बिहार : 23 मार्च का कलंक भुलाया नहीं जा सकेगा: मुकेश रौशन - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

विजयी विश्व तिरंगा प्यारा , झंडा ऊँचा रहे हमारा। देश की आज़ादी के 75 वर्ष पूरे होने पर सभी देशवासियों को अनेकानेक शुभकामनाएं व बधाई। 'लाइव आर्यावर्त' परिवार आज़ादी के उन तमाम वीर शहीदों और सेनानियों को कृतज्ञता पूर्ण श्रद्धासुमन अर्पित करते हुए नमन करता है। आइए , मिल कर एक समृद्ध भारत के निर्माण में अपनी भूमिका निभाएं। भारत माता की जय। जय हिन्द।

रविवार, 20 नवंबर 2022

बिहार : 23 मार्च का कलंक भुलाया नहीं जा सकेगा: मुकेश रौशन

Mahua-rjd-mla-mukesh-raushan
वैशाली जिले के महुआ से राजद के विधायक हैं डॉ मुकेश रौशन। पहले डॉक्‍टरी कर रहे थे, अब विधायकी कर रहे थे। वे कहते हैं कि पहले भी जनता की सेवा कर रहे थे और अब भी जनता की सेवा में लगे हुए हैं। मुकेश रौशन कहते हैं कि सदन के सत्र के दौरान बढ़-चढ़कर हिस्‍सा लेते हैं और जनता के मुद्दों को उठाते हैं। पहले भी सदन में जनता के मुद्दे उठाते थे और अब सदन में भूमिका बदलने के बाद भी जनता के मुद्दे उठाते रहेंगे। वे कहते हैं कि पार्टी ने विश्‍वास किया और जनता ने जिम्‍मेवारी सौंपी। विश्‍वास के साथ अपनी जिम्‍मेवारी को पूरी ईमानदारी के साथ निर्वाह कर रहे हैं। विधान सभा के रूप में काम करने का बड़ा प्लेटफार्म मिला है। उसी के अनुसार काम भी कर रहे हैं। पार्टी नेतृत्‍व ने चुनाव में बड़ी संख्‍या में युवाओं को टिकट दिया था और काफी लोग निर्वाचित भी हुए। हम सभी मिलकर जनहित के काम कर रहे हैं। मुकेश रौशन कहते हैं कि दो वर्षों के संसदीय जीवन में 23 मार्च, 2021 लोकतंत्र में कलंक दिवस के रूप में याद किया जाएगा, जब पुलिस जवानों ने विधान सभा के वेल में घुसकर विधायकों के साथ मारपीट की। लोकतंत्र को कलंकित किया। वे कहते हैं कि विधायी प्रक्रिया के तहत जनहित के अनेक मुद्दे उठाये और उनका समाधान भी हुआ। 






--- वीरेंद्र यादव न्‍यूज ----

कोई टिप्पणी नहीं: