मोदी सरकार ने चीन के मुद्दे पर देश को गुमराह किया : पवार - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

विजयी विश्व तिरंगा प्यारा , झंडा ऊँचा रहे हमारा। देश की आज़ादी के 75 वर्ष पूरे होने पर सभी देशवासियों को अनेकानेक शुभकामनाएं व बधाई। 'लाइव आर्यावर्त' परिवार आज़ादी के उन तमाम वीर शहीदों और सेनानियों को कृतज्ञता पूर्ण श्रद्धासुमन अर्पित करते हुए नमन करता है। आइए , मिल कर एक समृद्ध भारत के निर्माण में अपनी भूमिका निभाएं। भारत माता की जय। जय हिन्द।

रविवार, 11 सितंबर 2022

मोदी सरकार ने चीन के मुद्दे पर देश को गुमराह किया : पवार

modi-led-government-misled-nation-on-china-issue-pawar
नयी दिल्ली 11 सितम्बर, राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) के अध्यक्ष शरद पवार ने रविवार को केंद्र की नरेंद्र मोदी नीत भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) सरकार पर जमकर निशाना साधा और आरोप लगाया कि चीन के मुद्दे पर प्रधानमंत्री ने देश को गुमराह किया है। श्री पवार ने दिल्ली के तालकटोरा स्टेडियम में राकांपा के आठवें राष्ट्रीय अधिवेशन को संबोधित करते हुए कहा कि प्रधानमंत्री ने दावा किया था कि चीनी सेना ने भारतीय क्षेत्र में प्रवेश नहीं किया , लेकिन अब यह स्पष्ट है कि उन्होंने गलतबयानी की थी। उन्होने जोर दिया कि चीन के मसले पर मोदी सरकार की विफलता स्पष्ट है। उन्होंने सवालिया लहजे में कहा, “ नरेंद्र मोदी सरकार के रहते चीन ने भारतीय सीमा पर एलएसी का लगातार उल्लंघन किया। हम चीनी घुसपैठ के सामने मुखर होकर कार्रवाई क्यों नहीं कर पा रहे हैं। अगर यह हमारी विफलता नहीं है तो क्या है।” अर्थव्यवस्था की स्थिति पर सरकार पर हमला करते हुए श्री पवार ने कहा कि सरकार का दावा है कि भारतीय अर्थव्यवस्था मजबूत हो गयी है जबकि देश बहुत अधिक मुद्रास्फीति और बेरोजगारी का सामना कर रहा है।उन्होने कहा कि केंद्र सरकार की गलत और तर्कहीन नीतियों के कारण आज महंगाई चरम पर है। वहीं रोजगार की समस्याओं के साथ-साथ देश की सुरक्षा को लेकर भी चिंताएं बढ़ गयी हैं। राकांपा नेता ने पार्टी कार्यकर्ताओं से केंद्र सरकार के कुकर्मों को चुनौती देने के लिए राष्ट्रीय स्तर पर जुटने के लिए तैयार रहने का आह्वान किया। उन्हेंने कहा “ विपक्षी एकता इसकी सर्वोच्च प्राथमिकता होगी। लोकतांत्रिक मूल्यों में लगातार गिरावट आ रही है, ऐसे में हमारे देश के युवाओं को आगे आना होगा। अब नयी पीढ़ी को लोकतांत्रिक तरीके से केंद्र सरकार के कुकर्मों के खिलाफ लड़ने के लिए नेतृत्व की भूमिका निभाने की जरूरत है।” श्री पवार ने महंगाई और बेरोजगारी का मुद्दा उठाते हुए कहा “यह देश में अपने चरम पर है। संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन सरकार के समय 410 रुपये में उपलब्ध एलपीजी सिलेंडर के लिए अब 1100 रुपये देने पड़ रहे हैं। पेट्रोल-डीजल की आसमान छूती कीमतों ने आम आदमी की कमर तोड़ दी है। इनके दाम बढ़ने से हर वस्तु की कीमत पर असर पड़ा है। खाद्य तेल, खाद्यान्नों और दवाइयों की कीमतें इतनी बढ़ गयी हैं कि आम आदमी इन्हें खरीदते वक्त पसीने-पसीने हो जा रहा है। एक सर्वेक्षण का हवाला देते हुए उन्होंने कहा कि इस साल 19 लाख युवाओं की नौकरियां दांव पर हैं ।देश में 40 लाख नौकरियों के लिए 31 लाख पद फिलहाल खाली हैं, लेकिन सरकार के उदासीन रवैये के कारण युवाओं की उपेक्षा की जा रही है। अधिवेशन के लिए दिल्ली आये सभी नेताओं और कार्यकर्ताओं की सराहना करते हुए उन्होंने अपील की कि राकांपा को हर चुनौती को स्वीकार करना होगा और उन ताकतों के खिलाफ लड़ना होगा जो लोकतांत्रिक संस्थाओं को पंगु बना रही हैं। सम्मेलन में राकांपा की वरिष्ठ नेता सुप्रिया सुले, प्रफुल्ल पटेल, अजीत पवार, योगानंद शास्त्री और अन्य क्षेत्रों के नेता उपस्थित रहे। इससे पहले राकांपा के राष्ट्रीय अधिवेशन में श्री पवार को सर्वसम्मति से चार वर्षों के लिए फिर पार्टी अध्यक्ष चुना गया। वह 1999 से राकांपा के अध्यक्ष पद पर कायम हैं। उन्होंने कांग्रेस से अलग होकर सर्वश्री पी ए संगमा और तारिक अनवर के साथ इस पार्टी का गठन किया था। कोरोना महामारी के कारण राकांपा राष्ट्रीय अधिवेशन दो वर्षों बाद हुआ है। 

कोई टिप्पणी नहीं: