बिडेन ने ईयू से बात करने की ट्रूज से की अपील - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

विजयी विश्व तिरंगा प्यारा , झंडा ऊँचा रहे हमारा। देश की आज़ादी के 75 वर्ष पूरे होने पर सभी देशवासियों को अनेकानेक शुभकामनाएं व बधाई। 'लाइव आर्यावर्त' परिवार आज़ादी के उन तमाम वीर शहीदों और सेनानियों को कृतज्ञता पूर्ण श्रद्धासुमन अर्पित करते हुए नमन करता है। आइए , मिल कर एक समृद्ध भारत के निर्माण में अपनी भूमिका निभाएं। भारत माता की जय। जय हिन्द।

बुधवार, 21 सितंबर 2022

बिडेन ने ईयू से बात करने की ट्रूज से की अपील

biden-urges-truce-to-speak-to-the-eu
वाशिंगटन 21 सितंबर, अमेरिका के राष्ट्रपति जो बिडेन ने ब्रिटेन की प्रधानमंत्री लिज ट्रूज़ से अपील की है कि वह उत्तरी आयरलैंड में पोस्ट ब्रेक्जिट व्यापारिक व्यवस्थाओं को लेकर यूरोपियन यूनियन (ईयू) के साथ चल रहे तनाव को कम करने के लिए काम करें। व्हाइट हाउस की ओर से जारी बयान में यह जानकारी दी गयी। सुश्री ट्रूज संयुक्त राष्ट्र के सम्मेलन में हिस्सा लेने न्यूयार्क की यात्रा पर थीं और वहीं पर दोनों नेताओ के बीच द्विपक्षीय वार्ता होगी। ब्रिटेन की विवादित योजना उत्तरी आयरलैंड प्रोटोकॉल को लेकर दोनों नेताओं के बीच तनाव है। सुश्री ट्रूज ने कहा कि वह इस सौदे में परेशानी खड़ी करने की इजाजत किसी को नहीं देगीं। सुश्री ट्रूज और श्री बिडेन ने कहा कि प्रोटोकॉल को लेकर बातचीत की गयी है। सुश्री ट्रूज ने न्यूयार्क में पत्रकारों से कहा कि ब्रिटेन को उत्तरी आयरलैंड में नयी सरकार के गठन से जुडी समस्याओं का समाधान करना चाहिए और उत्तर से दक्षिण तथा पूर्व से पश्चिम के बीच सुगम व्यापार सुनिश्चित करना चाहिए। अमेरिका के राष्ट्रीय सुरक्षाा सलाहकार जेक सुलीवान ने मंगलवार को पत्रकारों को बताया कि उत्तरी आयरलैंड शांति समझौता -गुडफ्राइडे समझौते कीरक्षा के लिए अमेरिकी राष्ट्रपति, ब्रिटेन और ईयू दोनों को एक समझौते पर पहुंचने के लिए प्रेरित करेंगे। उत्तरी आयरलैंड प्रोटोकॉल ब्रेक्सिट समझौते का एक हिस्सा है, जिसके तहत माल से लदे ट्रक जब ब्रिटेन के उत्तरी आयरलैंड से ईयू के आयरिश रिपब्लिक में जायेंगे तो उनकी चेकिंग नहीं की जायेगी लेकिन जब उत्तरी आयरलैंड में ब्रिटेन के अन्य हिस्सों जैसे इंग्लैंड, स्कॉटलैंड और वेल्स से सामान आयेगा तो उनकी चेकिंग की जायेगी। उत्तरी आयरलैंड के विवादित राजनीतिक इतिहास के कारण आयरिश बॉर्डर की संवेदनशीलता को देखते हुए ब्रिटेन और ईयू ने इस समझौते को स्वीकार किया था।

कोई टिप्पणी नहीं: