गया जिसका नेतृत्व बिहार कांग्रेस के प्रभारी भक्त चरण दास एवं प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष डॉ. मदन मोहन झा ने किया. समाधि स्थल पर श्रद्धासुमन अर्पित करने के उपरांत बिहार कांग्रेस के प्रभारी भक्तचरण दास ने कहा कि कांग्रेस ने देश को एकता के सूत्र में पिरोने का काम किया है और आज जब राष्ट्र की एकता को जाति-धर्म के नाम पर तोड़ने की साजिश की जा रही है तो डटकर वैसे तत्वों के खिलाफ हमारा संघर्ष जारी है. झंडोतोलन और तिरंगा मार्च में भक्त चरण दास, ब्रिज लाल खबरी, डॉ. मदन मोहन झा, अजित शर्मा, अखिलेश प्रसाद सिंह, कन्हैया कुमार, डॉ. शकील अहमद, चन्दन बागची, कौकब कादरी, श्याम सुन्दर सिंह धीरज, राजेश राठौड़, शकील अहमद खान, आबिदुर रहमान, विजय शंकर दुबे, सिद्धार्थ सिंह, राजेश कुमार, प्रतिमा कुमारी दास, मुरारी प्रसाद गौतम, ब्रजेश प्रसाद मुनन, श्रीमती ज्योति, नरेन्द्र कुमार, हरखू झा, कुमार आशीष, लाल बाबु लाल, अमिता भूषण, प्रमोद कुमार सिंह, भावना झा, बंटी चौधरी, जया मिश्रा, अमित कुमार टून्ना, आनंद माधव, विनय वर्मा, गजानंद शाही, राजेश कुमार सिन्हा, ज्ञान रंजन, गुंजन पटेल, चुन्नू सिंह, असित नाथ तिवारी, कुंतल कृष्णा, संजीव कर्मवीर, नागेन्द्र प्रसाद विकल, प्रवीन कुशवाहा, शरबत जहाँ फ़ातेमा, जमाल अहमद भल्लू, अम्बुज किशोर झा, शशि कुमार सिंह, सौरभ सिन्हा, कमल देव नारायण शुक्ला, शशि कान्त तिवारी, राज कुमार राजन, ललन यादव, अशोक गगन, अनुराग चन्दन, जीतेन्द्र प्रसाद सिंह, मोती लाल शर्मा, अजय सिंह, कपिलदेव प्रसाद यादव, अरबिंद लाल रजक, मिन्नत रहमानी, मृणाल अनामय, उदय शंकर पटेल, रामायण प्रसाद यादव, केशर अली खान, रेखा देवी, अनीता राम, असफर अहमद, वशी अख्तर, सुनील चौधरी, उमा कान्त सिंह, मंजीत आनंद साहू, मुकुल यादव, ब्रज किशोर कुशवाहा, आशुतोष शर्मा, शशि रंजन, कुंदन गुप्ता, दुर्गा प्रसाद, संतोष श्रीवास्तव, सुनील कुमार सिंह, गुरुदयाल सिंह, अमरेन्द्र सिंह, रीता सिंह, रूपम यादव, सुधा मिश्रा, अनोखा देवी, निधि पाण्डेय, रवि गोल्डन, आर. एन. चौधरी, मोनी देवी, सुनीता साक्षी, जया लक्ष्मी, सिसिल शाह, अरुण पाठक, शारीफ रंगरेज, राजेंद्र चौधरी, मोहम्मद शाहनवाज, निरंजन कुमार सहित सैंकड़ों कांग्रेसजन मौजूद रहें.

कोई टिप्पणी नहीं: