फ्रांस के वायुसेना प्रमुख की धर्मपत्नी ने किया गांधी स्मृति का दौरा - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

विजयी विश्व तिरंगा प्यारा , झंडा ऊँचा रहे हमारा। देश की आज़ादी के 75 वर्ष पूरे होने पर सभी देशवासियों को अनेकानेक शुभकामनाएं व बधाई। 'लाइव आर्यावर्त' परिवार आज़ादी के उन तमाम वीर शहीदों और सेनानियों को कृतज्ञता पूर्ण श्रद्धासुमन अर्पित करते हुए नमन करता है। आइए , मिल कर एक समृद्ध भारत के निर्माण में अपनी भूमिका निभाएं। भारत माता की जय। जय हिन्द।

मंगलवार, 8 नवंबर 2022

फ्रांस के वायुसेना प्रमुख की धर्मपत्नी ने किया गांधी स्मृति का दौरा

France-air-chief-wife
नई दिल्ली,  8 नवंबर, आज दुनिया तीसरे विश्व युद्ध की आहट से परेशान है। पूरा विश्व अशांत चल रहा है। रूस-यूक्रेन, इजराइल फिलीस्तीन, हर जगह युद्ध का उन्माद अपने चरम पर है। ऐसे में महात्मा गांधी के अहिंसा, शांति और सद्भाव के मार्ग की तलाश में फ्रांस के वायु और अंतरिक्ष सेना प्रमुख जनरल स्टीफन मिल की धर्मपत्नी श्रीमती नथाली मिल ने आज नई दिल्ली के तीस जनवरी मार्ग स्थित गांधी स्मृति का दौरा किया। उन्होंने महात्मा गांधी के बलिदान स्मारक पर जाकर उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित की। उनका गांधी स्मृति पहुंचने पर गांधी स्मृति एवं दर्शन समिति के निदेशक श्री नीरज कुमार व अन्य अधिकारियों ने उनका अभिनंदन किया। श्रीमती मिल ने यहां स्थित गांधी संग्रहालय का अवलोकन किया। उन्होंने महात्मा गांधी से जुड़ी महत्वपूर्ण जानकारी लेने में गहरी रूचि दिखाई। समिति के गाइड ने उन्हें महात्मा गांधी का वह कक्ष जहां उन्होंने अपने जीवन के अंतिम दिन गुजारे, को देखा। फ्रांस के वायुसेना प्रमुख जनरल स्टीफन मिल इन दिनों भारत की यात्रा पर आए हुए हैं। उल्लेखनीय है कि गांधी स्मृति वह स्थान है, जहां गांधीजी ने अपने जीवन के अंतिम 144 दिन व्यतीत किए थे। यह वह समय था, जब भारत विभाजन के बाद पूरा देश दंगों की आग में झुलस रहा था। ऐसे में शांति स्थापना के उद्देश्य से गांधीजी दिल्ली के बिरला भवन में रहने के लिए आए, जिसे आज गांधी स्मृति कहा जाता है। महात्मा गांधी प्रतिदिन यहां स्थित प्रार्थनास्थल में सर्वधर्म प्रार्थना करते और लोगों को धर्म-जाति से उपर उठकर देशप्र्रेम करने और शांति के मार्ग पर चलने की प्रेरणा देते। 30 जनवरी 1948 को उनकी यहां गोली मारकर हत्या कर दी गई। महात्मा गांधी तो दुनिया से चले गए, लेकिन उनके शांति प्रयासों की कहानी कहता गांधी स्मृति संग्रहालय आज पूरी दुनिया को शांति और सद्भावना के मार्ग पर चलने के लिए प्रेरित करता है।

कोई टिप्पणी नहीं: