मधुबनी : महंगाई , बढ़ती बेरोजगारी के खिलाफ प्रतिरोध मार्च - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

विजयी विश्व तिरंगा प्यारा , झंडा ऊँचा रहे हमारा। देश की आज़ादी के 75 वर्ष पूरे होने पर सभी देशवासियों को अनेकानेक शुभकामनाएं व बधाई। 'लाइव आर्यावर्त' परिवार आज़ादी के उन तमाम वीर शहीदों और सेनानियों को कृतज्ञता पूर्ण श्रद्धासुमन अर्पित करते हुए नमन करता है। आइए , मिल कर एक समृद्ध भारत के निर्माण में अपनी भूमिका निभाएं। भारत माता की जय। जय हिन्द।

रविवार, 7 अगस्त 2022

मधुबनी : महंगाई , बढ़ती बेरोजगारी के खिलाफ प्रतिरोध मार्च

madhubani-mahagathbandhan-protest
मधुबनी, आज महागठबंधन द्वारा आहूत मोदी सरकार की गलत नीतियों के कारण देश मे कमरतोड़ महंगाई , बढ़ती बेरोजगारी ,आवश्यक बस्तुओं पर गब्बर सिंह टैक्स जीएसटी, देश के सुरक्षा के साथ खेलवाड़ करने बाली अग्निवीर योजनाओं के खिलाफ एवं सम्पूर्ण विहार को सुखा क्षेत्र घोषित करने को लेकर जिलाध्यक्ष प्रो शीतलाम्बर झा के नेतृत्व में सैकड़ों की संख्याओं में कांग्रेस के कार्यकर्ताओं ने शहर में प्रतिरोध मार्च एवं जिला समाहरणालय पर सभा मे भाग लिया । सभा को सम्बोधित करते हुए कांग्रेस जिलाध्यक्ष प्रो झा ने कहा जब से देश मे मोदी की सरकार आई है कमरतोड़ महंगाई लाई है, सरकार के गलत नीतियों के कारण आज देश मे बेरोजगारी काफी बढ़ी है 45 वर्षों का रिकॉर्ड को तोड़ दिया है लोग रोजगार के लिए दर दर की ठोकर खा रहें है केंद्र और राज्य सरकार के अधीन करोड़ों पद रिक्त रहते हुए भी शिक्षित नौजावनों को नौकर नही मिल रही है आजाद भारत में पहली बार अनाज पर भी मोदी सरकार टैक्स लगा दिया है लोगों के आवश्यक बस्तुओं दूध दही पनीर कपड़ा बच्चों के पढ़ने की सामग्री कागज, पेन्सिल, किताब पर भी जीएसटी लगा कर महंगी कर दिया ,वहीं पहले से ही लोगों को डीजल, पेट्रोल, रसोई गैस सिलेंडर का दाम बढ़ाकर कमरतोड़ दिया है, मोदी सरकार अपने पूंजीपति मित्रों को लगभग दस लाख करोड़ रुपये मांफ किया है उसमें देश के भगौड़ा बैंक को लूटने बाला मेहुल चौकसी को सबसे ज्यादा माँफी दिया है जो शर्मनाक है। कार्यक्रम में ज्योति झा, मनोज कुमार मिश्रा, वीरेंद्र झा, मो सबीर, अविनाश झा, अजहर खुर्शीद गुड्डू, रणधीर सेन, मुकेश कुमार झा पप्पू, आलोक कुमार झा, संजय झा, श्रीराम मंडल, अमानुल्लाह खान, रामचंदर साह, सुजीत यादव, मो इंतजार, मोहन कुमार, बालेश्वर पासवान, शुशील झा, बिनय झा, राजीव शेखर झा, प्रमुख रूप से भाग लिए।

कोई टिप्पणी नहीं: