सीतामढ़ी : सीतामढ़ी पहुंचे प्रशांत किशोर, लोगों के साथ किया संवाद - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

विजयी विश्व तिरंगा प्यारा , झंडा ऊँचा रहे हमारा। देश की आज़ादी के 75 वर्ष पूरे होने पर सभी देशवासियों को अनेकानेक शुभकामनाएं व बधाई। 'लाइव आर्यावर्त' परिवार आज़ादी के उन तमाम वीर शहीदों और सेनानियों को कृतज्ञता पूर्ण श्रद्धासुमन अर्पित करते हुए नमन करता है। आइए , मिल कर एक समृद्ध भारत के निर्माण में अपनी भूमिका निभाएं। भारत माता की जय। जय हिन्द।

सोमवार, 5 सितंबर 2022

सीतामढ़ी : सीतामढ़ी पहुंचे प्रशांत किशोर, लोगों के साथ किया संवाद

jan-suraj-sitamarhi
सीतामढ़ी, जन सुराज अभियान की शुरआत करने के बाद प्रशांत किशोर बिहार के अलग अलग जिलों में जा रहे हैं। इसी क्रम में  सोमवार 5 सितंबर 2022 को वे सीतामढ़ी पहुंचे। सीतामढ़ी पहुंचने पर सबसे पहले प्रशांत किशोर पुनौरा के जानकी मंदिर पहुंच कर पूजा अर्चना की। इसके बाद शहर के स्थानीय होटल में उन्होंने जिले के पंचायती राज व्यवस्था से जुड़े जनप्रतिनिधियों, प्रबुद्ध नागरिकों, महिलाओं एवं युवाओं के साथ जन सुराज की सोच पर  संवाद किया। 


जन सुराज अभियान का अगर दल बनता है तो वो प्रशांत किशोर का दल नहीं होगा, बिहार के लोगों का दल होगा

प्रशांत किशोर ने प्रेस कॉन्फ्रेंस के माध्यम से स्थानीय मीडिया के साथियों के साथ भी मुखातिब हुए। उन्होंने जन सुराज अभियान के बारे में विस्तार से बताते हुए कहा, "जन सुराज अभियान का मकसद बिहार में सत्ता परिवर्तन करना नहीं है, इस अभियान का मकसद बिहार में वयवस्था परिवर्तन का है। इसलिए  बिहार के विभिन्न हिस्सों में जा रहे हैं और समाज को समझने का प्रयास कर रहे हैं। इसी कार्यक्रम के विस्तृत स्वरूप के तहत 2 अक्तूबर से गांधी आश्रम पश्चिम चंपारण के 3 हजार किमी लंबी पदयात्रा की शुरुआत करेंगे। यह पदयात्रा लगभग एक से डेढ़ साल तक चलेगी और हम इसके माध्यम से बिहार हर गांव, गली,  प्रखंड तक जाने का प्रयास करेंगे। अगर पदयात्रा के बाद सब लोगों की सहमति से कोई दल बनता भी है तो वो बिहार के सभी सही लोगों का दल होगा, प्रशांत किशोर का दल नहीं होगा। मैं उस दल का अध्यक्ष नहीं बनूंगा। सब मिलकर अगर तय करेंगे तो दल बनाया जाएगा। मैं अभी लोगों से बात करने, उनकी समस्याओं को समझने में अपना पूरा वक्त लगा रहा हूं।"


पदयात्रा के बाद जारी करेंगे बिहार के समग्र विकास का ब्लूप्रिंट 

प्रशांत किशोर ने कहा कि बिहार विकास के तमाम मापदंडों पर देश के सबसे पिछड़े राज्यों में शामिल है। 60 के दशक के बाद से ही बिहार पिछड़ता चला गया। बिहार की बदहाली के लिए किसी व्यक्ति या दल को दोषी नहीं ठहराते हुए प्रशांत किशोर ने इसके लिए शासन करने वाले सभी लोगों की सामूहिक विफलता बताया। उन्होंने कहा कि हम 2 अक्तूबर से शुरू हो रहे पदयात्रा के माध्यम से बिहार के हर गांव, प्रखंड में जाना चाहते हैं और घर का दरवाजा खटखटाना चाहते हैं, ताकि बिहार के वास्तविक मुद्दों को समझ सकें। इसके बाद बिहार के समग्र विकास के लिए 10 सबसे महत्वपूर्ण विषय जैसे शिक्षा, स्वास्थ, सड़क, रोजगार आदि पर एक विस्तृत ब्लूप्रिंट जारी करेंगे और उसमे सिर्फ समस्या नहीं गिनाएंगे बल्कि उसका ठोस समाधान भी बताएंगे। ये पूरा ब्लूप्रिंट जमीन पर लोगों से बात कर बनाई जाएगी, इसके बाद भी अगर कोई व्यक्ति इसमें कुछ सुझाव देना चाहते हैं तो वो भी दे सकते हैं।

कोई टिप्पणी नहीं: