आलेख : दूसरों को हीरो बनाने वाले गुमनाम हीरो - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

विजयी विश्व तिरंगा प्यारा , झंडा ऊँचा रहे हमारा। देश की आज़ादी के 75 वर्ष पूरे होने पर सभी देशवासियों को अनेकानेक शुभकामनाएं व बधाई। 'लाइव आर्यावर्त' परिवार आज़ादी के उन तमाम वीर शहीदों और सेनानियों को कृतज्ञता पूर्ण श्रद्धासुमन अर्पित करते हुए नमन करता है। आइए , मिल कर एक समृद्ध भारत के निर्माण में अपनी भूमिका निभाएं। भारत माता की जय। जय हिन्द।

सोमवार, 8 अगस्त 2022

आलेख : दूसरों को हीरो बनाने वाले गुमनाम हीरो

Raju with parents
अद्भुत नायक के बारे में मेरा यह लेख 28 वर्षीय राजू केंद्रे पर आधारित है, जो पूरी तरह से वित्त पोषित शेवनिंग छात्रवृत्ति पर लंदन के एक विश्वविद्यालय SOAS में विकासात्मक अध्ययन की पढ़ाई कर रहा है और 2017 से महाराष्ट्र के यवतमाल जिले में अपने संगठन एकलव्य इंडिया को मजबूत करने के लिए काम कर रहा है. राजू के अनुसार "मैं विदर्भ के ग्रामीण क्षेत्र के एक खानाबदोश जनजाति से संबंध रखता हूं, जो किसानों की समस्याओं और उनकी आत्महत्याओं के कारण जाना जाता है." वह कहते हैं कि "मेरे माता-पिता साधारण किसान हैं, लेकिन उन्होंने हमेशा उच्च शिक्षा हासिल करने के लिए मेरा समर्थन किया है. वे वंचित समुदाय के बच्चों को कंप्यूटर शिक्षा प्रदान करने की कोशिश कर रहे हैं. विशेषकर विकास के क्षेत्र में उच्च शिक्षा प्राप्त करने के लिए गैर-अंग्रेजी और मध्यम पृष्ठभूमि वाले समुदाय के बच्चों पर उनका ख़ास फोकस है.


Raju with students
वह उस परिस्थिति को याद करते हैं जिसने उन्हें एकलव्य संगठन शुरू करने के लिए प्रेरित किया था. जो अब पहली पीढ़ी को नेतृत्व सीखने के लिए तैयार कर रही है. वे आगे कहते हैं, “टाटा इंस्टीट्यूट ऑफ सोशल स्टडीज से मास्टर्स करने के बाद मुख्यमंत्री फेलोशिप मुझे यवतमाल ले गई जहां मैंने एक कॉलेज में पढ़ाना शुरू किया. साथ ही मैंने छात्रों को सलाह देना भी शुरू कर दिया और उनके लिए उच्च शिक्षा के लिए अधिक सुलभ मार्ग पर काम करने का फैसला किया. वह कहते हैं कि "मैं पहली बार 2009 में अपने उच्च अध्ययन के लिए पुणे गया था, अपने अनुभव का उपयोग करके मुझे नियमित पाठ्यक्रमों के बजाय दूरस्थ शिक्षा का विकल्प सिर्फ इसलिए चुनना पड़ा, क्योंकि मुझे समय पर छात्रावास नहीं मिल सका." उनके जीवन पर बाबा साहब अंबेडकर, सावित्रीबाई फुले, ज्योति राव फुले, शाहू महाराज, कर्मवीर भाऊराव पाटिल, डॉ. पंजाब राव देशमुख का गहरा प्रभाव पड़ा है। उन्होंने जोर देकर कहा कि पिछड़े वर्ग के उत्थान के लिए शिक्षा बहुत महत्वपूर्ण है और यह उस समाज के विकास के लिए एक आवश्यक उपकरण है।  सीधे शब्दों में कहें तो "एक समुदाय के छात्रों के लिए अच्छी गुणवत्ता वाली शिक्षा तक पहुंच का संबंधित समुदाय और समाज पर व्यापक प्रभाव पड़ेगा." उन्होंने कहा कि "मुख्य रूप से पिछड़े समुदायों का झुकाव शिक्षा की ओर नहीं रहा था क्योंकि उन्हें ऐतिहासिक रूप से इससे बाहर रखा गया था. यही कारण है कि पिछड़ी जाति वर्ग के अधिकांश छात्र इस संस्था के शिक्षार्थी हैं. उन्होंने आगे कहा "समाज की उच्च जातियों के बारे में एक बात यह है कि यद्पि उनके पास कृषि संसाधनों की प्रचुरता नहीं है, फिर भी वे ज्ञान के सभी क्षेत्रों में अधिकार रखते हैं और उच्च पदों पर काबिज़ हैं. ऐसे में हमें अपने वंचित समुदायों के लोगों को IIT और IIM जैसे बड़े संस्थानों में प्रोफेसर, पत्रकारिता, मीडिया, कला, संस्कृति, व्यवसाय, वकील और न्यायाधीश बनाने की आवश्यकता है. यह सब शिक्षा से ही संभव है.


Rju in Kendre
राजू का संगठन एकलव्य ने पिछले चार वर्षों में लगभग 350 वंचित छात्रों को प्रतिष्ठित विश्वविद्यालयों में प्रवेश दिलाने में मदद की है, पूर्व छात्र अक्सर नए छात्रों को सलाह देते हैं. राजू कहते हैं, "मैंने जिन छात्रों को कोचिंग दी, उनके साथ यह एक जीवंत अनुभव था, वे मेरे संघर्षों को देखते हैं कि मैंने कैसे काम किया और पढ़ाई की, और मैंने क्या हासिल किया।" अप्रैल में डॉ. बाबासाहेब अम्बेडकर जयंती के अवसर पर उनकी संस्था ने एक बड़ी छलांग लगाते हुए ग्लोबल स्कॉलर्स प्रोग्राम लॉन्च किया. जिसमें पहली पीढ़ी के शिक्षार्थियों और वंचित समुदायों के छात्रों के लिए एक परामर्श कार्यक्रम शुरू किया गया है. प्रमुख कार्यक्रम के बारे में बात करते हुए, राजू कहते हैं, “यहां तक कि SOAS जैसे प्रगतिशील संस्थान में भी, जहां शिक्षा का लोकतंत्रीकरण किया गया है, ऐतिहासिक रूप से पिछड़े वर्ग, अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति और अन्य पिछड़ा वर्ग के 10% छात्र ही नामांकन करा पाते हैं. लगभग 90% लोग विशेषाधिकार प्राप्त पृष्ठभूमि से आते हैं जो अपने दादा के बारे में भी उनके जैसे उच्च संस्थानों में पढ़ने की बात करते हैं. लेकिन यह वंचित समुदाय ऐसे इसलिए नहीं कर पाते हैं क्योंकि उनके पूर्वजों को यह अवसर प्राप्त नहीं हो सका था. उन्होंने कहा कि हम केवल यह चाहते हैं कि ऐतिहासिक रूप से वंचित समुदायों के छात्रों की संख्या बढ़ाई जाए और वे विदेशों में प्रमुख संस्थानों में आवेदन करें और प्रवेश पाएं।"


राजू के अनुसार, इन छात्रों को उच्च शिक्षा प्राप्त करने में सबसे बड़ी बाधाओं में से एक धन की कमी है. वंचित पृष्ठभूमि के छात्रों के लिए सीमित छात्रवृत्ति के साथ, विदेशों में उच्च शिक्षा के लिए यह बहुत ही अतिरंजित हो जाता है। ऐतिहासिक रूप से वंचित वर्गों के छात्रों के प्रतिनिधित्व में सुधार के लिए केंद्र सरकार की योजनाओं को और अधिक विस्तार देने और अधिक से अधिक छात्रवृत्ति प्रदान करने की आवश्यकता है. उनकी संस्था एकलव्य के माध्यम से छात्रों को सलाह और प्रशिक्षण प्रदान करने की योजना है ताकि यूके और अन्य यूरोपीय विश्वविद्यालयों में स्नातकोत्तर अध्ययन के लिए तथा विदेशी शिक्षा के लिए छात्रवृत्ति आवेदनों पर मार्गदर्शन प्रदान किया जा सके. इस वर्ष अगले दो वर्षों में वित्त, डेटा विज्ञान, एसटीईएम और पीएचडी के विस्तार के उद्देश्य से मानविकी, कानून और मीडिया पाठ्यक्रमों पर ध्यान केंद्रित किया गया है. राजू कहते हैं कि ''वंचित समुदायों और क्षेत्रों के लोगों में काफी संभावनाएं हैं. हमें इन प्रतिभाओं को विकसित करने और उन्हें सही दिशा देने की आवश्यकता है.” वे पूरे विश्वास के साथ कहते हैं, "मेरा विचार है कि शिक्षित युवा ही एक विकसित राष्ट्र का विकास कर सकते हैं और नेतृत्व में महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकते हैं." 



मिथिला नायक साटम
मिथिला नायक साटम

महाराष्ट्र

(चरखा फीचर)

कोई टिप्पणी नहीं: