विकसित भारत के लिए उन्नत बुनियादी सुविधाओं का बड़ा महत्व : मोदी - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

विजयी विश्व तिरंगा प्यारा , झंडा ऊँचा रहे हमारा। देश की आज़ादी के 75 वर्ष पूरे होने पर सभी देशवासियों को अनेकानेक शुभकामनाएं व बधाई। 'लाइव आर्यावर्त' परिवार आज़ादी के उन तमाम वीर शहीदों और सेनानियों को कृतज्ञता पूर्ण श्रद्धासुमन अर्पित करते हुए नमन करता है। आइए , मिल कर एक समृद्ध भारत के निर्माण में अपनी भूमिका निभाएं। भारत माता की जय। जय हिन्द।

गुरुवार, 1 सितंबर 2022

विकसित भारत के लिए उन्नत बुनियादी सुविधाओं का बड़ा महत्व : मोदी

improved-infrastructure-developed-india-modi
कोच्चि, 01 सितम्बर, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुरुवार को कहा कि भारत को विकसित देश बनाने की दिशा में आधुनिक बुनियादी ढांचे की बड़ी भूमिका है और सरकार कृषि क्षेत्र से लेकर उद्योग तक के लिए सहायक आधुनिक सुविधाओं का विकास कर रही है जिससे इन क्षेत्रों में केरल सहित पूरे देश में रोजगार के नये अवसर सृजित होंगे। श्री मोदी केरल में कोच्चि मेट्रो रेल और भारतीय रेल की 4500 करोड़ रुपये से अधिक की विभिन्न परियोजनाओं के उद्घाटन और शिलान्यास समारोह को संबोधित कर रहे थे। इससे पहले प्रधानमंत्री ने कोच्चि में कलाडि गांव में श्री आदि शंकराचार्य जन्मभूमि क्षेत्रम का दर्शन किया। श्री मोदी ने रेल एवं मेट्रो रेल परियोजनाओं के शिलान्यास एवं उद्घाटन के अवसर पर आयोजित जनसभा को संबोधित करते हुए लोगों को ओणम की बधाई दी। उन्होंने कहा, “ आज केरल का कोना-कोना ओणम के पावन उत्सव की खुशियों से सराबोर है, उत्साह के इस अवसर पर केरल को सम्पर्क सुविधा से जुड़ी 46 हजार करोड़ रुपये से अधिक की परियोजनाओं का उपहार मिला है। ” प्रधानमंत्री ने कहा कि गत आठ वर्ष में केन्द्र सरकार ने मेट्रो रेल को नगरीय परिवहन का प्रमुख साधन बनाने के लिए लगातार काम किया है। केन्द्र ने मेट्रो को राजधानी दिल्ली से निकाल कर देश के दूसरे बड़े शहरों में भी विस्तार दिया है। उन्होंने कहा, “ हम भारतीय रेल का भी पूरी तरह से कायाकल्प कर रहे हैं, आज देश में रेलवे स्टेशनों को भी हवाई अड्डों की तरह विकसित किया जा रहा है। ”


श्री मोदी ने कहा कि आधुनिक एवं बेहतरीन आवागमन सुविधाओं का सबसे अधिक लाभ पर्यटन और व्यापार क्षेत्र को मिलता है। पर्यटन ऐसा उद्योग है जिसमें गरीब, मध्य वर्ग, गांव एवं शहर सब तरह के लोग जुड़ते हैं, सभी कमाते हैं। उन्होंने कहा कि आजादी के अमृत काल में पर्यटन के विकास से देश को बड़ी मदद मिलेगी। उल्लेखनीय है कि केरल राज्य भारत में पर्यटकों के आकर्षण का एक मुख्य केन्द्र माना जाता है। प्रधानमंत्री ने कहा कि केरल की विशेषता है कि यहां लोगों की देखभाल (केयर) और लोगों का ख्याल (कन्सर्न) सामाजिक जीवन का हिस्सा है। उन्होंने इसी प्रसंग में हरियाणा में फरीदाबाद में मां अमृतानंदमयी के अमृता अस्पताल का जिक्र किया। उन्होंने पिछले दिनाें इस अस्पताल का उद्घाटन किया था। केरल स्वास्थ्य पर्यटन की दृष्टि से भी दुनिया का एक प्रमुख केन्द्र बन रहा है। श्री मोदी ने कहा, “ करुणा से भरी कोई अमृतानंद मां का आशीर्वाद पाकर मैं वहां धन्य हो गया। मैं आज केरल की धरती से उनका फिर से आभार व्यक्त करता हूं।” उन्होंने कहा कि हम भारतवासियों ने आजादी के अमृतकाल यानी आने वाले 25 वर्ष में विकसित भारत का एक विराट संकल्प लिया है। विकसित भारत के इस वृहद योजना में आधुनिक बुनियादी ढांचे का बड़ी भूमिका है। प्रधानमंत्री कार्यालय की विज्ञप्ति के अनुसार पहले चरण के विस्तार में कोच्चि में पेट्टा से एस एन जंक्शन तक की मेट्रो लाइन के कार्य की लागत सात सौ करोड़ रुपये है। बयान में कहा गया है कि कोच्चि मेट्रो रेल भारत में कार्बन उत्सर्जन पर नियंत्रण की दृष्टि से सबसे स्वस्थ परियोजनाओं में एक है और इसकी करीब 55 प्रतिशत बिजली की जरूरत सौर ऊर्जा से पूरी होगी। कोच्चि मेट्रो रेल के दूसरे चरण में जेएलएन स्टेडियम से इन्फोपार्क तक की 11.2 किमी के रास्ते में 11 स्टेशन बनेंगे और इस पर 1,950 करोड़ रुपये की लागत आएगी। मोदी सरकार के कार्यकाल में देश में मेट्रो रेल नेटवर्क का तेजी से विस्तार हुआ है। वर्ष 2004 में केवल पांच शहरों में मेट्रो रेल का परिचालन हो रहा था। अब ये सुविधा 20 शहरों में शुरू हो गयी है। इस दौरान मेट्रो लाइन नेटवर्क 245 किमी से बढ़कर 775 किमी तक पहुंच गया है और एक हजार किमी की लाइनों पर काम चल रहा है। प्रधानमंत्री ने कुरुपन्थरा-कोट्टायम-चिंगवनम रेल खंड पर रेलवे लाइन दोहरीकरण परियोजना को राष्ट्र को समर्पित किया। इस पर 750 करोड़ रुपये की लागत आयी है। इससे सबरीमाला में भगवान अयप्पा के मंदिर के दर्शनार्थियों काे सुविधा होगी। श्री मोदी ने इस अवसर केरल में एरनाकुलम जंक्शन,एरनाकुलम टाउन एवं कोल्लम रेलवे स्टेशनों के आधुनिकीकरण की परियोजना के शिलापट का अनावरण भी किया। इन तीनों के स्टेशनों के पुनर्विकास पर 1050 करोड़ रुपये के खर्च होने का अनुमान है। आधुनिक सुविधाओं से सुसज्जित ये स्टेशन सौर ऊर्जा, बिजली की बचत करने वाली प्रकाश प्रणाली और वर्षा जल संग्रह जैसी सुविधाओं से सुसज्जित होंगे और आवागमन की अन्य प्रणालियों से जुड़े होंगे।

कोई टिप्पणी नहीं: