बिहार : हैंडलूम उत्पादों को बढ़ावा देने के लिए प्रतिबद्ध है सरकार : समीर महासेठ - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

विजयी विश्व तिरंगा प्यारा , झंडा ऊँचा रहे हमारा। देश की आज़ादी के 75 वर्ष पूरे होने पर सभी देशवासियों को अनेकानेक शुभकामनाएं व बधाई। 'लाइव आर्यावर्त' परिवार आज़ादी के उन तमाम वीर शहीदों और सेनानियों को कृतज्ञता पूर्ण श्रद्धासुमन अर्पित करते हुए नमन करता है। आइए , मिल कर एक समृद्ध भारत के निर्माण में अपनी भूमिका निभाएं। भारत माता की जय। जय हिन्द।

सोमवार, 28 नवंबर 2022

बिहार : हैंडलूम उत्पादों को बढ़ावा देने के लिए प्रतिबद्ध है सरकार : समीर महासेठ

Samee-mahaseth-inaugrate-handloom-expo
गया। बिहार सरकार के हथकरघा एवं रेशम निदेशालय द्वारा गया के गांधी मैदान में 28 नवंबर से 11 दिसंबर तक स्टेट हैंडलूम एक्सपो लगाया गया है। इसका उद्घाटन बिहार सरकार के उद्योग मंत्री समीर कुमार महासेठ ने किया। उद्घाटन के समय उनके साथ बिहार के हथकरघा एवं रेशम निदेशक विवेक रंजन मैत्रेय एवं दूसरे अन्य गणमान्य लोग उपस्थित थे। हैंडलूम एक्सपो का उद्घाटन करने के बाद उपस्थित लोगों को संबोधित करते हुए उद्योग मंत्री समीर कुमार महासेठ ने कहा कि माननीय मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और उपमुख्यमंत्री तेजस्वी प्रसाद यादव के नेतृत्व में बुनकरों और कातिनों के कल्याण के लिए उद्योग विभाग प्रयत्नशील है। बिहार के खादी, हस्तशिल्प और हैंडलूम उत्पादों को सीधे उपभोक्ताओं से जोड़ने के लिए स्टेट हैंडलूम एक्सपो, गया लगाया गया है। बुनकरों की आर्थिक स्थिति में सुधार के लिए सरकार लगी हुई है। बुनकरों की मदद के लिए राज्य के अस्पतालों में सतरंगी चादर की योजना बनाई गई है। इसके माध्यम से करीब आठ लाख सतरंगी चादरें अस्पतालों में उपलब्ध कराई गई हैं। 68 इंच के बारे फ्रेमलूम को खरीदने के लिए राज्य सरकार द्वारा 90% तक अनुदान दिया जा रहा है। बड़े हैंडलूम के प्रयोग से बुनकरों की क्षमता में वृद्धि होगी। पूरे प्रदेश में बुनकरों को ₹10000 प्रति बुनकर की दर से कार्यशील पूंजी भी उपलब्ध कराई जा रही है। अनेक बुनकरों को अपना पावरलूम चलाने के लिए बिजली की समस्या रहती थी। सरकार ने बुनकरों को प्रति यूनिट ₹1.5 की दर से विद्युत अनुदान देना प्रारंभ किया जिसे बाद में बढ़ाकर ₹3 प्रति यूनिट कर दिया गया। इससे हजारों बुनकरों को लाभ हुआ। उद्योग मंत्री समीर कुमार महासेठ ने कहा कि मुख्यमंत्री उद्यमी योजना के तहत अभी 16000 उद्यमियों को दस-दस लाख की सहायता देने की प्रक्रिया चल रही है। सभी को 4-4 लाख रुपया दे दिया गया है। जिन लोगों ने पहली किस्त की राशि का उपयोगिता प्रमाण पत्र जमा कर दिया है उनको दूसरा किस्त भी दी जा रही है। इसी तरह जिन उद्यमियों ने दूसरे के प्रकार प्रमाण पत्र जमा कर दिया है उनको तीसरे किस्त की राशि दी जा रही है। उद्योग मंत्री ने बताया कि 1 दिसंबर से 8000 नए लाभुकों के चयन के लिए मुख्यमंत्री उद्यमी योजना का पोर्टल खोला जाएगा। इससे सभी वर्गों के लोगों को लाभ होगा। उद्योग मंत्री समीर कुमार महासेठ ने कहा कि हम बिहार को देश के 10 सबसे बड़े औद्योगिक राज्यों की सूची में लाना चाहते हैं। उद्यमियों को उद्योग लगाने के लिए जिस प्रकार की भी सहायता चाहिए, राज्य सरकार उपलब्ध करा रही है। बिना बिल्डिंग और जमीन के जो लोग उद्योग लगाना चाहते हैं उनके लिए भी बियाडा क्षेत्र में प्लग एंड प्ले शेड की व्यवस्था की गई है। टेक्सटाइल और लेदर सेक्टर के उद्यमी मशीन लगाकर तुरंत अपना उत्पादन इन प्लग एंड प्ले शेड में कर सकते हैं। उन्होंने कहा कि पिछले 3 महीने में राज्य निवेश प्रोत्साहन पर्षद को और सुदृढ़ किया गया है। निवेश के नए प्रस्तावों को सिंगल विंडो सिस्टम के माध्यम से स्वीकृति दी जा रही है। हथकरघा एवं रेशम के निदेशक विवेक रंजन मैत्रेय ने बताया कि बिहार के कई शहरों में हैंडलूम और खादी को बढ़ावा देने के लिए मेलों का आयोजन विभाग द्वारा किया जा रहा है। गया का यह मेला आयोजनों की शृंखला की ही एक कड़ी है। उन्होंने कहा कि नई दिल्ली में आयोजित भारतीय अंतरराष्ट्रीय व्यापार मेला में उद्योग विभाग द्वारा लगाए गए बिहार पवेलियन में बिहार के उद्यमियों ने 1 करोड़ से अधिक का कारोबार किया। अंतरराष्ट्रीय मेला में बिहार पवेलियन को अच्छी प्रस्तुति के लिए रजत पदक भी प्राप्त हुआ जो पूरे प्रदेश के लिए गर्व की बात है।

कोई टिप्पणी नहीं: