सीहोर (मध्य प्रदेश) की खबर 19 अगस्त - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

विजयी विश्व तिरंगा प्यारा , झंडा ऊँचा रहे हमारा। देश की आज़ादी के 75 वर्ष पूरे होने पर सभी देशवासियों को अनेकानेक शुभकामनाएं व बधाई। 'लाइव आर्यावर्त' परिवार आज़ादी के उन तमाम वीर शहीदों और सेनानियों को कृतज्ञता पूर्ण श्रद्धासुमन अर्पित करते हुए नमन करता है। आइए , मिल कर एक समृद्ध भारत के निर्माण में अपनी भूमिका निभाएं। भारत माता की जय। जय हिन्द।

शनिवार, 20 अगस्त 2022

सीहोर (मध्य प्रदेश) की खबर 19 अगस्त

जिले में अब तक 1088.7 मिलीमीटर औसत वर्षा दर्ज


जिले में 01 जून से 19 अगस्त 2022 तक 1088.7 मिलीमीटर औसत वर्षा दर्ज की गई। जो कि गत वर्ष इसी अवधि में औसत वर्षा 629.3 मिलीमीटर थी। जिले की वर्षा ऋतु में सामान्य औसत वर्षा 1148.4 मिलीमीटर है। अधीक्षक भू-अभिलेख द्वारा दी गई जानकारी के अनुसार 01 जून से 19 अगस्त 2022 तक जिले के वर्षामापी केन्द्र सीहोर में 1114.1 मिलीमीटर, श्यामपुर में 1121.0, आष्टा में 957.2, जावर में 825.0, इछावर में 1097.3, नसरूल्लागंज में 1028.9, बुधनी में 1158.0 और रेहटी में 1408.7 मिलीमीटर वर्षा दर्ज की गई है। बीते 24 घंटे में जिले में कहीं वर्षा नहीं हुई।


वर्षा जनित बीमारियों से बचाव की अपील


स्वास्थ्य विभाग ने बताया कि वर्षा के मौसम में बीमारियां फैलने का खतरा अधिक रहता है। इस मौसम में होने वाली बीमारियां खतरनाक साबित हो सकती है। इससे सावधानी बरतने की आवश्यकता है, लापरवाही जानलेवा हो सकती है।वर्षा के मौसम में होने वाली बीमरियां जैसे सर्दी, जुखाम, बुखार, मलेरिया, चिकनगुनिया, हैजा एवं टाइफाइड हो सकते है सर्दी, जुखाम, बुखार से बचने के लिए बारिश में ज्यादा देर तक न भीगे, भीगने से बचे, भीगने पर शरीर को साफ-कपड़े से पोछे तुरंत कपड़े बदले। मलेरिया से बचने के लिये अपने घर के आसपास गड्डा न होने दें, अगर गड्डा हो तो, उसमें पानी इकठा न होने दें। हैजा से बचने के लिए घर के आसपास सफाई रखें, गंदा पानी उपयोग में न लायें, पानी को छानकर या उबालकर उपयोग करें। टाइफाइड खतरनाक बीमारी में से एक है। यह संक्रमित जल व दूषित भोजन से होता है, इस बीमारी में तेज बुखार आता है एंव कई दिनों तक रहता है। इस बीमारी का संक्रमण रोगी के पित्ताशय में रहता है, टाइफाइड होने वाले रोगी से दूर रहना चाहिए और चिकित्सक से दवा लेनी चाहिए। विभाग ने आम जनता से अपील की है कि वर्षा के मौसम में होने वाली बीमारियों से बचाव जरूरी है। अगर बचाव न किया जाये तो यह खतरनाक हो सकती है। इसलिए कोई भी बीमारी होने पर चिकित्सक को अवश्य दिखायें, जिससे रोग की पहचान की जा सके।


शिशु जन्म के तुरंत बाद से 6 माह तक मां का दूध पिलाएं, बच्चों को तंदुरूस्त बनाए


जिला चिकित्सालय के पीएनसी वार्ड में पीएनसी माताओं एवं उनके परिजनों को स्तनपान के महत्व की जानकारी देते हुए जागरूकता पाम्पलेट का वितरित किए गए। जिला स्वास्थ्य अधिकारी ने प्रसूता माताओं तथा उनके महिला परिजनों से कहा कि शिशु जन्म के तुरंत बाद से 6 माह तक मां का दूध पिलाएं और बच्च को तंदुरूस्त बनाए। प्रसव के 1 घंटे के भीतर नवजात शिशु को अपना गाढा, पीला, पौष्टिक दूध (कोलस्ट्रम) अवश्य पिलाएं। जन्म के तुरंत बाद से 6 माह तक शिशु को सिर्फ मां का दूध ही पिलाए। और 6 माह तक शिशु को पेय पदार्थ, पानी, घुट्टी इत्यादि न पिलाए। छ: माह की आयु के उपरांत स्तनपान के साथ-साथ शिशु के विकास के लिए उपयुक्त एवं पर्याप्त पूरक आहार दलिया, खिचडी, भाप में पके फल, खीर खिलाए। याद रखें मां का दूध ही शिशु का पूरा पोषण है और बीमारियो से बचाता है।


हाई स्कूल में 3 विषय चयन की पात्रता


माध्यमिक शिक्षा मंडल द्वारा शिक्षण-सत्र 2022-23 की हाई स्कूल परीक्षा के लिए विद्यार्थी को निर्धारित भाषा विषयों में से कोई तीन विषय का चयन करना होगा। नेशनल स्किल क्वालीफिकेशन फ्रेमवर्क विषय का चयन करने वाले विद्यार्थियों को निर्धारित भाषा विषयों में से कोई दो भाषा विषय का चयन करना होगा। चिल्ड्रन विथ स्पेशल नीड के विद्यार्थी गणित अथवा विज्ञान के स्थान पर चित्रकला अथवा गायन वादन अथवा तबला पखावज अथवा कंप्यूटर विषय में से कोई एक विषय ले सकेंगे। साथ ही ऐसे परीक्षार्थियों को तीन भाषा विषय में से दो भाषा विषय में छूट प्रदान की गई है। ऐसे परीक्षार्थी किसी एक भाषा विषय का चयन कर सकेंगे। इस संबंध में निर्देश जारी कर दिए गए हैं। माध्यमिक शिक्षा मंडल द्वारा मान्यता प्राप्त संस्थाओं में नियमित प्रवेश के लिए प्रवेश संबंधी मार्गदर्शिका पुस्तिका भी जारी की गई है।


तेंदूपत्ता संग्राहकों के बच्चों की शिक्षा के लिए सहायता मिलेगी


एकलव्य शिक्षा विकास योजना’ में वन क्षेत्रों में निवासरत तेन्दूपत्ता संग्राहकों के होनहार बच्चों को उत्कृष्ट शिक्षा संस्थानों में प्रवेश और उनके शिक्षा व्यय की प्रतिपूर्ति की जाती है। तेन्दूपत्ता संग्राहक के लिए यह जरूरी है कि पिछले 5 वर्ष में कम से कम तीन वर्षों में न्यूनतम एक मानक बोरा तेन्दूपत्ता का संग्रहण किया गया हो। फड़ मुंशी और समिति प्रबंधक द्वारा कम से कम तीन वर्षों तक तेन्दूपत्ता सीजन में कार्य करने पर तेंदूपत्ता संग्राहक के बच्चों की शिक्षा के लिए सहायता दी जाती है। बच्चों को योजना का लाभ लेने के लिए पिछली वार्षिक परीक्षा में 60 प्रतिशत अंक लाना जरूरी है। इस सहायता योजना में व्यवसायिक कोर्स के विद्यार्थियों को वार्षिक 50 हजार रूपये दिए जाते हैं । गैर तकनीकी स्नातक विद्यार्थियों को 20 हजार रूपये, कक्षा 11वीं एवं 12वीं के विद्यार्थियों को 15 हजार रूपये और कक्षा 9वीं एवं 10वीं उत्तीर्ण करने वाले विद्यार्थियों को 12 हजार रूपये की वार्षिक सहायता दी जाती है।


दिव्यांग विद्यार्थियों के लिए छात्रवृत्ति योजना


सामाजिक न्याय विभाग ने बताया कि दिव्यांगजन सशक्तिकरण विभाग भारत सरकार द्वारा राष्ट्रीय छात्रवृत्ति पोर्टल विकसित किया है। जिस पर दिव्यांग विद्यार्थी के लिए प्री-मैट्रिक, पोस्ट मैट्रिक एवं टॉप क्लास छात्रवृत्ति योजना का संचालन किया जा रहा है। प्री-मैट्रिक छात्रवृत्ति के लिये वर्ष 2022-23 के लिए ऑनलाइन आवेदन 30 सितम्बर तक प्रस्तुत किये जा सकते है। शैक्षणिक संस्था द्वारा आवेदन सत्यापन की अंतिम तिथि 16 अक्टूबर निर्धारित की गई है। इसी प्रकार पोस्ट मैट्रिक एवं टॉप क्लास छात्रवृत्ति के लिये पंजीयन की अंतिम तिथि 31 अक्टूबर निर्धारित की गई है।शैक्षणिक संस्था आवेदन के सत्यापन की अंतिम तिथि 15 नवम्बर 2022 निर्धारित की गई है।


आस्था और उत्साह से मनाया गया जन्माष्टमी का पावन पर्व

  • सुबह भजन-कीर्तन और प्रवचन के बाद शाम को मटकी फोड़ प्रतियोगिता का आयोजन

sehore-news
सीहोर। शहर के सैकड़ाखेड़ी स्थित संकल्प नशा मुक्ति केन्द्र के तत्वाधान में हर साल की तरह इस साल भी जन्माष्टमी का पावन पर्व पूरे उत्साह के साथ मनाया गया। इस मौके पर केन्द्र में सुबह के समय भजन-कीर्तन और प्रवचन के अलावा अन्य धार्मिक कार्यक्रमों का आयोजन किया गया, वही शाम को बारिश की बौछारों के मध्य पूरे उत्सव के साथ मटकी फोड़ कार्यक्रम का आयोजन किया गया। मटकी फोड़ कार्यक्रम में युवाओं से लेकर बुजुर्ग में उत्साह देखा गया। यहां पर उपस्थित बड़ी संख्या में क्षेत्रवासियों ने मटकी फोड में जोर आजमाइश कर मटकी फोडने की कोशिश की। केन्द्र के संचालक राहुल सिंह ने बताया कि शुक्रवार को आयोजित जन्माष्टमी पर्व के दौरान शाम को करीब 35 फीट ऊंचाई पर दही की मटकी बांधी थी और उसके बाद यहां पर मौजूद बड़ी संख्या में क्षेत्रवासियों ने इसको फोड़ा। इस दौरान केन्द्र के प्रभारी नटवर कुशवाहा, विकास अग्रवाल, अमित जैन, दीपाली जैन, ममता शर्मा, दिनेश वर्मा, धर्मेन्द्र यादव और अंकित सहित अन्य मौजूद थे। वहीं सुबह प्रवचन का आयोजन किया गया था। इस मौके पर पंडित उमेश दुबे ने यहां पर मौजूद क्षेत्रवासियों को जन्माष्टमी का महत्व बताते हुए कहा कि धरती पर जब भी पाप और अधर्म बढ़ते हैं, भगवान को खुद इन चीजों को कम करने के लिए धरती पर अवतार लेना पड़ता है। ऐसा ही अवतार भगवान विष्णु ने धरती पर लिया था। श्रीकृष्ण भगवान विष्णु के ही अवतार थे। श्रीकृष्ण विष्णु भगवान के 8 वें अवतार थे। मथुरा की राजकुमारी देवकी और वासुदेव की आठवीं संतान के रुप में उन्होंंने धरती तल पर अवतार लिया था। श्रीकृष्ण ने जन्म से ही बहुत चमत्कार किए थे। उनके जन्म से जुड़े ऐसे कई किस्से हैं, जो मानव को सीख देते हैं। जन्माष्टमी श्रीकृष्ण के जन्मोत्सव के रुप में मनाई जाती है। उन्होंने बताया कि भारत में हर त्योहार बहुत ही धूमधाम से मनाया जाता है। जन्माष्टमी भी उन त्योहारों में से एक है। हिंदू धर्म के अनुसार, कंस के अत्याचारों को सहते हुए उनकी बहन देवकी ने भाद्रपद के कृष्ण पक्ष की अष्टमी तिथि को उन्होंने अपनी आठवीं संतान के रुप में श्रीकृष्ण को जन्म दिया था। स्वंय भगवान विष्णु ने पृथ्वी को कंस के अत्याचारों से बचाने के लिए धरती पर अवतार लिया था। इन्हीं मान्यताओं के अनुसार, हर साल भाद्रपद की अष्टमी तिथि को कृष्ण जन्माष्टमी मनाई जाती है। 


सीएम हेल्पलाइन कार्यशाला में 361 शिकायतों का संतुष्टि पूर्वक निराकरण


sehore-news

कलेक्टर श्री चंद्र मोहन ठाकुर के निर्देश पर जिला पंचायत सभाकक्ष में सीएम हेल्पलाइन के प्रकरणों के निराकरण के लिए सीएम हेल्पलाइन कार्यशाला आयोजित की गई। सीएम हेल्पलाइन कार्यशाला की नोडल अधिकारी श्रीमती ममता पाण्डे ने जानकारी दी कि कार्यशाला में अनेक विभागों की 361 शिकायतों का संतुष्टिपूर्ण निराकरण किया गया।


अनुसूचित जाति एवं जनजाति वर्ग के मेधावी छात्रों के लिए आईआईटी जेईई परीक्षा की तैयारी के लिए नि:शुल्क कोचिंग


अनुसूचित जाति एवं जनजातीय वर्ग के मेधावी विद्यार्थियों के लिये IIT-JEE परीक्षा की तैयारी के लिए प्रदेश सरकार द्वारा ज्ञानोदय विद्यालय भोपाल में निःशुल्क विशेष कोचिंग कराई जा रही है। इसमें मध्यप्रदेश के मूल निवासी एवं अनुसूचित जाति एवं जनजातीय वर्ग के 10 वीं कक्षा उत्तीर्ण मेधावी छात्र-छात्राओं को तैयारी के लिए निःशुल्क आवासीय सुविधा भी उपलब्ध कराई जा रही है। चयनित छात्र-छात्राओं को IIT-JEE परीक्षा की तैयारी FIITJEE के अनुभवी शिक्षको द्वारा परीक्षा की तैयारी के लिए आधुनिक सुविधाओं से परिपूर्ण शिक्षा व्यवस्था की गई है । इसके लिए विद्यार्थी अपना आवेदन ज्ञानोदय आवासीय विद्यालय भोपाल या जिला कार्यालय जनजातीय कार्य विभाग सीहोर में जमा कर सकते है।


अधिक से अधिक वृक्षारोपण कर पर्यावरण संरक्षण में भागीदार बने 

  • रोपे गए पौधे की वायुदूत ऐप में अपलोड करें फोटो, ऐसे करें गूगल प्ले स्टोर से "वायुदूत (अंकुर) ऐप" डाउनलोड

पर्यावरण संरक्षण, हरा भरा मध्यप्रदेश बनाने एवं प्रदेश की हरियाली और सौंदर्य को बढ़ावा देने के लिए प्रदेश सरकार द्वारा अंकुर अभियान चलाया जा रहा है। अंकुर अभियान के माध्यम से हम सब पर देश की धरती को और अधिक हरा भरा और समृद्ध बना सकते हैं। 


ऐसे करें "वायुदूत (अंकुर) ऐप" डाउनलोड

अंकुर अभियान के तहत प्रदेश में बड़े पैमाने पर वृक्षारोपण का कार्य किया जा रहा है। पौधारोपण कर उसकी एक महीने तक देखभाल करने वाले लोगो को प्रमाण पत्र प्रदान किए जाएंगे। चयनित विजेताओं को प्राणवायु पुरुस्कार से सम्मानित भी किया जाएगा। वायुदूत अंकुर एप डाउनलोड करने के लिए आवेदक https://play.google.com/store/apps/details?id=com.mpssdi.epcoplantation लिंक पर क्लिक करे एवं एप डाउनलोड करें। ऐप डाउनलोड करने के बाद इसमें अपना नंबर डालकर रजिस्ट्रेशन करें। सभी जानकारिया दर्ज करने के बाद सबमिट करें। एवं रजिस्टर मोबाइल नंबर पर आया ओटीपी डाले। सफलतापूर्वक पंजीयन के बाद वृक्षारोपण की प्रक्रिया प्रारंभ करें।


एमएसएमई सचिव श्री पी नरहरि 21 अगस्त को होंगे छात्र छात्राओं से रूबरू, बताएंगे सफलता के मंत्र


माइक्रो, स्माल एंड मीडियम एंटरप्राइजेज डिपार्टमेंट एंड कमिश्नर इंडस्ट्रीज एमपी एंड मेनेजिंग डायरेक्टर एमपी स्टेट को-ऑपरेटिव मार्केटिंग फेडरेशन भोपाल श्री पी नरहरि 21 अगस्त 2022 को सुबह 10 बजे सीहोर के लाइब्रेरी हाल में सिविल सेवा की तैयारी कर रहे छात्र छात्राओं को मार्गदर्शन प्रदान करने के लिए आ रहे हैं। अकेडमिक टीम लीडर श्री रामलखन मीणा ने बताया है कि छात्र छात्राओं की मांग पर सचिव एमएसएमई श्री पी नरहरि भोपाल से सीहोर 21 अगस्त 2022 को सुबह 10 बजे आ रहे हैं। यहां वह सिविल सेवा की तैयारी कर रहे छात्र छात्राओं का मार्गदर्शन करेंगे और साथ ही उनके सवालों के जवाब भी देंगे। उल्लेखनीय है कि कलेक्टर श्री चंद्रमोहन ठाकुर की पहल और यूपीएससी एवं एमपीपीएससी निःशुल्क कोचिंग क्लासेज एवं आदर्श परिवार तथा आधुनिक नालंदा के डायरेक्टर परीक्षित भारती के सहयोग से सितंबर 2021 से निरंतर निःशुल्क कोचिंग क्लासेज संचालित की जा रही है।


महर्षि अरविंद का जीवन अध्यात्म व राष्ट्रीयता विषय पर जिला स्तरीय व्याख्यानमाला कार्यक्रम आज


महर्षि श्री अरविन्द के 150वें जन्म वर्ष (सार्धशती) के उपलक्ष्य में "महर्षि अरविंद का जीवन अध्यात्म व राष्ट्रीयता" विषय पर जिला स्तरीय व्याख्यानमाला कार्यक्रम 20 अगस्त को दोपहर 12 बजे से शासकीय चन्द्रशेखर आजाद स्नातकोत्तर महाविद्यालय में आयोजित किया गया है।


जन अभियान परिषद के उपाध्यक्ष (राज्य मंत्री दर्जा) श्री उपाध्याय का दौरा कार्यक्रम


मध्यप्रदेश जन अभियान परिषद के उपाध्यक्ष (राज्य मंत्री दर्जा) श्री विभाष उपाध्याय 20 अगस्त को दोपहर 12:00 बजे शासकीय चंद्रशेखर आजाद स्नातकोत्तर महाविद्यालय में आयोजित व्याख्यानमाला कार्यक्रम में  शामिल होंगे। शाम 4:00 बजे श्री उपाध्याय सीहोर से उज्जैन के लिए प्रस्थान करेंगे।

कोई टिप्पणी नहीं: