झाबुआ (मध्य प्रदेश) की खबर 02 अगस्त - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

विजयी विश्व तिरंगा प्यारा , झंडा ऊँचा रहे हमारा। देश की आज़ादी के 75 वर्ष पूरे होने पर सभी देशवासियों को अनेकानेक शुभकामनाएं व बधाई। 'लाइव आर्यावर्त' परिवार आज़ादी के उन तमाम वीर शहीदों और सेनानियों को कृतज्ञता पूर्ण श्रद्धासुमन अर्पित करते हुए नमन करता है। आइए , मिल कर एक समृद्ध भारत के निर्माण में अपनी भूमिका निभाएं। भारत माता की जय। जय हिन्द।

मंगलवार, 2 अगस्त 2022

झाबुआ (मध्य प्रदेश) की खबर 02 अगस्त

आजादी के 75वें अमृत महोत्सव अंतर्गत शासकीय उत्कृष्ट उमा विद्यालय में स्वतंत्रता संग्राम सेनानी के परिवारजनो का किया गया अभिनंदन

  •  मनोहर मोदी एवं अशोकुमार देवल को अतिथियों ने भारत माता की तस्वीर की भेंट

jhabua-news
झाबुआ। आजादी के 75वें अमृत महोत्सव के तहत स्थानीय उत्कृष्ट उमा वि़द्यालय परिसर में मप्र शिक्षक संघ की ओर से स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों के परिवारजनों का सम्मान समारोह रखा गया। जिसमें मुख्य वक्ता के रूप में वरिष्ठ शिक्षाविद् ओमप्रकाश शर्मा उपस्थित थे एवं मुख्य अतिथि के तौर पर संस्था प्राचार्य महेन्द्रकुमार खुराना मौजूद रहे। प्रारंभ में अतिथियों का स्वागत मप्र शिक्षक संघ के पदाधिकारियों ने किया। स्वागत उद्बोधन संघ के जिला कोषाध्यक्ष मोहनलाल राठौर ने दिया। बाद संक्षिप्त उद्बोधन में वरिष्ठ शिक्षाविद् ओम शर्मा ने कहा कि हमे हमारे जिले के स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों पर गर्व है, जिन्होंने देश की आजादी में अपना अमूल्य सहयोग प्रदान किया। आजादी का 75वां अमृत महोत्सव भारत सरकार के निर्देश पर पूरे देशभर में मनाया जा रहा है। यह अमृत महोत्सव भारत की आजादी के गुणगान और शहीदों, सैनानियों तथा वीरों को याद करने का अवसर प्रदान करता है। मुख्य अतिथि प्राचार्य श्री खुराना ने कहा कि स्वतंत्रता संग्राम सेनानी हमारा गौरव है और पूरे राष्ट्र को उन पर गर्व है।


इनका किया गया सम्मान

बाद सम्मान के क्रम में जिले के स्वंतत्रता संग्राम सेनानी रहे स्व. श्री सागरमल मोदी के परिवारजनों में मनोहर मोदी तथा स्व. श्री जमनालाल देवल के परिवारजनों में उनके पुत्र अशोकुमार देवल का अभिनंदन अतिथियों ने शाल-श्रीफल और भारत माता की तस्वीर भेंटकर कर किया। कार्यक्रम का संचालन वरिष्ठ शिक्षक हरिश कुंडल ने किया एवं आभार राकेश परमार ने माना। ज्ञातव्य रहे कि मप्र शिक्षक संघ द्वारा प्रदेश स्तरीय आव्हान पर यह आयोजन संपूर्ण जिले में अलग-अलग विद्यालयों में कर स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों के परिवारजनों का सम्मान कर उनके जीवन पर प्रकाश डाला गया। कार्यक्रम में बड़ी संख्या में स्कूली छात्र-छात्राएं उपस्थित थे।


अंर्तराष्ट्रीय स्तनपान सप्ताह के उपलक्ष में इनरव्हील क्लब ऑफ झाबुआ शक्ति द्वारा आंगनवाड़ी में किया गया कार्यक्रम, गर्भवती महिलाओं को स्तनपान के बारे में जानकारी देते हुए पौष्टिक आहार का हुआ वितरण


jhabua-news
झाबुआ। प्रतिवर्ष अंतरराष्ट्रीय स्तनपान सप्ताह पूरे विश्व में 1 से 7 अगस्त तक मनाया जाता है। स्तनपान सप्ताह के प्रथम दिन 1 अगस्त, सोमवार को इनरव्हील क्लब ऑफ झाबुआ शक्ति द्वारा आंगनवाड़ी केंद्र में जाकर कार्यक्रम का आयोजन कर स्तनपान के महत्व के बारे में गर्भवती महिलाओं और माताओं को जानकारी दी गई। इस दौरान उन्हें पौष्टीक आहार भी प्रदान किए गए। जानकारी देते हुए इनरव्हील क्लब ऑफ झाबुआ शक्ति की अध्यक्ष हंसा कोठारी एवं सचिव निक्की जैन ने बताया कि पिछले 5 वर्षों से सत्त क्लब द्वारा स्तनपान सप्ताह मनाया जा रहा है। जिसका उद्देश्य अशिक्षित एवं अजागरूक महिलाओं को नवजात शिशुआंे के शारीरिक-मानसिक विकास के लिए माता का दूध कितना अनिवार्य है, इसके बारे जागरूक करना तथा उन्हंे पोष्टीक सामग्री का भी वितरण करना है। इसी के अंतर्गत 1 अगस्त को क्लब द्वारा आंगनवाड़ी में जाकर गर्भवती महिलाओं और नवजात शिशु की माताओं के बीच स्तनपान सप्ताह मनाया गया।


मां का दूध शिशु के लिए अमृत के समान

इस दौरान क्लब की संस्थापक अध्यक्ष डॉ. शैलू बाबेल एवं पूर्व अध्यक्ष रितु सोड़ाणी तथा रक्षा गादिया ने स्तनपान के महत्व और गर्भवती महिलाओं को आहार संबंधी खानपान तथा इससे उचित सावधानी रखने को बहुत ही सरल तरीके से बताया गया। डॉ. शैलू बाबेल ने बताया कि मां का दूध शिशुओं के लिए अमृत के समान होता है। वह बच्चों में कई बीमारियों से लड़ने की क्षमता विकसित करता है। अगर कामकाजी महिला अपना दूध सुरक्षित रखती है तो वह 6 घंटे तक खराब नहीं होता है। स्तनपान कराने से मां का शरीर स्वस्थ रहने के साथ बच्चे का भी शारीरिक एवं मानसिक विकास तेजी से होता है।


सामग्रीयों का किया वितरण

बाद यहां सभी महिलाओं को क्लब की ओर से आयरन-कैल्शियम दवाईयां, दलिया, सेवफल, मिठाई, केले, खोपरा गोला, खारक आदि का वितरण किया गया। कार्यक्रम में आंगनवाड़ी केंद्र की श्रीमती संगीता गुप्ता एवं संगीता सोनी ने भी विशेष सहयोग प्रदान किया। इस अवसर पर क्लब की संस्थापक अध्यक्ष डॉ शैलू बाबेल, अध्यक्ष हंसा कोठारी, सचिव निक्की जैन, भूतपूर्व अध्यक्ष रितु सोड़ाणी के साथ उपाध्यक्ष प्रीति चौधरी, कोषाध्यक्ष परी गादिया, क्लब सदस्य रक्षा गादिया, नेहा संघवी, दीपा सोनी एवं मोना राठौर आदि उपस्थित थी।


भाजपा के जिला पंचायत वार्ड क्रमांक 2 के   बहादुर हटीला के साथ जीते हुए प्रत्याशियों ने कार्यकर्ताओं का आभार जताने पहुंचे पिटोल’


jhabua-news
पिटोल । त्रिस्तरीय  पंचायत चुनाव के परिणाम के बाद जिला पंचायत जनपद पंचायत एवं ग्राम पंचायतों मैं भाजपा के जीते हुए प्रत्याशी सरपंच पंच जनपद प्रतिनिधि एवं जिला पंचायत के प्रतिनिधियों द्वारा हॉस्पिटल पहुंचकर अपनी मेहनतकश कार्यकर्ताओं का मिठाई खिलाकर मुंह मीठा कराकर आभार जताया । जिला पंचायत झाबुआ वार्ड नंबर २ के नव निर्वाचित सदस्य  बहादुर  हटीला आज पिटोल कार्यकर्ताओं से मिले।।पिटोल मंडल के कार्यकर्ताओं द्वारा स्वागत किया।। बहादुर  द्वारा सभी कार्यकर्ताओ को मिठाई खिला कर आभार व्यक्त किया।   इस दौरान वरिष्ठ भाजपा नेता  आदरणीय  विजय नायर, झाबुआ जिला उपाध्यक्ष  भानू  भूरिया,पूर्व झाबुआ मंडल अध्यक्ष  बबलू  सकलेचा,  इरसाद  कुरैशी,  कल्याण जी डामोर, महेंद्रसिंह ठाकुर, पिटोल मंडल अध्यक्ष श्री दिनेश  मेवाड़, श मकनसिंह  गुंडिया,  चुनीया  गुंडिया,  विनोद  पांचाल,  विनोद   गाबा,  अमित  वसुनिया, बलवंत मेड़ा,श्री प्रियल  मेड़ा,प्रतीक शाह,सुमेरसिंह  बबेरिया,विक्रम  नायक,किशन  नागर, मुकेश  डामोर,संदीप शर्मा,अतुल चौहान,धनराज  आदि कार्यकर्ता उपस्थित रहें।।


अखिल भारतीय क्षत्रिय महासंघ की मातृशक्तियों ने तहसील कार्यालय परिसर में किया पौधारोपण, हरियाली को बढ़ावा देने का दिया संदेश, सभी महिलाएं एक जैसे परिधानों में सम्मिलित हुई


jhabua-news
झाबुआ। अखिल भारतीय क्षत्रिय महासंघ द्वारा वर्षाकाल में पर्यावरण को बढ़ावा देने के उद्देश्य से 1 अगस्त, सोमवार को तहसील कार्यालय झाबुआ के परिसर में पौधारोपण कार्यक्रम का आयोजन किया गया। जिसमें महासंघ से जुड़ी समस्तृ मातृ शक्तियों ने एक जैसे ड्रेस-कोड में सम्मिलित होकर कार्यालय परिसर में विभिन्न फलदार एवं छायादार पौधो का रोपण किया। अभा क्षत्रिय महासंघ की बहनों ने तहसीलदार झाबुआ आशीष राठौर जी से अनुमति प्राप्त कर तहसील परिसर में अशोक, आम, जामफल, नीम, पीपल आदि के पौधों का रोपण करते हुए शहरवासियों को हरियाली को बढ़ावा देने का संदेश दिया गया। पौधारोपण कार्यक्रम की मुख्य विशेषता यह रहीं कि जहां पौधों का रोपण हुआ, वहां पहले खरपतवार हटाकर स्थान को साफ कर मातृ शक्तियांे ने स्वयं गड्ढ़े खोदे, तत्पश्चात वहां पर पौधे रोपे।


इनकी रहीं सहभागिता

उक्त कार्यक्रम में अभा क्षत्रिय महासंघ की प्रदेश उपाध्यक्ष डॉ अर्चना राठौर, जिलाध्यक्ष रेखासिंह राठौर, उषा पंवार, पूजा जादौन, रेनू कछावा, निर्मला सिसौदिया, रागिनी राठौर, हंसा झाला, मनीषा राठौर, दीपिका चौहान, मीनाक्षी चौहान सहित समाज की कई पुत्र वधुओं के साथ अनेक क्षत्राणियों ने उपस्थित होकर आयोजन को सफल बनाया। ज्ञातव्य रहे कि महासंघ की पूर्व जिलाध्यक्ष डॉ. अर्चना राठौर की अनुशंसा पर राष्ट्रीय अध्यक्ष पुष्पेंद्रसिंह की सहमति से प्रदेश अध्यक्ष प्रतिभासिंह द्वारा श्रीमती रेखासिंह राठौर को पूर्व में कोरोना काल में जिलाध्यक्ष बनाया गया था किंतु उस दौरान आपातकाल के चलते विपरित परिस्थितियां होने से अधिक कार्यक्रम नहीं हो सके। रेखासिंह राठौर के कार्यकाल के प्रथम कार्यक्रम में राजपूत समाज के वरिष्ठ स्व. गोविंदसिंह पंवार को श्रद्धांजलि अर्पित की गई थी। बाद यहां दूसरा कार्यक्रम किया गया है।


नवीन कार्यकारिणी की होगी घोषणा

इस अवसर पर डॉ. अर्चना राठौर ने आगामी बैठक की घोषणा की। जिसमें जिलाध्यक्ष रेखासिंह राठौर द्वारा उनकी नवीन कार्यकारिणी बनाई जाएगी। इस दौरान श्रीमती राठौर ने समस्त बहनों को आश्वस्त करते हुए कहा कि वे कार्यकारिणी बनने के पश्चात अत्यंत ही तीव्र गति से समाज की बहनों को जोड़कर अभा क्षत्रिय महासंघ के बैनर तले वर्षभर के कैलेंडर अनुसार कई नवीन आयोजन करेंगी। उन्होंने समस्त मातृशक्तियों सेे आवाहन किया कि वे आगामी बैठक की सूचना मिलने पर अवश्य पधारे और एकजुटता का परिचय दे।


भारतीय स्त्री संगठन एवं खाद्य सुरक्षा प्रशासन ने मोटे अनाज पर आधारित पौष्टिक व्यंजन प्रतियोगिता का किया आयोजन, विजेता प्रतिभागियों को प्रमाण पत्र देकर किया गया सम्मानित


jhabua-news
झाबुआ। भारतीय स्त्री शक्ति संगठन झाबुआ एवं खाद्य सुरक्षा प्रशासन के सयुंक्त तत्वावधान में मोटे अनाज पर आधारित पौष्टिक व्यंजन प्रतियोगिता 31 जुलाई, रविवार को स्थानीय हाउसिंग बोर्ड कॉलोनी स्थित केशव विद्यापीठ पर दोपहर 12 से 2 बजे तक आयोजित की गई। जिसमें कुल 23 प्रतिभागियों ने सहभागिता की। प्रतियोगिता की विजेता बहनों को प्रशासन द्वारा आयोजित ष्इट राइट फूडष् मेले में स्टॉल मिलेगी। जिसमें व्यंजन हेतु कच्ची सामग्री खाद्य विभाग देगा। मेले में बिक्री की राशि विजेता प्रतिभागी को ही प्राप्त होगी। प्रतियोगिता बाद विजेता बहनांे को भारतीय स्त्री शक्ति द्वारा पुरस्कार से सम्मानित किया गया। खाद्य विभाग ने सभी प्रतिभागियों को प्रमाण-पत्र एवं पौधे वितरित किए। नई कार्यकारिणी का यह प्रथम कार्यक्रम था। ’सामग्री में शुद्धता जांचने के तरीके बताए, इस दौरान खाद्य विभाग के अधिकारी राहुलसिंह अलावा ने खाद्य सामग्री में शुद्धता जाँचने के तरीके बताए। किस प्रकार की मिलावट होती है, इसके बारे में जानकारी दी। निर्णायक के रूप में डॉ. आईएस चौहान व डॉ. प्रियंका जादौन थी। इस अवसर पर संध्या कुलकर्णी ने मोटे अनाज की रंगोली बनाई।


इनका रहा विशेष सहयोग

संपूर्ण आयोजन में स्त्री शक्ति की जिलाध्यक्ष प्रवीणा माथुर, जिला सचिव अर्चना सिसोदिया, अंजू शर्मा, पूजा माथुर, कीर्ति देवल, वंदना नायर, सुरभि शास्त्री, लता देवल, नीता यादव, रुक्मिणी वर्मा, रेणु चौहान की भूमिका महत्वपूर्ण रहीं। ज्योति बैरागी ने आयोजन में सेतु का कार्य किया। संचालन भारतीय स्त्री शक्ति की प्रदेशाध्यक्ष किरण शर्मा ने किया।


थांदला रोड़ पर खुला पहला ऑन लाइन मेडी सेवा चिकित्सा केंद्र, कमला डामोर के प्रयासों से मिली सुविधा


थांदला। ग्रामीण अंचल में शिक्षा व जागृति के आभाव के कारण ग्रामीणों को अनेक बीमारियों में परेशानियों का सामना करना पड़ता है। इससे निजात दिलाने कमला डामोर के प्रयासों से भारत सरकार के उपक्रम को बढ़ावा देते हुए एनजीओ एनआईसीटी द्वारा संचालित मेडी सेवा केंद्र का आज थांदला रोड़ पर शुभारम्भ किया गया। जानकारी देते हुए संस्था के प्रमोटर विलास कामठे व राकेश पटेल ने बताया कि अंचल के ग्रामीणों को अब इस केंद्र पर न्यूनतम शुल्क पर ऑन लाइन चिकित्सा सुविधा मिल सकेगी। अंचल के ग्रामीण अब अपनी बीमारी के अनुसार संस्था से जुड़े विशेषज्ञ डॉक्टरों से परामर्श लेकर ईलाज करवा सकेंगे। इसके लिए उन्हें मेडिक्लेम व आयुष्मान सुविधा भी दी जाएगी। थांदला रोड़ केंद्र संचालिका कमला डामोर ने बताया कि ग्रामीण महिलाओं को अपनी परेशानी बताने में दिक्कत आती थी व वे कहाँ जाए यह भी समस्या रहती थी जिसमें मेडी सेवा चिकित्सा सेवा केंद्र बहुत उपयोगी होगा अब हर मरीज देश के बड़े शहरों के डॉक्टरों से सीधा संवाद कर सकेगा। इस अवसर पर डॉ. अभिषेक कुस्तवार व डॉ. अवनी शर्मा ने उपस्थित ग्रामीणों के स्वास्थ्य परीक्षण कर उचित पर परामर्श दिया।


प्रदेश की षिवराजसिंह को पेंषनरों से क्यों है इतनी इलर्जी- राज्य के  कर्मचारियों को कर रही माला-माल जो पेंषनरों से इतनी दुर्भावना क्यो ?


झाबुआ ।  प्रदेश भर के पेंशनर्स प्रदेश की शिवराजसिंह सरकार द्वारा अपने कर्मचारियों को फिर से महंगाई भत्ता स्वीकृत किया जाचुका है, तथा उनका महंगाइ्र भत्ता 37 प्रतिशत कर दिया गया है , किन्तु प्रदेश के 5 लाख से अधिक पेंशनर्स आज भी 17 प्रतिशत महंगाई राहतपर अटके है तथा कर्मचारियों की तुलना में पेंशनरों को आधी राहत भी नही मिलपा रही है। इससे क्षुब्ध होकर मध्यप्रदेश सरकार से राज्य शासन के कर्मचारियों की तरह ही उन्हे भी महंगाई भत्ता दिये जाने की मांग कर रहे हैे । उक्त बात  जिला पेंशनर्स एसोसिएशन के  जिला अध्यक्ष अरविन्द व्यास ने बताते हुए कहा कि प्रदेश सरकार को सैकडो बार ज्ञापन देने, एवं धरनाप्रदेशन कर मांग पत्र देने के बाद भी सरकार के कान पर जू नही रेंग रही है । उन्होने बताया कि छत्तीसगढ सरकार भी प्रदेश के पेंशनरों को आर्थिक नुकसानी देने में पीछे हेै । प्रदेश के बुजुर्ग पेंशनरों से सरकार को दुर्भावना क्यो है, यह भी मनन का विषय है । धारा 49 का दोनों सरकारे ही पेंशनरों के आर्थिक शोषण के लिये उपयोग कर रही है । छत्तीसगढ सरकार ने 5 प्रतिशत राहत राशि देने के लिये जो पत्र जारी किया है ,उसके पैरा 2 को ध्यान से पढा जावे तो , छत्तीसगढ़ सरकार ने जो सहमति दी है उसमें साफ लिखा है कि मध्यप्रदेश पुनर्गठन 2000 की धारा 49 के अनुसार केवल पूर्व मध्यप्रदेश के पेंशनरों को दिनांक 1.मई-20.22 से 22 प्रतिशत महंगाई राहत स्वीकृत करने के लिये छत्तीसगढ़ सरकार सहमत हैं। इसका मतलब साफ है कि छत्तीसगढ़ गठन के बाद अर्थात वर्ष 2000 के बाद मध्यप्रदेश में सेवानिवृत्त पेंशनरों पर पेंशन भार बंटवारे का यह अधिनियम या इसकी धारा 49 लागू ही नहीं होती है । वर्ष 2000 के बाद के मध्यप्रदेश के पेंशनरों की महंगाई राहत वृद्धि का पूरा भार केवल और केवल मध्यप्रदेश सरकार की जिम्मेदारी है, तब छत्तीसगढ़ की सहमति के बहाने वर्ष 2000 के बाद के पेंशनरों को भी महंगाई राहत स्वीकृत नहीं करना, छत्तीसगढ़ की स्वीकृति के बहाने सरकार का पेंशनरों के साथ छल है। छत्तीसगढ़ में कर्मचारियों/पेंशनरो की चालू प्रांतव्यापी हड़ताल के दबाव में छत्तीसगढ़ सरकार ने दिनांक 01.05.22 से केवल 22ः महंगाई राहत स्वीकृती का यह पत्र दि. 26.07.22 को जारी कर इसमें पूर्व मध्यप्रदेश (छत्तीसगढ़ बनने के पहले के मध्यप्रदेश के) पेंशनरों के लिए भी 22ः महंगाई राहत स्वीकृती पर सहमति सूचित की है। मध्यप्रदेश सरकार का भावी संभावित कदम भी अब अपने पेंशनरों को भी दिनांक 1.05.22 से केवल 22 प्रतिशत महंगाई राहत घोषित करने का हो सकता है, जबकि केंद्र  द्वारा स्वीकृत 40 प्रतिशत महंगाई राहत से हम अभी बहुत पीछे हैं,दूसरा केंद्र के अनुरूप महंगाई राहत के एरियर के संबंध में भी प्रदेश सरकार मौन है। श्री व्यास के अनुसार अभी तक की स्थिति यह है कि केंद्र सरकार के 2017 के निर्देश अनुसार राज्य पुनर्गठन 2000 की धारा 49 के अनुसार मध्यप्रदेश सरकार को अपने पेंशनरों को महंगाई राहत घोषित करने छत्तीसगढ़ सरकार से सहमति की कोई आवश्यकता है ही नहीं, दूसरे छत्तीसगढ़ सरकार के उपरोक्त पत्र से भी साफ है कि छत्तीसगढ़ सरकार द्वारा राज्य पुनर्गठन के पूर्व मध्यप्रदेश के पेंशनरों के संबंध में ही सहमति जारी की है क्योंकि राज्य पुनर्गठन विधेयक 2000 के बाद के मध्यप्रदेश के पेंशनरों के‌ संबंध में छत्तीसगढ़ का कोई दायित्व है ही नहीं । इन पेंशनरों की महंगाई राहत का पूरा भार मध्यप्रदेश सरकार की जिम्मेदारी है। हममें से अधिकांश वर्ष 2000 के बाद के पेंशनर है जिनका राज्य पुनर्गठन से कोई वास्ता नहीं है। सरकार द्वारा पेंशनरों का हक नहीं देने झूठे बहाने बनाए जा रहे हैं। मध्यप्रदेश में भी कर्मचारी/पेंशनर संघों द्वारा भी छत्तीसगढ़ के समान आंदोलन ही एकमात्र उपाय दिखाई दे रहा है और बिना संघर्ष के प्रदेश की शिवराजसरकार सुनने वाली नही है । जिले के सभी तहसील अध्यक्षों  एनएल रावल पेटलावद, जगमोहसिंह राठौर थांदला, मांगीलाल दुर्गेश्वर रानापुर सहित जिले भर के पेंशनर्स एसोसिएशन के पदाधिकारियों ने कडे शब्दों में सरकार की नियत एवं नीति पर शंका जाहिर करते हुए पेंशनरों को आगामी दिनों में संघर्ष के लिये तेैयार रहने का आव्हान किया है।


मनीष कुमट राष्ट्रीय हिंदू महासभा (भारत) के युवा इकाई के मप्र अध्यक्ष मनोनीत, श्री कुमट को मिली एक और नई जिम्मेदारी


झाबुआ। राष्ट्रीय हिंदू महासभा (भारत) के राष्ट्रीय अध्यक्ष विवेक शर्मा की सहमति एवं मप्र अध्यक्ष मोहनसिंह राणा की अनुशंसा पर झाबुआ जिले के युवा मनीष शैतानमल कुमट (जैन) झकनावदा को मप्र युथ इकाई में प्रदेश अध्यक्ष के पद पर मनोनीत किया गया है। महासभा के प्रदेश उपाध्यक्ष प्रशांत दांगी ने बताया कि यह संगठन देश हित एवं सामाजिक क्षेत्रों में कार्य करता है। श्री कुमट की नियुक्ति कर उनसे आशा व्यक्त की गई है कि वह संगठन के प्रति पूर्ण जिम्मेदारी एवं ईमानदारी के साथ कार्य करेंगे। उक्त नई जिम्मेदारी मिलने पर उन्हें जिले से कीर्तिश जैन, रविंद्र मिश्रा मुंबई, पवन नाहर रानापुर, निलेश भानपुरिया एवं अलीअसगर बोहरा मेघनगर, दौलत गोलानी झाबुआ, गोपाल विश्वकर्मा, संजय व्यास, राकेश लछेटा एवं नमन पालरेचा झकनावदा, श्रीमती गायत्री राठौर एवं श्रीमती रेखा भूरिया रानापुर, योगेश पंवार, कृष्णा कुमावत, लाला कुमावत, गोलू बरफा, पं. प्रेम नारायण पौराणिक,, मोहन पाटीदार, राजेश शर्मा आदि ने शुभकामनाएं प्रेषित करते हुए श्री कुमट के उज्जवल भविष्य की कामना की है।


कलेक्टर ने जनसुनवाई में प्राप्त प्रकरणों का त्वरित निराकरण करने के निर्देश दिए आज जनसुनवाई में 50 आवेदन प्राप्त हुए

      

jhabua-news
झाबुआ। कलेक्टर श्री सोमेश मिश्रा की अध्यक्षता में आज प्रातः  जनसुनवाई प्रारम्भ हुई। कलेक्टर श्री मिश्रा ने जनसुनवाई के प्राप्त आवेदन पत्र का निराकरण सकारात्मक रूप से 7 दिवस में किए जाने के निर्देश दिए गए। आज मंगलवार को जनसुनवाई में 50 आवेदन प्राप्त किए गए। आज जनसुनवाई में आवेदकों को चाय पिलाकर उनका स्वागत किया गया। आज जनसुनवाई में जो आवेदन प्राप्त हुए है, जिसमें प्रार्थी श्रीमती जोता बेवा स्व. मांगू भाबोर एवं अन्य निवासी मोहनपुरा झाबुआ द्वारा आवेदन प्रस्तुत किया है। जिसमंे आरोपीगण हमारी बिना सहमति से कृषि भूमि का पटवारी से साठ गाठ कर पेतृक भूमि को अपने नाम आवंटित करवा लिया। प्रार्थी श्रीमती लिना पति श्री अजयसिंह सिसोलिया निवासी रामदास कॉलोनी झाबुआ द्वारा आवेदन प्रस्तुत किया है। जिसमें आवासीन परिवारों को आवास हेतु भूखंड प्रदाय करने बाबत प्रस्तुत किया है। प्रार्थी श्री लता पिता अमरसिंह जाति भिलाला ग्राम छापरखांडा राणापुर द्वारा आवेदन प्रस्तुत किया है। जिसमेें भूमिहिन होकर आवास पट्टा प्रदान करने के संबंध में है। प्रार्थी श्री अनिल पिता धुमसिंह बारिया भृत्य निवासी ग्राम बगई बडी अंशकालिन भृत्य के पद पर नियुक्त देने के संबंध में प्रस्तुत किया है। प्रर्थी श्रीमती दुली बेवा पति बदा गुंडिया निवासी ग्राम नेगडिया तहसील झाबुआ द्वारा आवेदन प्रस्तुत किया है। जिसमें तहसील न्यायाल के प्रकरण क्रमांक 007/70/2020-21 आदेश दिनंाक 23/03/2022 इस आदेश के अनुक्रम में प्रार्थी को कब्जा दिलवाया जाने हेतु आवेदन प्रस्तुत किए गए। आज जनसुनवाई में सीईओ जिला पंचायत श्री सिद्धार्थ जैन, अपर कलेक्टर श्री एस.एस.मुजाल्दा, अति. मु. कार्यपालन अधिकारी श्री दिनेश वर्मा, एसडीएम झाबुआ श्री एल.एन.गर्ग,डिप्टी कलेक्टर श्री तरूण जैन, सहायक आयुक्त जनजाति कार्य विभाग श्री प्रशांत आर्या एवं जिला अधिकारी उपस्थित थे एवं शेष एस.डी.एम राजस्व एवं मुख्य कार्यपालन अधिकारी जनपद पंचायत, समस्त तहसीलदार, ,बीएम,ओ, सी,एम,ओ, वीडियो कांफ्रेनिं्सग के माध्यम से जुडे थे।


ई-संजीवनी“ हब एवं स्पोक (टेलीमेडिसिन) के माध्यम से 10 लाख से अधिक मरीजो को ऑनलाइन स्वास्थ्य सेवाये प्रदान की गई


झाबुआ,। कलेक्टर श्री सोमेश मिश्रा के मार्गदर्शन में एनसीडी कार्यक्रम अंतर्गत हब एवम स्पोक (टेलीमेडिसिन) के माध्यम से जिले में अब 1 लाख से अधिक मरीजो को ऑनलाइन स्वास्थ्य सेवाएं प्रदान की गई है। सेवाओ के सुरुआत में अगस्त 2020 में 71 मरीजो को ऑनलाइन सेवाये प्रदान की गई थी, विगत 2 वर्ष में 1 लाख से भी अधिक मरीजो को टेलीमेडिसिन के माध्यम से सेवाये प्रदान की गई है। हब क्या होता है हब जिला चिकित्सालय में होता है जिसमे प्रशिक्षित चिकित्सको द्वारा ऑनलाइन मरीजो को सेवाये प्रदान की जाती है जिले में वर्तमान 4 चिकित्सक प्रशिक्षित है  डॉ प्रदीप डोडवाल, डॉ राजेश डावर, डॉ विपुल जादौन, डॉ नीलेश नायक, जिनके द्वारा सेवाये प्रदान की गई है। स्पोक क्या है जिले के प्रत्येक उप स्वास्थ्य केंद्र हेल्थ एन्ड वेलनेस सेंटर को स्पोक बनाया गया है जँहा पर पदस्थ सामुदायिक स्वास्थ्य अधिकारी द्वारा हब में कॉल करके मरीज की बीमारी एवम स्थिति के बारे में बताया जाता है उंसके उपरांत हब के प्रशिक्षित चिकित्सक के द्वारा उपचार प्रदान किया जाता है प्रदाय उपचार अनुसार सीएचओ मरीज को दवाई एवम जांच प्रदान करता है, आवश्यक होने पर पीएचसी/सीएचसी/सीएच/डीएच रेफर करता है। जिले 279 स्पोक एक्टिव है। कल्याणपुरा 52, रामा 40, मेघनगर 41, पेटलावद 69, रानापुर 30, थांदला 46,मार्च 2022 में उत्क्रष्ट कार्य हेतु सम्मानित किया गया था। ई सँजीवनी कार्यक्रम अन्तर्गत वर्ष 2020-21 में उत्क्रष्ट कार्य करने हेतु डॉ राजेश डावर, श्री आरआर खन्ना डीपीएम, श्री सोनल कुमार नीमा, प्रभार एम एन्ड ई अधिकारी, सुश्री दीपिका सामुदायिक स्वास्थ्य अधिकारी पतरा मेघनगर, एवम सुश्री राजमिका बारिया सामुदायिक स्वास्थ्य अधिकारी चेनपुरा मेघनगर को राज्य स्तर पर स्वास्थ्य मंत्री श्री प्रभुराम चौधरी जी के कर कमलों से सम्मानित किया गया था। मार्गदर्शन एवं मॉनिटरिंग कलेक्टर श्री सोमेश मिश्रा के मार्गदर्शन में ई सँजीवनि कार्यक्रम की निरन्तर मॉनिटरिंग की जाती है। डॉ जेपीएस ठाकुर मुख्य चिकित्सा अधिकारी, डॉ बीएस बघेल सिविल सर्जन सह अस्प्ताल अधीक्षक, एवम आरएमओ डॉ सावनसिंह चौहान के नेतृत्व एवम सुपरविजन में लगातार उपलब्धि अर्जित की जा रही है।


राज्य स्तरीय शिक्षक पुरस्कार के लिए 10 अगस्त तक आवेदन आमंत्रित


झाबुआ,। लोक शिक्षण संचालनालय द्वारा राज्य स्तरीय शिक्षक पुरस्कार-2022 के लिए शालेय शिक्षकों से 10 अगस्त तक आवेदन और नामांकन संबंधित जिले के जिला शिक्षा अधिकारी के कार्यालय में आमंत्रित किए गए हैं। राज्य स्तरीय शिक्षक पुरस्कार के आवेदन की प्रक्रिया, पात्रता, चयन के मापदण्ड, समय-सारणी और अन्य निर्देश मध्यप्रदेश एजुकेशन पोर्टल www.educationportal.mp.gov.in पर उपलब्ध है।


कलेक्टर द्वारा आवेदन का तत्काल निराकरण करने पर आवेदक धन्यवाद एवं आभार व्यक्त करने कलेक्टर कार्यालय पहुंचा


jhabua-news
झाबुआ,। दिनांक 02 अगस्‍त 2022 को शासन के निर्देशानुसार जनसुनवाई में आवेदक श्री शैतान गामोड निवासी कालापीपल तहसील व जिला झाबुआ अपने बच्‍चो के स्‍कूल एडमिशन हेतु अनिवार्य आधार कार्ड बनने में तकनीकी समस्‍या को लेकर जनसुनवाई में उपस्थित हुए। आवेदक अपने बच्चों के लिए दो महीने से तीन बार बैंक ऑफ बड़ौदा में आधार कार्ड के लिए आवेदन कर रहा था लेकिन आधार ऑपरेटर की गलती के कारण आधार नही बन पा रहा था। इस मामले की गंभीरता एवं छात्रो के स्‍कूल एडमिशन को दृष्टिगत कलेक्‍टर श्री सोमेश मिश्रा द्वारा इसका त्‍वरित निराकरण के लिए जिला लोक सेवा प्रबंधक को निर्देश दिये। जिस पर लोक सेवा - ई गवर्नेंस कार्यालय द्वारा कार्यवाही करते हुए 02 घण्‍टे में इनका आधार कार्ड पंजीयन की समस्‍याओं का निराकरण कर आवेदक के बच्चों सुकराम गामोड और जनता गामोड को आधार कार्ड उपलब्‍ध कराये गये। इस त्‍वरित कार्यवाही पर आवेदक श्री शेतान गामोड आज कलेक्टर कार्यालय पहुंचा एवं कलेक्टर महोदय को शासन की जनसुनवाई में निराकरण होने पर धन्‍यवाद एवं आभार व्यक्त किया।


एग्री - जीआईएस पोर्टल से कृषकों को मिलेगी तकनीक


झाबुआ,। प्रदेश के किसानों को अधिकतम लाभान्वित करने के लिये कृषि क्षेत्र में उन्नत तकनीक का इस्तेमाल किया जायेगा। किसान-कल्याण तथा कृषि विकास विभाग द्वारा फसलों की स्थिति एवं उत्पादकता के सटीक और त्वरित आकलन के लिये सेटेलाईट डेटा तथा रिमोट सेसिंग तकनीक के उपयोग लिये । एग्री जीआईएस पोर्टल बनवाया जा रहा है। पोर्टल निर्माण नेशनल रिमोट सेनिं्सग केंद्र तथा प्रदेश की तकनीकी संस्थाओं (डच्ैम्क्ब् तथा डच्ब्ैज् के समन्‍वय से हो रहा है। एग्री - जीआईएस पोर्टल संयुक्त संचालक कृषि ने बताया कि सेटेलाईट डेटा तथा रिमोट सेसिंग तकनीक का उपयोग कर फसल क्षेत्रफल की प्रणाली विकसित की गयी है। इस वर्ष से पूर्णतया ई-गिरदावरी की जा रही है। किसानों को सुगमता एवं समय पर बीमा लाभ सुनिश्चित किये जाने हेतु भारत सरकार के फसल बीमा पोर्टल का भू-अभिलेख से इंटीग्रेशन किया गया है। इससे भू-अभिलेख में दर्ज भूमि संबंधी जानकारी सीधे फसल बीमा पंजीयन में लायी जा सकेगी। किसान भाई मोबाइल ऐप से सेटेलाईट डेटा तथा रिमोट सेसिंग तकनीक द्वारा उनके खेत पर लगाई गयी फसल जानकारी की पुष्टि की जा सकेगी। किसान अपनी फसल भी संसोधित कर दर्ज कर सकते हैं। पोर्टल के लाभ किसानों के त्रुटि रहित पंजीयन होने से पात्र किसानों को बिना किसी परेशानी के सीधे उनके आधार पंजीकृत खाते में लाभ मिल सकेगा एवं नुकसान एवं आपदा की स्थिति में फसल बीमा का सही-सही लाभ भी समय पर प्राप्त होगा। साथ ही कृषि संबंधी विभिन्न सूचनाएँ एक ही स्थान पर होने से बेहतर आंकड़ा आधारित नियोजन तथा अनुश्रवण संभव हो सकेगा।


राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा अधिनियम के अंतर्गत आदिवासी बहुल्य आकांक्षी एवं हाई बर्डन के समस्त हितग्राहियों को लाभांवित करने तथा सडक पर रहने वाले बच्चों का पुर्नवास नीति 2022 अंतर्गत बच्चों को खाद्यान सुरक्षा का लाभ


झाबुआ,। कलेक्टर श्री सोमेश मिश्रा के आदेश दिनंाक 01 अगस्त 2022 में प्रदेश के आदिवासी बाहुल्य, आकांक्षी एवं हाईबर्डन जिले में राष्ट्रीयखाद्य सुरक्षा अधिनियम 1913 के अंतर्गत सम्मिलित श्रेणियों के समस्त हितग्राहियों को लाभांवित करने तथा सडक पर रहने वाले बच्चों के पूर्नवास हेतु नीति 2022 अंतर्गत चिन्हित बच्चों को खाद्य सुरक्षा का लाभ दिए जाने के संबंध में मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत एवं परियोजना अधिकारी शहरी विकास अभिकरण को पत्र जारी किया है। जिसमें जिले की संबंधित जनपद पंचायत एवं नगरीय निकाय से आवश्यक कार्यवाही करने के निर्देश दिए गए है। इस संबंध में खाद्य नागरिक आपूर्ति एवं उपभोक्ता संरक्षर विभाग मंत्रालय भोपाल का पत्र दिनंाक 11 मई 2022 में तथा खाद्य नागरिक आपूर्ति एवं उपभोक्ता संरक्षण विभाग भोपाल के द्वारा 19 जुलाई 2022 को निर्देश प्रसारित किए गए है।

कोई टिप्पणी नहीं: