कविता : उठो! हिम्मत दिखाओ - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

विजयी विश्व तिरंगा प्यारा , झंडा ऊँचा रहे हमारा। देश की आज़ादी के 75 वर्ष पूरे होने पर सभी देशवासियों को अनेकानेक शुभकामनाएं व बधाई। 'लाइव आर्यावर्त' परिवार आज़ादी के उन तमाम वीर शहीदों और सेनानियों को कृतज्ञता पूर्ण श्रद्धासुमन अर्पित करते हुए नमन करता है। आइए , मिल कर एक समृद्ध भारत के निर्माण में अपनी भूमिका निभाएं। भारत माता की जय। जय हिन्द।

शनिवार, 19 नवंबर 2022

कविता : उठो! हिम्मत दिखाओ

सपना देखना होता है आसान।


तुम उसे पूरा करके दिखाओ।।


दौड़ना तो हर कोई चाहता है।


सबसे आगे बढ़ कर दिखाओ।।


हार तो मिलती है ज़िंदगी में।


हार को जीत कर दिखाओ।।


मुश्किल हर किसी को आती है।


उन मुश्किलों से लड़कर दिखाओ।।


लोग गिराते है कदम-कदम पर।


तुम उठकर चलकर दिखाओ।।


हिम्मत तोड़ेंगे तुम्हारी बार-बार।


अपने हौसले को पूरा करके दिखाओ।।


बदनाम हर कोई करेगा तुम्हें।


तुम इज्जत कमा कर दिखाओ।।


कोशिश तो हर कोई करता है।


तुम कामयाब बन कर दिखाओ।।


सपने तो हर कोई देखता है,


तुम उसे पूरा करके दिखाओ।।




Prerna-singh-hindi-poem

प्रेरणा सिंह

कोड, गरुड़

बागेश्वर, उत्तराखंड

चरखा फीचर

कोई टिप्पणी नहीं: