कविता और संवेदना की कहानियों के नाम रहा रविंद्रनाथ टैगोर लिटरेरी पुरस्कार - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

विजयी विश्व तिरंगा प्यारा , झंडा ऊँचा रहे हमारा। देश की आज़ादी के 75 वर्ष पूरे होने पर सभी देशवासियों को अनेकानेक शुभकामनाएं व बधाई। 'लाइव आर्यावर्त' परिवार आज़ादी के उन तमाम वीर शहीदों और सेनानियों को कृतज्ञता पूर्ण श्रद्धासुमन अर्पित करते हुए नमन करता है। आइए , मिल कर एक समृद्ध भारत के निर्माण में अपनी भूमिका निभाएं। भारत माता की जय। जय हिन्द।

सोमवार, 19 दिसंबर 2022

कविता और संवेदना की कहानियों के नाम रहा रविंद्रनाथ टैगोर लिटरेरी पुरस्कार

  • इस साल के रवींद्रनाथ टैगोर लिटरेरी और टैगोर पुरस्कार की घोषणा
  • कवि सुदीप सेन, शोभना कुमार और संजॉय राय को किया गया सम्मानित
  • इस साल पुरस्कार का 5वां संस्करण

Tagore-litreture-festival
नई दिल्ली, साहित्य और कला गतिविधियां कोरोना काल से उबर रही हैं. ऐसे में उन लोगों को सम्मानित करने का मौका है जिनका कला और संवेदना के क्षेत्र में बड़ा नाम है. ऐसे ही चंद नामों में शुमार हैं सुदीप सेन, शोभना कुमार और संजॉय रॉय. इन तीनों को कला-साहित्य और सामाजिक योगदान के क्षेत्र में अपने योगदान के लिए रवींद्रनाथ टैगोर लिटरेरी पुरस्कार एवं सामाजिक योगदान के लिए टैगोर पुरस्कार से सम्मानित किया गया. पुरस्कार समारोह 19 दिसंबर, सोमवार को इंडिया इंटरनेशनल सेंटर में आयोजित किया गया. सुदीप सेन ने कविता, गद्य, रचनात्मक नॉन-फिक्शन और फोटोग्राफी के संग्रह 'एंथ्रोपोसिन: क्लाइमेट चेंज, कॉन्टैगियन, कंसोलेशन' में अपने उल्लेखनीय काम के लिए यह पुरस्कार जीता। उनकी महामारी पर लिखी कविताएं उपचार और संवेदनशीलता की ओर इशारा करती हैं जो अभी भी सामान्य मानवीय रिश्तों में मौजूद हैं। यह पुस्तक इतिहास में अभूतपूर्व घटनाओं को समायोजित करने के लिए एक सौंदर्यवादी प्रतिक्रिया है. शोभना कुमार ने जापान की हाइबुन शैली में कविताओं के संग्रह 'ए स्काई फुल ऑफ़ बकेट लिस्ट्स' में अपने शानदार काम के लिए टैगोर पुरस्कार जीता। एक हाइबुन किसी के अनुभव पर आधारित कहानी या वर्णन है जिसमें वह अपनी संवेदनाओं को पिरोता है। यह गद्य और हाइकू के संयोजन से जापान में पैदा हुआ एक समसामयिक साहित्यिक रूप है। पुस्तक हमारे समाज में गहरी जड़ें जमा चुकी समस्याओं के बारे में भावनाओं को खूबसूरती से व्यक्त करती है। सामाजिक उपलब्धि के लिए टैगोर पुरस्कार संजॉय के. रॉय को कला के क्षेत्र में उत्कृष्ट योगदान के लिए दिया गया है। रॉय प्रतिष्ठित जयपुर लिटरेचर फेस्टिवल और दुनिया भर में 30 अन्य कला उत्सवों के निर्माता हैं। उन्होंने कोराना संकट के दौरान 8000 कलाकारों और कारीगरों की मदद की थी। सलाम बालक ट्रस्ट के ट्रस्टी संजॉय सड़क पर काम करने वाले और कामकाजी बच्चों को सहायता सेवाएं प्रदान करते हैं। शोभना कुमार, सुदीप सेन, और संजॉय के. रॉय ने जो पुरस्कार जीता उसके लिए शुरुआत में 11 लोगों को शॉर्टलिस् किया गया. रवींद्रनाथ टैगोर साहित्यिक पुरस्कार भारत में एक साहित्यिक सम्मान है, जो उपन्यासों, लघु कथाओं, कविता और नाटक में भारतीय लेखकों (भारत या विदेश में रहने वाले) के प्रकाशित कार्यों को प्रतिवर्ष प्रदान किया जाता है, जो मूल रूप से किसी भी भारतीय आधिकारिक भाषा और बोलियों में लिखा गया है, लेकिन अंग्रेजी में अनुवादित है। रवींद्रनाथ टैगोर साहित्यिक पुरस्कार भारत में एक साहित्यिक सम्मान है, जो उपन्यासों, लघु कथाओं, कविता और नाटक में भारतीय लेखकों (भारत या विदेश में रहने वाले) के प्रकाशित कार्यों को प्रतिवर्ष प्रदान किया जाता है, जो मूल रूप से किसी भी भारतीय आधिकारिक भाषा और बोलियों में लिखा गया है, लेकिन अंग्रेजी में अनुवादित है। साहित्य के लिए टैगोर पुरस्कार 2018 से प्रतिवर्ष प्रदान किया जाता रहा है। पुरस्कार हमेशा हर साल दिसंबर में दिए जाते हैं। यह इस वर्ष प्रतिष्ठित पुरस्कार का 5वां संस्करण था और पुरस्कार में एक प्रमाणपत्र और एक रवींद्रनाथ टैगोर की प्रतिमा शामिल है। इसके साथ ही पुरस्कार के तौर पर 5000 अमेरिकी डॉलर (लगभग 4,13,667 रुपये) भी दिए जाते हैं। समारोह के दौरान एच.ई. डेनमार्क के राजदूत फ्रेडी स्वान, एच.ई. ताइवान के राजदूत, और एच.ई. इज़राइल के राजदूत मौजूद रहे। संजय के रॉय, एम.डी. टीमवर्क आर्ट्स ने पुरस्कार प्राप्त करने पर अपनी खुशी साझा करते हुए कहा कि "आर्ट मैटर्स हमने समधर्मी संस्कृति, परंपरा और दैनिक जीवन में कलाकारों और कारीगरों के योगदान को सामने लाने के एक अभियान के रूप में शुरू हुआ। तब से यह अभियान आगे बढ़ रहा है। कोविड 19 से अत्यधिक प्रभावित भारतीय कला क्षेत्र का समर्थन जारी रहेगा। पूरी टीम की ओर से मैं टैगोर अवार्ड्स को हमारे प्रयासों को मान्यता देने के लिए धन्यवाद देता हूं पुरस्कार के संस्थापक और सीईओ पीटर बुंडालो ने कहा कि बिना कवि और कलाकारों के सामाजिक एकजुटता संभव नहीं हैं. जिस समाज में कला का प्रसार नहीं होता वो समाज विकसित नहीं हो सकता.

कोई टिप्पणी नहीं: