बिहार : गाँधी शाँति प्रतिष्ठान मुजफ्फरपुर में श्रद्धांजलि सभा - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

विजयी विश्व तिरंगा प्यारा , झंडा ऊँचा रहे हमारा। देश की आज़ादी के 75 वर्ष पूरे होने पर सभी देशवासियों को अनेकानेक शुभकामनाएं व बधाई। 'लाइव आर्यावर्त' परिवार आज़ादी के उन तमाम वीर शहीदों और सेनानियों को कृतज्ञता पूर्ण श्रद्धासुमन अर्पित करते हुए नमन करता है। आइए , मिल कर एक समृद्ध भारत के निर्माण में अपनी भूमिका निभाएं। भारत माता की जय। जय हिन्द।

सोमवार, 19 दिसंबर 2022

बिहार : गाँधी शाँति प्रतिष्ठान मुजफ्फरपुर में श्रद्धांजलि सभा

Rameah-pankaj-died
मुजफ्फरपुर. गांधीवादी व जेपी आंदोलन के प्रबल सिपाही रमेश पंकज का निधन हो गया है.जन आंदोलनो के राष्ट्रीय समन्वय NAPM के वरिष्ठ साथी कैंसर रोग से पीड़ित थे.हर दिल अज़ीज़ रमेश पंकज का रविवार को मुजफ्फरपुर स्थित उनके आवास पर देहांत हो गया. वे 65 वर्ष के थे.अपने पीछे वे बेटे बेटियों और नाती पोतों से भरा पूरा परिवार छोड़ गये हैं. उनके बेटे ऋषि आनंद ने बताया कि रविवार की सुबह 8.45 पर उन्होंने ने अंतिम सांस ली.वे लगभग डेढ़ वर्ष से किडनी के कैंसर से पीड़ित थे. उनकी इस असाध्य बीमारी का पता मेदान्ता अस्पताल में जांच के दौरान चला था. राजीव गाँधी कैंसर अस्पताल के अलावा वाराणसी स्थित टाटा मेमोरियल अस्पताल में उनका इलाज चल रहा था. उन्होंने कहा कि इस तरह की गम्भीर बीमारी के बावजूद पिता जी की जिजीविषा और उनका जीवट देखते ही बनता था. जीवन के प्रति उनकी ललक ने अंतिम समय तक उनके चेहरे का तेज कम नहीं होने दिया. इस पूरे दौर में इलाज के सिलसिले में अनेक बार वे वाराणसी आये और अपने आत्मबल से कई बार वे इस असाध्य बीमारी से उबरते भी दिखे, लेकिन कल 17 दिसम्बर को अचानक उनकी तबियत बिगड़ने लगी और उन्हें ऑक्सिजन का सपोर्ट देना पड़ा. उनकी स्थिति काफी नाज़ुक हो गयी थी. उनके खून में प्लेटलेट्स की संख्या गिरकर 38000 और हीमोग्लोबिन 5.2 रह गया था. ऑक्सिजन के सहारे उन्होंने जैसे तैसे रविवार सुबह तक का समय काटा और अंततः हम सबसे अंतिम विदा ले ली. जेपी आंदोलन के प्रबल सिपाही की मर्मान्तक खबर पाकर  सभी लोग मर्माहत हो गए.खबर सुनते लोग उनके घर पहुंचने लगे.विजय गोरैया ने रविवार के दिन का जिक्र करते हुए कहा कि हमलोग साथी रमेश पंकज जी की अंतिम यात्रा की तैयारी में लगे रहे.यहां पर आए सभी कुटुंबी-जन भावविह्वल रहे. दूसरी तरफ, एक-दूसरे के दुखी मन को सहलाने की कोशिश में  उपस्थित मित्र समूह लगे रहे.मेरे साथ साथी रमण कुमार जी,  रमेशचंद्र जी, डॉ.उमेशचंद्र, दीपक सत्यार्थी, रामलखेंद्रजी,  हरिओम जी, पवन कुमार जी, कैलाश जी एवं अन्य उपस्थित होकर आखिरी सलाम !  और दी विनम्र श्रद्धांजलि !!  उन्होंने कहा कि उनका अंतिम शव यात्रा रविवार को ही उनके घर से 12 बजे निकली.सिकंदरपुर घाट, मुजफ्फरपुर में दाह संस्कार  हुआ. आज सोमवार को साथी रमेश पंकज जी के सम्मान में गाँधी शाँति प्रतिष्ठान मुजफ्फरपुर के तत्वावधान श्रद्धांजलि सभा  आयोजित की गयी. जिसमें वयोवृद्ध लक्षण देव बाबू डाक्टर हरेन्द्र कुमार रमण कुमार सहित शहर के अनेकों सामाजिक कार्यकर्ता शामिल हुए.सबों उनके सामाजिक जीवन में साथ बिताए क्षणों को याद करते हुए संवेदना व्यक्त किया.

कोई टिप्पणी नहीं: