सीहोर (मध्य प्रदेश) की खबर 22 अगस्त - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

विजयी विश्व तिरंगा प्यारा , झंडा ऊँचा रहे हमारा। देश की आज़ादी के 75 वर्ष पूरे होने पर सभी देशवासियों को अनेकानेक शुभकामनाएं व बधाई। 'लाइव आर्यावर्त' परिवार आज़ादी के उन तमाम वीर शहीदों और सेनानियों को कृतज्ञता पूर्ण श्रद्धासुमन अर्पित करते हुए नमन करता है। आइए , मिल कर एक समृद्ध भारत के निर्माण में अपनी भूमिका निभाएं। भारत माता की जय। जय हिन्द।

मंगलवार, 23 अगस्त 2022

सीहोर (मध्य प्रदेश) की खबर 22 अगस्त

कलेक्टर-एसपी ने स्वयं उपस्थित रहकर ग्राम सोमलबाड़ा के ग्रामवासियों को शिफ्ट कराया

  • निचली बस्तियों से ग्रामीणों को सुरक्षित स्थानों पर किया गया शिफ्ट

sehore-news
लगातार हो रही बर्षा के चलते नर्मदा के बढ़ते जलस्तर को दृष्टिगत रखते हुए नर्मदा किनारें बसे ग्रामीण क्षेत्रों से ग्रामवासियों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाने के लिए कलेक्टर श्री चन्द्र मोहन ठाकुर एवं एसपी श्री मयंक अवस्थी ने स्वयं उपस्थित रहकर बाढ़ संभावित क्षेत्र सोमलवाड़ा के निवासियों को सुरक्षित स्थान पर शिफ्ट कराया। ग्राम सोमलवाड़ा के ग्रामवासियों को हाई स्कूल बकतरा में बनाए गए राहत शिविर में ठहराया गया है, जिसमें पेयजल, भोजन, दवाएं आदि तथा ठहरने की सभी आवश्यक व्यवस्थाएं गई हैं। महिलाओं, बच्चों और वृद्धजनों को सबसे पहले लाया जा रहा है। सोमलवाड़ा के 150 ग्राम वासियों को बकतरा में शिफ्ट किया गया है।


निचली बस्तियों से ग्रामीणों को सुरक्षित स्थानों पर किया गया शिफ्ट

जिले में लगातार हो रही बारिश के चलते जिले के अनेक जलभराव वाले ग्रामीण क्षेत्रों एवं नर्मदा किनारे बसे ग्रामों से लोगो को समझाइश देकर सुरक्षित स्थानों पर शिफ्ट किया जा रहा है। ग्राम ढाबा में निचली बस्तियों में कोलार नदी का पानी आ जाने के कारण लोगों को सुरक्षित स्थान पर शिफ्ट किया गया है। नर्मदा क्षेत्र के ग्राम छिदगाँव काछी एवं नीलकंठ सहित अनेक गांवों में ग्रामवासियों को समझाइश दी गई।


कोलार डेम के 8 गेट खोले गए


जिले में लगातार हो रही वर्षा के चलते कोलार डेम के 8 गेट खोले गए है सभी 8 गेटों को कुल 27 मीटर खोला गया है। जो कि इस सीजन सबसे ज्यादा ऊँचाई से खोले गए है। कलेक्टर श्री चन्द्र मोहन ठाकुर ने सभी नागरिकों से अपील की है कि वे कोलार नदी, कोलार नहर, तथा कोलार बांध के प्रभावित इलाकों में नही जाएं।


कलेक्टर-एसपी ने नगर में जलभराव वाले क्षेत्रों का किया निरीक्षण

  • जलभराव वाले क्षेत्रों से पानी निकासी की व्यवस्था करने के दिए निर्देश, कलेक्टर ने नागरिकों से घर पर रहने की अपील की

sehore-news
जिले में लगातार हो रही बारिश के चलते जिले के अनेक जलभराव वाले ग्रामीण एवं नगरीय क्षेत्रों में जलभराव हो रहा है। साथ ही पुल, पोलियो,  रपटों के ऊपर से पानी  बह रहा है। नागरिकों की सुरक्षा की दृष्टि से अनेक जमग्नीय पुल, पुलियों एवं रपटों वाले मार्गों को बंद कर दिया गया है। कलेक्टर श्री चंद्र मोहन ठाकुर एवं एसपी श्री मयंक अवस्थी ने सीहोर के गणेश मंदिर पुल, स्वदेश नगर एवं अन्य जलभराव वाले क्षेत्रों का निरीक्षण किया। निरीक्षण के दौरान उन्होंने संबंधित अधिकारियों को जलभराव वाले क्षेत्रों में पानी निकासी की व्यवस्था के निर्देश दिए। उन्होंने सभी पटवारी, ग्राम पंचायत सचिव, रोज़गार सहायक एवं कोटवार अपने ग्रामों में रहने एवं लगातार मुनादी कराने तथा किसी भी जल भराव, पुल पुलिया के ऊपर से पानी गुज़रने या बारिश के कारण अप्रिय स्थिति निर्मित होने पर तत्काल वरिष्ठ अधिकारियों को सूचना देने के निर्देश दिए हैं।


कलेक्टर ने नागरिकों से घर पर रहने की अपील

कलेक्टर श्री चन्द्र मोहन ठाकुर ने सभी नागरिकों से अपील की है कि लगातार हो रही वर्षा के कारण जिन पुल, पुलियो, रपटों के ऊपर से पानी बह रहा हो, उन्हें पैदल या वाहनों से पार नहीं करें। उन्होंने नागरिकों से अपील की है कि बहुत आवश्यक होने पर ही घर से बाहर निकले तथा उन मार्गों से नहीं जाएं जिन मार्गों की नदी नालों पर बने पुलों पर पानी होने के कारण सुरक्षा की दृष्टि से बंद किया गया है। आवश्यक होने पर आवागमन के लिए सुरक्षित मार्गों का उपयोग करें।


शासकीय, अशासकीय विद्यालय के लिए 23 एवं 24 अगस्त का अवकाश घोषित


जिले में लगातार हो रही वर्षा को दृष्टिगत रखते कलेक्टर श्री चन्द्र मोहन ठाकुर ने  23 एवं 24 अगस्त 2022 को जिले के सभी प्ले स्कूल,आंगनबाडी केन्द्रों एवं कक्षा 01 से 12वीं तक के समस्त शासकीय,अशासकीय, सीबीएसई, तथा केन्द्रीय विद्यालय (समस्त प्रकार की शैक्षणिक संस्थाओं) में विद्यार्थियों के लिए अवकाश घोषित किया  है। 


जिले के सभी पात्र व्यक्तियों के बनेंगे आयुष्मान कार्ड


जिले के सभी पात्र नागरिकों के आयुष्मान कार्ड बनाये जाएंगे। आयुष्मान कार्ड बनाने का अभियान प्रारंभ हो गया है। जो अगले माह में पूरा कर लिया जाएगा। कलेक्टर श्री चन्द्र मोहन ठाकुर ने बताया कि जिले के शत-प्रतिशत पात्र व्यक्तियों के आयुष्मान कार्ड बनाने के लिये दिये गये निर्देशों का पालन करते हुए अगले माह में कार्ड बनाने की कार्यवाही पूरी की जाएगी। जिन पात्र परिवारों के सदस्यों के आयुष्मान कार्ड बनाये जाने हैं, उनका डाटा उपलब्ध है। उन्होंने बताया कि गाँव-गाँव में पात्र व्यक्तियों के ऑथेंटिफिकेशन कर कार्ड बनाने का कार्य आशा कार्यकर्ता और रोजगार सहायक के माध्यम से किया जाना सुनिश्चित करेंगे। आयुष्मान कार्ड बनाने के इस अभियान में लगे कर्मचारियों को प्रशिक्षण भी दिया जाएगा।


लगातार वर्षा को दृष्टिगत रखते हुए कलेक्टर ने अधिकारी-कर्मचारियों को अलर्ट रहने के दिए निर्देश, पुल-पुलिया, नदी-नाले पार नहीं करने की कलेक्टर ने की नागरिकों से अपील


जिले में लगातार बारिश जारी है। नर्मदा का जल स्तर वर्तमान में ख़तरे कि निशान से नीचे है। लेकिन बरगी डैम, तवा डैम, बारना डैम एवं कोलार डैम के गेट खुले है। इन बांधों की गेट खुले होने से शाम तक नर्मदा के जलस्तर में तेज़ी से बढ़ोतरी की संभावना है। कलेक्टर श्री चंद्र मोहन ठाकुर ने सभी तटवर्ती ग्रामों को अलर्ट एवं एनडीआरएफ की टीम शाहगंज, बुदनी, रेहटी, नसरूल्लागंज एवं गोपालपुर में तैनात रहने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने एनडीआरएफ की टीम को आवश्यकता पड़ने पर सीहोर से तत्काल रवाना होने के लिए तैयार रहने के निर्देश दिए हैं।  उन्होंने सभी पटवारी, ग्राम पंचायत सचिव, रोज़गार सहायक एवं कोटवार अपने ग्रामों में रहने एवं लगातार मुनादी कराने तथा किसी भी जल भराव, पुल पुलिया के ऊपर से पानी गुज़रने या बारिश के कारण अप्रिय स्थिति निर्मित होने पर तत्काल वरिष्ठ अधिकारियों को सूचना देने के निर्देश दिए हैं।


सुरक्षा की दृष्टि से यह मार्ग बंद किए गए

लगातार बारिश के कारण पुल-पुलिया, रपटों पर पानी आने के कारण बरखेड़ा हसन से देहरी मार्ग, सीहोर से सतरोनिया सेमरी दांगी, दोराहा मार्ग बंद किया गया है। कलेक्टर श्री ठाकुर ने सभी नागरिकों से अपील की है कि इन मार्गों से न जाए। उन्होंने जिले के सभी नागरिकों से अपील की है कि लगातार हो रही वर्षा के कारण जिन पुल, पुलियो, रपटों के ऊपर से पानी बह रहा हो, उन्हें पार नहीं करें। उन्होंने नागरिकों से यह भी अपील की है कि बहुत आवश्यक होने पर ही घर से बाहर निकले तथा उन मार्गों से नहीं जाएं जिन मार्गों की नदी नालों पर बने पुलों पर पानी होने के कारण सुरक्षा की दृष्टि से बंद किया गया है। आवश्यक होने पर आवागमन के लिए सुरक्षित मार्गों का उपयोग करें।


जिले में अब तक 1188.3 मिलीमीटर औसत वर्षा दर्ज, बीते 24 घंटे में 88.2 मिलीमीटर औसत वर्षा दर्ज


जिले में 01 जून से 22 अगस्त 2022 तक 1188.3 मिलीमीटर औसत वर्षा दर्ज की गई। जो कि गत वर्ष इसी अवधि में औसत वर्षा 668.7 मिलीमीटर थी। जिले की वर्षा ऋतु में सामान्य औसत वर्षा 1148.4 मिलीमीटर है। अधीक्षक भू-अभिलेख द्वारा दी गई जानकारी के अनुसार 01 जून से 22 अगस्त 2022 तक जिले के वर्षामापी केन्द्र सीहोर में 1239.2 मिलीमीटर, श्यामपुर में 1278.0 आष्टा में 1063.2, जावर में 917.0, इछावर में 1193.3, नसरूल्लागंज में 1078.9, बुधनी में 1255.0 और रेहटी में 1481.4 मिलीमीटर वर्षा दर्ज की गई है।


बीते 24 घंटे में वर्षा

जिले में बीते 24 घंटे में प्रात: 24 बजे तक 88.2 मिलीमीटर औसत वर्षा दर्ज की गई। वर्षामापी केन्द्र सीहोर में 115.0 मिलीमीटर, श्यामपुर में 135.0, आष्टा में 75.0, जावर में 77.0, इछावर में 96.0, नसरुल्लागंज में 46.0, बुधनी में 95.0 एवं रेहटी में 66.6 मिलीमीटर वर्षा दर्ज की गई है।


फसल बीमा सम्बंधी जानकारी प्राप्त करना आसान


किसान कल्याण तथा कृषि विकास विभाग ने सभी जिले के समस्त कृषक बंधुओ से आग्रह किया है कि वे प्रधानमंत्री फसल बीमा योजनांतर्गत आगामी खरीफ सीजन में फसल बीमा दावा राशि से संबंधित अपना फार्मर आई.डी., एप्लीकेशन आई.डी., के.सी.सी. खाता क्रमांक की जानकारी बताकर एग्रीकल्चर इंश्योरेंस कम्पनी भोपाल के टोल फ्री नंबर 1800-233-7115 पर फोन लगाकर अपने फसल बीमा संबंधी जानकारी प्राप्त कर सकते हैं।


सर्वोत्तम कृषक पुरस्कार के लिए आवेदन 31 तक आमंत्रित


“आत्मा” परियोजना के तहत कृषि, उद्यानिकी, पशुपालन, मत्स्य पालन एवं कृषि यंत्रिकरण के क्षेत्र में जिला व विकासखण्ड स्तरीय सर्वोत्तम कृषक तथा सर्वोत्तम कृषक समूह पुरस्कार दिए जायेंगे। इसके लिये परियोजना संचालक “आत्मा” के कार्यालय में 31 अगस्त तक आवेदन जमा किए जा सकते हैं। परियोजना संचालक आत्मा के अनुसार विकासखण्ड स्तरीय सर्वोत्तम कृषक पुरस्कार के तहत 10 हजार रूपए, सर्वोत्तम कृषक समूह के पुरस्कार के तहत 20 हजार रूपए और जिला स्तरीय सर्वोत्तम कृषक पुरस्कार के तहत 25 हजार रूपए का नगद पुरस्कार दिया जायेगा। इन पुरस्कारों के लिए इच्छुक कृषक एवं कृषक समूह अपने-अपने आवेदन संबंधित जनपद पंचायत के वरिष्ठ कृषि विकास अधिकारी के कार्यालय में जमा कर सकते हैं। प्राप्त आवेदनों का मूल्यांकन निर्धारित प्रक्रिया के तहत जिला स्तरीय मूल्यांकन समिति द्वारा किया जाएगा। पुरस्कारों के चयन में कलेक्टर सह अध्यक्ष आत्मा गवर्निंग बोर्ड का निर्णय अंतिम होगा। विस्तृत जानकारी के लिये जिला परियोजना संचालक आत्मा के कार्यालय में संपर्क किया जा सकता है।


बारिश के मौसम में कई बीमारियों से खतरा, मच्छर जनित बीमारियों से बचाव हेतु सलाह


मच्छरों के पैदा होने के लिए सभी संभावित स्थानों एवं अनुकूल परिस्थितियों के बारे मे जागरूकता एवं संचार गतिविधियों की जानकारी जिले की विभिन्न बस्तियों में दी गई। बारिश का मौसम कई बीमारियों के लिए खतरा बनता है। जिनमें मच्छरों से होने वाली बीमारियां प्रमुख हैं। बारिश के मौसम में पानी जमा होने एवं गंदगी होने के कारण मच्छरों का पनपना आसान होता है। मच्छरों के काटने से डेंगू, मलेरिया, चिकिनगुनिया जैसी बीमारियां होती हैं जो कि कई बार गंभीर भी हो सकती हैं। मच्छरजनित बीमारियों से बचाव के लिए जिले में निरंतर घर-घर सर्वे एवं जन-जागरूगता कार्य किया जा रहा है। मच्छरजनित बीमारियों में मलेरिया सबसे प्रचलित बीमारी है। यह बीमारी मादा एनाफिलीज़ मच्छर के काटने से होती है। ठंड लगकर बुखार आना मलेरिया का प्रमुख लक्षण हैं। मलेरिया की जांच एवं दवाईयां सभी शासकीय स्वास्थ्य संस्थाओं में निःशुल्क प्रदान की जाती है। मलेरिया के इलाज के लिए प्रमाणिक एवं सुरक्षित दवाएं उपलब्ध हैं। मच्छरों से होने वाली बीमारी डेंगू की पहचान सही समय पर ना किये जाने पर घातक रूप ले सकती है। यह बीमारी एडीज मच्छर के काटने से फेलती है। जब कोई एडीज मच्छर डेंगू के किसी रोगी को काटता है तो वह उस रोगी का खून चूसता है। खून के साथ डेंगू वायरस मच्छर के शरीर में प्रवेश कर जाता है। मच्छर के शरीर में डेंगू वायरस का कुछ और दिनों तक विकास होता है। जब डेंगू वायरस युक्त मच्छर किसी अन्य स्वस्थ व्यक्ति को काटता है तो वह डेंगू वायरस को उस व्यक्ति के शरीर में पहुँचा देता है । इस प्रकार वह व्यक्ति डेंगू वायरस से संक्रमित हो जाता है तथा कुछ दिनों के बाद उसमें डेंगू बुखार रोग के लक्षण प्रकट हो सकते हैं। जिस दिन डेंगू वायरस से संक्रमित कोई मच्छर किसी व्यक्ति को काटता है तो लगभग 3-5 दिनों बाद ऐसे व्यक्ति में डेंगू बुखार के लक्षण प्रकट हो सकते हैं। यह संक्रामक काल 3-10 दिनों तक भी हो सकता है । डेंगू बुखार तीन प्रकार के होते हैं। साधारण डेंगू बुखार, डेंगू हेनरेजिक बुखार, डेंगू शॉक सिन्ड्रोम, यदि डेंगू हेमरेजिक बुखार, डेंगू शॉक सिन्ड्रोम का तुरन्त उपचार शुरू नहीं किया जाता है तो वे जानलेवा सिद्ध हो सकते हैं। चिकिनगुनिया भी एडिज मच्छर से होने वाली बीमारी है। मच्छर को पनपने से रोकना एवं मच्छरों से बचाना इन बीमारियों से बचने का सबसे आसान उपाय है। पानी के भराव को रोकना, आसपास के परिवेश में स्वच्छता का निर्माण, मच्छरदानी का उपयोग इत्यादि बेहद सरल उपाय हैं जो कि मच्छरों से एवं उनसे होने वाली बीमारियों से बचाव कर सकता है।


पोस्ट मैट्रिक छात्रवृत्ति का राज्यांश जारी


पोस्ट मेट्रिक छात्रवृत्ति योजना अंतर्गत वर्ष 2021-22 के लिए निर्देश जारी किये गये हैं। जारी निर्देशानुसार अनुसूचित जाति वर्ग के विद्यार्थियों को सत्र 2021-22 नवीनीकरण अन्तर्गत आवेदनों की स्वीकृति राशि योजना नियमानुसार पूर्ण की जायेगी परन्तु स्वीकृत राशि मे से राज्यांश राशि 40 प्रतिशत का ही भुगतान पोर्टल के माध्यम से करने के निर्देश है। जिले के महाविद्यालयों में अध्ययनरत अनुसूचित जाति वर्ग के नवीनीकरण के विद्यार्थियों को अवगत कराया गया है कि वर्तमान में स्वीकृत राशि में से 40 प्रतिशत राशि का ही भुगतान किया गया है। शेष 60 प्रतिशत राशि केन्द्रांश मद में उपलब्ध होने पर भुगतान किया जायेगा।


दिव्यांग विद्यार्थियों के लिए छात्रवृत्ति पोर्टल


सामाजिक न्याय विभाग ने बताया कि दिव्यांगजन सशक्तिकरण विभाग भारत सरकार द्वारा राष्ट्रीय छात्रवृत्ति पोर्टल विकसित किया है। जिस पर दिव्यांग विद्यार्थी हेतु प्री-मैट्रिक, पोस्ट मैट्रिक एवं टॉप क्लास छात्रवृत्ति योजना का संचालन किया जा रहा है। प्री-मैट्रिक छात्रवृत्ति के लिये वर्ष 2022-23 हेतु ऑनलाइन आवेदन 30 सितम्बर तक प्रस्तुत किये जा सकते है। शैक्षणिक संस्था द्वारा आवेदन सत्यापन की अंतिम तिथि 16 अक्टूबर निर्धारित की गई है। इसी प्रकार पोस्ट मैट्रिक एवं टॉप क्लास छात्रवृत्ति के लिये पंजीयन की अंतिम तिथि 31 अक्टूबर निर्धारित की गई है। शैक्षणिक संस्था द्वारा आवेदन के सत्यापन की अंतिम तिथि 15 नवम्बर 2022 निर्धारित की गई है।


अब वोटर आई डी के लिए दफ्तरों के चक्कर लगाना बंद


अब वोटर कार्ड के लिये आवेदन करने के बाद कलेक्ट्रेट और तहसील दफ्तरों के चक्कर लगाने की जरूरत नहीं पड़ेगी, क्योंकि अब एक अप्रैल से घर बैठे स्पीड पोस्ट के जरिये कार्ड पहुंचाया जायेगा। पहले वोटर आईडी कार्ड पहुंचाने की जिम्मेदारी बीएलओ की हुआ करती थी, लेकिन इस बार चुनाव आयोग ने डाक विभाग को यह जिम्मेदारी दी है। प्रदेश के सभी जिलों में एक अप्रैल के बाद स्पीड पोस्ट के जरिये कार्ड पहुंचाये जायेंगे। इसके लिये वोटर्स को कोई फीस नहीं देना होगा। भारत निर्वाचन आयोग इसका खर्च उठायेगा। अब ऑनलाइन या फिर ऑफलाइन वोटर आईडी बनवाने के लिये आवेदन करना होगा। ईपिक नंबर जनरेट होने के बाद घर कार्ड पहुंचा दिया जायेगा, लेकिन फॉर्म में सारी डिटेल्स सही भरना होगा। वोटर जो भी रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर फॉर्म में दर्ज करेंगे, उस पर स्पीड पोस्ट का मैसेज आयेगा। इससे कार्ड की ट्रेकिंग में आसानी होगी।


परिवार के सभी सदस्यों का नाम एक ही मतदान केंद्र पर हो


मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी श्री राजन ने कहा कि एक ही मतदान केंद्र पर एक परिवार के सभी सदस्यों का नाम होना चाहिए। सभी मतदान केंद्रों का सत्यापन कराएं, जिससे केंद्रों की वर्तमान स्थिति का पता चल सकें। उल्लेखनीय है कि भारत निर्वाचन आयोग द्वारा 25 जुलाई 2022 को विशेष संक्षिप्त पुनरीक्षण-2023 कार्यक्रम के अनुसार प्रदेश में इसकी तैयारी शुरू हो गई थी। श्री राजन ने बताया कि 9 नवंबर 2022 को प्रदेश के समस्त मतदान केंद्रों पर मतदाता सूची के प्रारूप का प्रकाशन किया जाएगा। इसी तारीख से 8 दिसंबर तक मतदाता नाम जोड़ने, हटाने, त्रुटि सुधार के लिए आवेदन कर सकेंगे। बीएलओ कार्यालयीन समय पर मतदान केंद्रों पर आवेदन लेंगे। 26 दिसंबर तक प्राप्त आवेदन-पत्रों का निराकरण किया जाएगा। इसके बाद 5 जनवरी 2023 को अंतिम मतदाता सूची का प्रकाशन किया जाएगा। ऐसे मतदाता परिचय-पत्र है, जिसमें पुरानी ब्लैक एवं व्हॉइट फोटो लगी हुई है। उनको बदला जाएगा। कलर फोटो लगाकर नया वोटर आईडी कार्ड जारी किया जाएगा। श्री राजन ने मतदाताओं की डेमोग्राफिक सीमिलर एंट्री, फोटो सीमिलर एंट्री, ईपिक कार्ड की दोहरी एंट्री को समाप्त करने, खराब, जीर्णशीर्ण मतदान भवनों की जगह नजदीक बने नए भवनों को मतदान केंद्र बनाने के निर्देश दिए। पुनरीक्षण के दौरान यह भी ध्यान रखा जाए कि एक परिवार के सभी सदस्यों का नाम एक ही मतदान केंद्र पर हो। किसी भी सदस्य का नाम न छूटे।


दो कि.मी. से अधिक दूरी पर न हो मतदान केंद्र

मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी श्री राजन ने बताया कि दो किलोमीटर से अधिक की दूरी पर मतदान केंद्र नहीं होना चाहिए। विशेष संक्षिप्त पुनरीक्षण गतिविधियों के दौरान इस पर विशेष ध्यान देना होगा। उन्होंने कहा कि जिन जिलों में ऐसे मतदान केंद्र हैं, जिसमें मतदाताओं की संख्या 1500 से अधिक और 200 से कम है। उन मतदान केंद्रों का भी सत्यापन कर युक्तियुकरण की कार्रवाई की जाये।


वोटर आईडी कार्ड से आधार को जोड़ने में युवाओं की भागीदारी करें सुनिश्चित


मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी श्री अनुपम राजन ने वोटर आईडी कार्ड से आधार को जोड़ने में युवा मतदाताओं की भागीदारी सुनिश्चित करने को वीडियो कॉफेंसिंग से चर्चा की। श्री अनुपम राजन ने कहा कि भारत निर्वाचन आयोग द्वारा 1 अगस्त से वोटर आईडी कार्ड से आधार जोड़ने का अभियान चलाया जा रहा है, जिसकी शुरुआत भी हो चुकी है। अभियान में अधिक से अधिक युवा मतदाता जुड़े, इसके लिए महाविद्यालयों में अभियान चलाएँ। स्वीप गतिविधियाँ करें। विद्यार्थियों को वोटर हेल्पलाइन एप डाउनलोड कराएँ, जिससे वे अपना और अपने परिवार के सदस्यों का आसानी से आधार नंबर दर्ज कर सकें।


वोटर हेल्पलाइन एप से मिल जाएगी सारी जानकारी

मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी श्री राजन ने जानकारी दी कि वोटर हेल्पलाइन एप को डाउनलोड करने के बाद युवाओं को कहीं जाने की जरूरत नहीं पड़ेगी। इसमें निर्वाचन से जुड़ी सारी जानकारी आसानी से मिल जाएगी। इस एप से युवा मतदाता सूची में अपना नाम जुड़वा सकते हैं और आधार लिंक करा सकते हैं। उन्होंने बताया कि ऐसे युवा, जो 18 साल के हो गए हैं और उनका नाम मतदाता सूची में नहीं जुड़ा है, को मतदाता सूची में नाम जुड़वाने के लिए एक साल में चार मौके मिलेंगे। एक जनवरी, अप्रैल, जुलाई और अक्टूबर की पहली तारीख पर 18 साल के होने पर ऑनलाइन और ऑफलाइन आवेदन किए जा सकेंगे।


17 साल के युवा अग्रिम तौर पर कर सकते हैं आवेदन

मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी श्री राजन ने बताया कि भारत निर्वाचन आयोग ने युवा मतदाताओं को एक और सहूलियत दी है। जो युवा 17 साल के हैं वे भी मतदाता सूची में नाम जुड़वाने के लिए अग्रिम तौर पर आवेदन कर सकते हैं। उनकी 18 साल की उम्र होते ही नाम आसानी से सूची में जुड़ जाएगा। उन्हें दोबारा आवेदन करने की जरूरत नहीं होगी।


आयुर्वेद चिकित्सा पद्धति को दी जाएगी नई दिशा


आयुर्वेद चिकित्सा पद्धति को जन-सामान्य में और अधिक विश्वसनीय और लोकप्रिय बनाने के लिये शासकीय आयुर्वेद संस्थान में टास्क फोर्स समिति की दूसरी बैठक हुई। टास्क फोर्स समिति के सदस्यों ने आयुर्वेद के माध्यम से जन-स्वास्थ्य के क्षेत्र में किये जाने वाले कार्यक्रमों पर विस्तार से चर्चा की। बैठक में एनीमिया कुपोषण, गर्भिणी की उचित देखभाल, स्कूल स्वास्थ्य कार्यक्रम, लाईफ स्टाईल डिसऑर्डर्स और मेडिशनल प्लांटस के क्षेत्र में बेहतर संभावना और समुचित उपयोग पर चर्चा हुई। साथ ही आयुर्वेद के क्षेत्र में शैक्षणिक गुणवत्ता को बढ़ाये जाने, अनुसंधान एवं प्रशिक्षण, घर-घर हर्बल गार्डन की स्थापना, जनजातीय क्षेत्रों में व्याप्त सिकल सेल एनीमिया रोग के उपचार पर भी विशेषज्ञों ने अपनी राय जाहिर की। आयुर्वेद आहार के संबंध में भी विशेषज्ञों ने अपने विचार रखे।


पाँच बिन्दुओं पर रिपोर्ट तैयार करने का निर्णय

टास्क फोर्स समिति ने आयुर्वेद आधारित इंटीग्रेटिव पब्लिक हेल्थ एण्ड पॉलिसी, एजुकेशन एण्ड स्किल्स, रिसर्च एण्ड इनोवेशन, मेडिकल प्लाँन्टस एण्ड प्रोडक्टस और प्रदेश में संचालित आयुष क्योर- "वैद्य आपके द्वार" को केन्द्रित करते हुए रिपोर्ट तैयार करने का निर्णय लिया है।


खिलाड़ी प्रोत्साहन योजना का श्रमिकों के बच्चों को लाभ मिलेगा


पंजीकृत निर्माण श्रमिक अथवा उनके परिवार के सदस्य खेल और युवा कल्याण विभाग द्वारा संचालित खिलाड़ी प्रोत्साहन योजना का लाभ उठाएं। मध्यप्रदेश भवन एवं अन्य संनिर्माण कर्मकार मंडल की खिलाड़ी प्रोत्साहन योजना के नियमों के अनुसार पंजीकृत निर्माण श्रमिक अथवा उनके परिवार के सदस्य को जिला स्तरीय खेल प्रतियोगिता में चयनित होने पर 10 हजार रूपए, संभाग स्तरीय खेल प्रतियोगिता में चयनित होने पर 25 हजार रूपए तथा राज्य स्तरीय प्रतियोगिता में चयनित होने पर 50 हजार रूपए की प्रोत्साहन राशि प्रदाय की जाती है। योजना का लाभ उठाने के लिए पंजीकृत निर्माण श्रमिक अथवा उनके परिजन ग्रामीण क्षेत्र के लिए मुख्य कार्यपालन अधिकारी जनपद पंचायत तथा शहरी क्षेत्र में मुख्य नगरपालिका अधिकारी नगरपालिका परिषद, नगर पंचायत में संपर्क कर सकते हैं। इच्छुक पंजीकृत निर्माण श्रमिको एवं उनके परिजनो से कहा है कि वे खेल और युवा कल्याण विभाग द्वारा समय-समय पर आयोजित होने वाली विभिन्न खेल प्रतियोगिताओं में भाग लेकर उक्त योजना का लाभ प्राप्त करें। 

कोई टिप्पणी नहीं: