मोदी ने देखा दूरदर्शन के धारावाहिक स्वराज का विशेष शो - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

विजयी विश्व तिरंगा प्यारा , झंडा ऊँचा रहे हमारा। देश की आज़ादी के 75 वर्ष पूरे होने पर सभी देशवासियों को अनेकानेक शुभकामनाएं व बधाई। 'लाइव आर्यावर्त' परिवार आज़ादी के उन तमाम वीर शहीदों और सेनानियों को कृतज्ञता पूर्ण श्रद्धासुमन अर्पित करते हुए नमन करता है। आइए , मिल कर एक समृद्ध भारत के निर्माण में अपनी भूमिका निभाएं। भारत माता की जय। जय हिन्द।

बुधवार, 17 अगस्त 2022

मोदी ने देखा दूरदर्शन के धारावाहिक स्वराज का विशेष शो

modi-watch-tv-show-shwaraj
नयी दिल्ली, 17 अगस्त, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार को दूरदर्शन द्वारा प्रस्तुत धारावाहिक “स्वराज: भारत के स्वतंत्रता संग्राम की समग्र गाथा” का एक विशेष शो देखा। यह जानकारी प्रधानमंत्री कार्यायलय के सूत्रों ने दी। भारत में पुर्तगालियों की औपनिवेशिक नीतियों के खिलाफ संघर्ष से लेकर आजादी हासिल होने तक के काल खंड के जाने अनजाने स्वाधीनता संग्राम सेनानियों पर केंद्रित इस धारावाहिक की विशेष स्क्रीनिंग संसद के पुस्तकालय भवन में बालयोगी सभागार में आयोजित की गयी थी। प्रधानमंत्री के साथ विशेष शो को लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला, गृह मंत्री अमित शाह और कई अन्य मंत्रियों तथा भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा सहित अनेक गणमान्य व्यक्तियों ने देशा। सूत्रों ने बताया कि इस शो में इस 75 कड़ियों के धारावाहिक की दो कड़ियों को प्रदर्शित किया जाना था, जो शिवप्पा नायक पर और रानी अब्बक्का की संघर्ष गाथा पर केंद्रित हैं। शिवप्पा नायक दक्षिण की एक रियासत के शाक थे और 1645 में सिंहासन संभाला था। उन्होंने 1653 तक पुर्तगालियों के बढ़ते खतरे को समाप्त कर मैंगलोर, कुंडापुरा और होन्नावर जैसे बंदरगाहों तथा तटीय कन्नड़ क्षेत्र पर अपना नियंत्रण स्थापित किया था आधुनिक केरल के कासरगोड क्षेत्र तक गया और नीलेश्वर में विजय पताका फहरायी। रानी अब्बक्का विजयनगर साम्राज्य के तहत उडुपी के पास उल्लाल रियासत की रानी थीं।पुर्तगालियों ने उस समय विजयनगर पर हमला कर उसे नष्ट कर दिया गया लेकिन रानी अब्बक्का ने हार स्वीकार नहीं की। दूरदर्शन ने गत 14 अगस्त रविवार रात से इस घारावाहिक का प्रसारण शुरू किय है। इसे 9 बजे से रात 10 बजे तक डीडी नेशनल पर प्रसारित किया जा रहा है। इसे अंग्रेजी के साथ नौ क्षेत्रीय भाषाओं - तमिल, तेलुगु, कन्नड़, मलयालम, मराठी, गुजराती, उड़िया, बंगाली और असमिया में रुपांतरित किया जा रहा है।

कोई टिप्पणी नहीं: