अंडर-17 महिला फुटबाल विश्व कप के आयोजन को मंत्रिमंडल की मंजूरी - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

विजयी विश्व तिरंगा प्यारा , झंडा ऊँचा रहे हमारा। देश की आज़ादी के 75 वर्ष पूरे होने पर सभी देशवासियों को अनेकानेक शुभकामनाएं व बधाई। 'लाइव आर्यावर्त' परिवार आज़ादी के उन तमाम वीर शहीदों और सेनानियों को कृतज्ञता पूर्ण श्रद्धासुमन अर्पित करते हुए नमन करता है। आइए , मिल कर एक समृद्ध भारत के निर्माण में अपनी भूमिका निभाएं। भारत माता की जय। जय हिन्द।

बुधवार, 14 सितंबर 2022

अंडर-17 महिला फुटबाल विश्व कप के आयोजन को मंत्रिमंडल की मंजूरी

cabinet-approval-under-17-women-football-world-cup
नयी दिल्ली, 14 सितम्बर, केन्द्रीय मंत्रिमंडल ने देश में फेडरेशन डी फुटबॉल एसोसियेशन (फीफा) अंडर-17 महिला विश्व कप के आयोजन को हरी झंडी दिखा दी है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की अध्यक्षता में बुधवार को हुई केन्द्रीय मंत्रिमंडल की बैठक में इस आशय का निर्णय लिया गया। सूचना एवं प्रसारण मंत्री अनुराग ठाकुर ने यहां संवाददाता सम्मेलन में बताया कि केन्द्रीय मंत्रिमंडल ने देश में अंडर-17 महिला फुटबाल विश्व कप के आयोजन की मंजूरी दे दी है। उन्होंने कहा कि इस विश्व कप का आयोजन 11 से 30 अक्टूबर 2022 तक किया जायेगा। इस विश्व कप का देश में पहली बार आयोजन किया जा रहा है। इससे पहले भारत में अंडर -17 पुरूष विश्व कप का आयोजन किया जा चुका है। उन्होंने कहा कि इस आयोजन में दुनिया भर की युवा महिला खिलाड़ी अपना जौहर दिखायेंगी। उल्लेखनीय है कि फीफा ने ‘तीसरे पक्ष के अनावश्यक हस्तक्षेप’ का हवाला देते हुए 16 अगस्त, 2022 को भारत को निलंबित कर दिया था, जिसके बाद देश से फीफा अंडर-17 महिला विश्व कप की मेजबानी भी छिन गयी थी। फीफा ने कहा था कि अखिल भारतीय फुटबॉल महासंघ (एआईएफएफ) के संचालन के लिये गठित प्रशासकों की समिति के भंग होने और महासंघ के दैनिक कार्य एआईएफएफ प्रशासन के हाथों में जाने के बाद यह निलंबन हटा दिया जाएगा। उच्चतम न्यायालय ने आवश्यक कदम उठाते हुए एआईएफएफ को उसके महासचिव सुनंदो धर के हवाले कर दिया था, जिसके बाद फीफा ने भारत से निलंबन हटा लिया। इस फैसले के साथ फीफा ने अंडर-17 महिला विश्व कप की मेजबानी भी भारत को लौटा दी। श्री ठाकुर ने कहा कि इस आयोजन के लिए एआईएफएफ को खेल के मैदान के रख-रखाव, स्टेडियम में दर्शकों की क्षमता, ऊर्जा एवं केबल बिछाने तथा मैदान और प्रशिक्षण साइट की ब्रांडिंग आदि के लिए 10 करोड़ रूपये की सहायता दी जायेगी। उन्होंने बताया कि इस सहायता का वित्तीय परिव्यय राष्ट्रीय खेल संघों (एनएसएफ) को सहायता योजना के लिए बजटीय आवंटन से वहन किया जाएगा। 

कोई टिप्पणी नहीं: