प्रतापगढ़ : जिला कारागृह पर किया जागरूकता शिविर आयोजन - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

विजयी विश्व तिरंगा प्यारा , झंडा ऊँचा रहे हमारा। देश की आज़ादी के 75 वर्ष पूरे होने पर सभी देशवासियों को अनेकानेक शुभकामनाएं व बधाई। 'लाइव आर्यावर्त' परिवार आज़ादी के उन तमाम वीर शहीदों और सेनानियों को कृतज्ञता पूर्ण श्रद्धासुमन अर्पित करते हुए नमन करता है। आइए , मिल कर एक समृद्ध भारत के निर्माण में अपनी भूमिका निभाएं। भारत माता की जय। जय हिन्द।

मंगलवार, 9 अगस्त 2022

प्रतापगढ़ : जिला कारागृह पर किया जागरूकता शिविर आयोजन

pratapgarh-news
प्रतापगढ़, राजस्थान राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण जयपुर के निर्देशानुसार, प्रतापगढ़ जिला विधिक सेवा प्राधिकरण द्वारा आदिवासी दिवस के अवसर पर प्रतापगढ़ जिला कारागृह पर जागरूकता शिविर का आयोजन किया गया। प्राधिकरण सचिव ने कारागृह में बंदीजनों को आदिवासियों के अधिकारों की जानकारी प्रदान करते हुए उन्हें अपने अधिकारों का मंथन करने हेतु प्रेरित किया। प्राधिकरण सचिव शिवप्रसार तम्बोली (अपर जिला एवं सेशन न्यायाधीश) ने उपस्थित बंदीजनों को बताया कि भारतीय संविधान में विधि का समान संरक्षण का प्रावधान है। इसलिये आदिवासियों के कल्याणार्थ केन्द्र व राज्य सरकार द्वारा विभिन्न कल्याणकारी योजनाएं संचालित है। प्राधिकरण सचिव ने बताया कि आदिवासियों हेतु एस.सी./एस.टी. एक्ट बनाया गया है, साथ ही प्रत्येक जिले में विशेष न्यायालय भी स्थापित है। प्राधिकरण सचिव ने उपस्थित बंदीजनों के कानूनी अधिकारों के बारे में भी बताया। इसी के साथ अनुसूचित जनजाति और अन्य परम्परागत वन निवासी (वन अधिकारों की मान्यता) अधिनियम 2006 (थ्त्।), अनुसूचित जाति एवं अनुसूचित जनजाति (अत्याचार निवारण) अधिनियम 1989, निःशुल्क और अनिवार्य शिक्षा (त्ज्म्), भूमि अर्जन, पूनर्वासन और पुनर्व्यवस्थापन में उचित प्रतिकर और पारदर्शिता अधिकार अधिनियम 2013, पंचायत के प्रावधान (अनुसूची क्षेत्रों में विस्तार) अधिनियम 1996 (च्म्ै।), भारतीय संविधान की पांचवीं एवं छठी अनुसूची आदि कानूनों के बारे में भी जागरूक किया। आदिवासियों की भूमि को यदि सरकार अधिगृहित करती है तो इसके बदले वे वाजिब मुआवजा प्राप्त करने के अधिकारी हैं। आदिवासी समुदाय के प्रत्येक नागरिक को आज आदिवासी दिवस पर अपने बच्चों को अनिवार्य शिक्षा से जोड़ने हेतु कृतसंकल्पित होना चाहिये। यदि उनके बच्चों की शिक्षा अर्जन हेतु गांव-ढाणी, स्कूल आदि किसी भी प्रकार की समस्या हो तो वे प्राधिकरण से सम्पर्क कर सकते हैं।  उपस्थित बंदीजनों को उनके रहने, खाने-पीने आदि सुविधाओं के बारे में उपस्थित जेल स्टॉफ से वार्ता की तथा जनजातियों के विधिक अधिकारों के बारे में चर्चा की। आदिवासियों को उनकी उपज का वाजिब दाम मिले, इसके लिये मार्केटिंग के बारे में बताया। आदिवासियों को टीएसपी क्षेत्र में नौकरियों में प्राप्त आरक्षण के बारे में बताया गया। आदिवासियों के कौशल विकास में बढ़ोतरी हो इस संबंध में बड़ौदा स्वरोजगार संस्थान द्वारा अगरबत्ती बनाना, सिलाई सीखने, साबून, पापड़, वर्मी कम्पोस्ट, मोबाईल रिपेयरिंग का प्रशिक्षण दिया जाता है। जिसका लाभ आदिवासियों द्वारा उठाया जाना चाहिये।

कोई टिप्पणी नहीं: