बिहार : प्रशिक्षण के अंतर्गत प्रतिभागी महिला किसानों को मशरूम उत्पादन हेतु प्रशिक्षण दिया किया - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

विजयी विश्व तिरंगा प्यारा , झंडा ऊँचा रहे हमारा। देश की आज़ादी के 75 वर्ष पूरे होने पर सभी देशवासियों को अनेकानेक शुभकामनाएं व बधाई। 'लाइव आर्यावर्त' परिवार आज़ादी के उन तमाम वीर शहीदों और सेनानियों को कृतज्ञता पूर्ण श्रद्धासुमन अर्पित करते हुए नमन करता है। आइए , मिल कर एक समृद्ध भारत के निर्माण में अपनी भूमिका निभाएं। भारत माता की जय। जय हिन्द।

सोमवार, 19 दिसंबर 2022

बिहार : प्रशिक्षण के अंतर्गत प्रतिभागी महिला किसानों को मशरूम उत्पादन हेतु प्रशिक्षण दिया किया

  • मुजफ्फरपुर थर्मल पॉवर स्टेशन काँटी (एनटीपीसी) में सामुदायिक नैगमिक दायित्व के अंतर्गत तीन दिवसीय किसान प्रशिक्षण कार्यशाला का  किया गया आयोजन 

Farmer-workshop-muzaffarpur
मुजफ्फरपुर, 19 दिसंबर, मुजफ्फरपुर थर्मल पॉवर स्टेशन काँटी (एनटीपीसी) द्वारा सामुदायिक नैगमिक दायित्व के अंतर्गत तिलका मांझी भागलपुर विश्वविद्यालय के स्नातकोत्तर वनस्पति विज्ञान विभाग ने एमटीपीएस सभागार,मुजफ्फरपुर में 19-12-2022 से 21-12-2022 तक तीन दिवसीय किसान प्रशिक्षण का कार्यशाला आयोजन किया गया। इस प्रशिक्षण के अंतर्गत प्रतिभागी महिला किसानों को मशरूम उत्पादन हेतु प्रशिक्षण प्रदान किया गया। विश्वविद्यालय कृषि वैज्ञानिक ने मशरूम उत्पादन को किसानों के लिए लाभकारी बताते हुए इसके वैकल्पिक आय के तौर पर प्रयोग करने के लिए प्रेरित किया। किसानों को कृषि वैज्ञानिकों के द्वारा मशरूम उत्पादन के विभिन्न चरणों से प्रोजेक्टर के माध्यम से प्रदर्शन किया गया। इसके अंतर्गत भूसे के ढेरी बनाना, बीजों को उचित रूप से बोना, उत्पाद का रख रखाव आदि चरणों से किसानों को अवगत कराया गया। तीन दिवसीय इस प्रशिक्षण कार्यशाला में ढेवहां, बीरपुर और साइन पंचायत की कुल 51 महिला किसानों ने प्रशिक्षण प्राप्त किया। प्रशिक्षण के उपरांत किसानों द्वारा मशरूम उत्पादन से जुड़ने हेतु उत्सुकता प्रदर्शित की गई। कार्यशाला को संबोधित करते हुए परियोजना प्रमुख, एमटीपीएस (एनटीपीसी) देबासिस साहू ने बताया की एनटीपीसी बिजली उत्पादन के साथ ही समाज के प्रति अपनी प्रतिबद्धताओं को स्वीकार करता है और इसी के अंतर्गत कृषि एवं कृषकों के लिए कल्याणकारी गतिविधियों के अंतर्गत कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं। “मशरूम की खेती के इस उद्योग से कैजुअल और दिहाड़ी मजदूरों को बहुत मदद मिलेगी, जो इस महामारी के दौरान दूसरे प्रदेशों से अपने घर लौटने को मजबूर हैं। देश के ग्रामीण हिस्सों में भूमि की सीमित उपलब्धता और सीमित अवसरों को देखते हुए इस तरह की कार्यशालाएं किसानों के लिए आय के अतिरिक्त स्रोत की संभावनाएं खोलती हैं। इस अवसर पर बोलते हुए श्रीमती सुपर्णा साहू ने समाज में महिलाओं के महत्व और समाज में उनकी भूमिका पर जोर दिया, इसलिए उनका सशक्तिकरण आवश्यक है। प्रशिक्षण कार्यशाला के उद्घाटन कार्यक्रम में के. एम. के. प्रुष्टि  महाप्रबंधक (परिचालन व अनुरक्षण), आनंदा बनर्जी, महाप्रबंधक (अनुरक्षण), पार्था नाग, महाप्रबंधक (परिचालन), मनोज सिन्हा महाप्रबंधक (संविदा व सामग्री), संजीत कुमार उप महाप्रबंधक (मानव संसाधन), निशांत कमल, वरिष्ठ प्रबंधक (सीएसआर/ आर एंड आर/एलए) और सुश्री निष्ठा सिंह, एग्जीक्यूटिव (सीएसआर) उपस्थित थीं।

कोई टिप्पणी नहीं: