बिहार : विकास की व्‍यावहारिक दिक्‍कतों की न हो अनदेखी: कृष्‍ण मुरारी - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

विजयी विश्व तिरंगा प्यारा , झंडा ऊँचा रहे हमारा। देश की आज़ादी के 75 वर्ष पूरे होने पर सभी देशवासियों को अनेकानेक शुभकामनाएं व बधाई। 'लाइव आर्यावर्त' परिवार आज़ादी के उन तमाम वीर शहीदों और सेनानियों को कृतज्ञता पूर्ण श्रद्धासुमन अर्पित करते हुए नमन करता है। आइए , मिल कर एक समृद्ध भारत के निर्माण में अपनी भूमिका निभाएं। भारत माता की जय। जय हिन्द।

शुक्रवार, 25 नवंबर 2022

बिहार : विकास की व्‍यावहारिक दिक्‍कतों की न हो अनदेखी: कृष्‍ण मुरारी

Hilsa-jdu-mla-krishna-murari
नालंदा जिले के हिलसा से जदयू के विधायक हैं कृष्‍ण मुरारी शरण उर्फ प्रेम मुखिया। वे कहते हैं कि दो वर्षों का अनुभव काफी अच्‍छा रहा है। विधायी कार्यों को सीखने-समझने का मौका मिला है और इसके माध्‍यम से जनसमस्‍याओं के समाधान का प्रयास भी किया है। उन्‍होंने विकास कार्यों की व्‍यावहारिक दिक्‍कत को अपने अनुभव में साझा किया है। वे कहते हैं कि सरकार का नियम है कि किसी एक गांव को एक दिशा की ओर से सड़क से जोड़ दिया जाता है तो उसे कनेक्टिवी के दायरे में मान लिया जाता है। जबकि सरकार दूसरी दिशा के महत्‍व को अनदेखी कर देती है। एक उदाहरण देते हुए प्रेम मुखिया ने बताया कि उनके विधान सभा क्षेत्र के थरथरी प्रखंड में एक गावं है शेखपुरा डीह। इस गांव को एक दिशा से सड़क से जोड़ दिया गया है। गांव के लोगों को अपने प्रखंड मुख्‍यालय जाने के लिए दूसरे प्रखंड मुख्यालय से होकर गुजरना पड़ता है और इसमें काफी समय लगता है। यदि इस गांव को दूसरी दिशा से कनेक्टिवी दे दी जाये तो लोग 15 मिनट में प्रखंड मुख्‍यालय पहुंच जाये। वे कहते हैं कि इस संबंध में मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार से बात की थी और सदन में उठाया भी था और अगले सेशन में फिर उठाएंगे। वे कहते हैं कि विकास की व्‍यावहारिक दिककतों की अनदेखी नहीं होनी चाहिए।  




--- वीरेंद्र यादव न्‍यूज ----

कोई टिप्पणी नहीं: