बिहार : मोरतुअरी बनाने की योजना - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

विजयी विश्व तिरंगा प्यारा , झंडा ऊँचा रहे हमारा। देश की आज़ादी के 75 वर्ष पूरे होने पर सभी देशवासियों को अनेकानेक शुभकामनाएं व बधाई। 'लाइव आर्यावर्त' परिवार आज़ादी के उन तमाम वीर शहीदों और सेनानियों को कृतज्ञता पूर्ण श्रद्धासुमन अर्पित करते हुए नमन करता है। आइए , मिल कर एक समृद्ध भारत के निर्माण में अपनी भूमिका निभाएं। भारत माता की जय। जय हिन्द।

बुधवार, 30 नवंबर 2022

बिहार : मोरतुअरी बनाने की योजना

Social-worker-pappu-rai-patna
पटना. पटना महाधर्मप्रांत है कुर्जी पल्ली.कभी यह बताया जाता है कि कुर्जी पल्ली कैथेड्रल है.वास्तव में सर्वज्ञात है कि पटना सिटी पल्ली ही कैथेड्रल है.बांकीपुर पल्ली प्रो कैथेड्रल है.कैथेड्रल में बिशप रहते हैं और उनका चर्च होता है.इस हिसाब से कुर्जी पल्ली और पटना सिटी पल्ली कैथेड्रल नहीं है.बांकीपुर पल्ली प्रो कैथेड्रल में रहते समय महाधर्माध्यक्ष बिलियम डिसूजा ने पल्ली पुरोहित फादर रेमंड केरोबिन के आग्रह पर कब्रिस्तान विस्तार करने के लिए जमीन दी.दोनों अपने पद पर नहीं हैं. महाधर्माध्यक्ष विलियम डिसूजा सेवानिवृत होकर बक्सर धर्मप्रांत के प्रेरितिक प्रशासक बन गए हैं.वहीं पल्ली पुरोहित फादर रेमंड केरोबिन स्थानांतरण होकर राजस्थान में एक कॉलेज के उप प्राचार्य बन गये हैं.इस बीच कुर्जी पल्ली के पल्ली पुरोहित फादर पायस माइकल ओस्ता हैं.कब्रिस्तान विस्तार के बदले उक्त जमीन पर मृत शरीर को रखने के लिए घर (मोरतुअरी) बनाने की योजना बना लिए है. बताते चले कि कुर्जी कब्रिस्तान में जगहाभाव है.जब पटना महाधर्मप्रांत के महाधर्माध्यक्ष सेबेस्टियन कल्लूपुरा से कब्रिस्तान विस्तार के बारे में सवाल किया गया कि आपलोगों के द्वारा कब्रिस्तान विस्तार के लिए जगह दी गयी है.जिस पर कोई कार्य नहीं हो रहा है.एक कब्र में अनेक लोग दफनाएं जा रहे हैं! उनका कहना था कि अब कुर्जी पल्ली के पुरोहित निर्णय लेंगे.यहां पर पल्ली परिषद का निर्णय नहीं बोले.बाद में पल्ली पुरोहित पल्ली परिषद का निर्णय प्रचारित करेंगे.बता दें कि पल्ली परिषद सलाहकार परिषद है.जिसे पल्ली पुरोहित माने अथवा न माने.पल्ली पुरोहित का अधिकार है नियम-कानून बनाने. अब पता चला है कि कुर्जी पल्ली के पल्ली पुरोहित फादर पायस माइकल ओस्ता हैं.कब्रिस्तान विस्तार के बदले उक्त जमीन पर मृत शरीर को रखने के लिए घर (मोरतुअरी) बनाने की योजना बना लिए है.      


कुर्जी कब्रिस्तान में योगदान

सबसे पहले कुर्जी कब्रिस्तान की चारदीवारी का निर्माण एंग्लो इंडियन समुदाय से बिहार विधान सभा में मनोनीत जोसेफ गोलस्टेन के द्वारा कराया गया.जब बिहार विधान सभा के सदस्य थे.इस समय कुर्जी कब्रिस्तान का रख-रखाव संत कैरेंस एकेडमी के प्रबंधन के द्वारा किया जाता है.संत केरेंस के द्वारा एक महिला को रखा गया है तो घास आदि काटती हैं.दोमनिक सावियो द्वारा डेटिंग पेंटिंग करवाया जाता है.


बीजेपी के अल्पसंख्यक मोर्चा के प्रदेश मंत्री 

आर्यावर्त लाइव में प्रकाशित खबर का असर बीजेपी नेता पर पड़ा. वह नेता हैं बीजेपी के अल्पसंख्यक मोर्चा के उपाध्यक्ष राजन क्लेमेंट साह. कब्रिस्तान की  ऊंचाई कम होने के कारण अपराधियों का आराम स्थल बन गया था. कब्रों में लगे क्रूस को तोड़ देते.यहां पर श्रद्धांजलि अर्पित करने वालों के साथ दुर्व्यवहार करते. हिम्मत तब बहुत बढ़ गयी जब किसी तरह की कार्रवाई नहीं हुई.युवतियों की हार खींचने में सफल होने लगे। तब नेता जी ने दीघा विधान सभा के विधायक संजीव चौरसिया के एमएलए फण्ड से कब्रिस्तान की चारदीवारी निर्माण करवाने में सफल हो गए.


अन्तर्राष्ट्रीय संस्था संत विन्सेंट डी पौल समाज

पहले कुर्जी पल्ली में रहने वाले लोगों को बांकीपुर पल्ली में जाकर कफन बॉक्स लाना पड़ता था.अब इसका भार अन्तर्राष्ट्रीय संस्था संत विन्सेंट डी पौल समाज ने उठा लिया है. उसने कुर्जी पल्ली में ही कफन बॉक्स उपलब्ध करवाने की व्यवस्था कर दी है. अब आसानी से कफन बॉक्स मिल जाता है। अब संत विन्सेंट डी पौल समाज के लोगों का प्रयास हो रहा है कि एक ठेला गाड़ी हो. ईसाई समुदाय के मृतक के घर से शव को कफन बॉक्स में रखने के बाद ठेला गाड़ी में रखकर शव यात्रा को कब्रिस्तान में लाए.हो सकता है कि किसी और संस्था के लोग ठेला गाड़ी उपलब्ध करा दें.


गैर सरकारी संस्था अल्पसंख्यक ईसाई कल्याण संघ 

कुर्जी पल्ली के लोगों को हर तरह का साधन उपलब्ध करवाने का प्रयास किया जा रहा है.उसमें गैर सरकारी संस्था अल्पसंख्यक ईसाई कल्याण संघ भी जुड़ गया है. मृत के शव को कुछ दिनों तक रखने की व्यवस्था कर दी है.उसने अपना वादा पूर्ण कर दिया है.मृतकों के शव को दो या तीन दिन सुरक्षित रखने के लिए एक डेड बॉडी फ्रीजर बॉक्स(इलेक्ट्रिक कॉफिन बॉक्स) को कुर्जी चर्च के कार्यकारी पल्ली पुरोहित फादर सुसाई राज को गैर सरकारी संस्था अल्पसंख्यक ईसाई कल्याण संघ ने समर्पित (दान) कर दिया था.इस कार्य में सहयोग करने वाले दानकर्ता को ईसाई समुदाय की तरफ से धन्यवाद दिया गया है.


एम्बुलेंस  उपहार में दिया

ऐतिहासिक दिवस है. कुर्जी पल्ली के कतिपय लोगों के प्रयास से और जनवकालत करने से सामाजिक कार्यकर्ता पप्पू राय के द्वारा  कुर्जी पल्ली को एम्बुलेंस उपहार में मिला है. मार्च माह में पटना नगर निगम की निवर्तमान डिप्टी मेयर सह मेयर पद की प्रत्याशी रजनी देवी ने कुर्जी पल्ली को एम्बुलेंस  उपहार में दिए हैं.इस पर समाजसेवी पप्पू राय कहते हैं कि हमलोगों ने कोरोना काल में ही एम्बुलेंस  उपहार देने के लिए मन बना लिए थे.जो मार्च माह में पूरा किए.


आलोक कुमार ने न्यूज ब्रेक किये थेदी

वार फांदकर बदमाश आ जाते थे कब्रिस्तान में. यहाँ पर आकर उत्पात मचाने लगे.कब्रों में लगे क्रूस को तोड़ने लगे. कुर्जी हॉस्पिटल चलाने वाली मृतक सिस्टरों की कब्रों में लगे क्रूस तोड़ने डाले. इतने से संतुष्ट नहीं हुए.एंग्लों इंडियन समुदाय केे झारखंड विधान सभा में मनोनीत विधायक जौर्ज जोसेफ ग्लेनस्टेन के पिता की कब्र में लगे क्रूस तोड़ दिए. टूटे क्रूस की तस्वीर अपलॉड करने पर युवा नेता राजन साह सक्रिय हुए. बीजेपी अल्पसंख्यक विभाग के प्रभारी राजन साह ने फादर जोनसन से गुप्तगू करके लोकल विधायक संजीव चौरसिया के साथ बैठक करवाने में सफल हो गये जाँच करने अधिकारी आए. कोई 15 लाख रू० लागत से सुरझा मजबूत की जाएगी.

कोई टिप्पणी नहीं: