बिहार : लोकसभा चुनाव की तैयारी में जुटे हैं पूर्व विधायक गुलाब यादव - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

विजयी विश्व तिरंगा प्यारा , झंडा ऊँचा रहे हमारा। देश की आज़ादी के 75 वर्ष पूरे होने पर सभी देशवासियों को अनेकानेक शुभकामनाएं व बधाई। 'लाइव आर्यावर्त' परिवार आज़ादी के उन तमाम वीर शहीदों और सेनानियों को कृतज्ञता पूर्ण श्रद्धासुमन अर्पित करते हुए नमन करता है। आइए , मिल कर एक समृद्ध भारत के निर्माण में अपनी भूमिका निभाएं। भारत माता की जय। जय हिन्द।

बुधवार, 7 दिसंबर 2022

बिहार : लोकसभा चुनाव की तैयारी में जुटे हैं पूर्व विधायक गुलाब यादव

Gulab-yadav-jhanjharpur
बिहार विधान सभा के पूर्व सदस्‍य हैं गुलाब यादव। 2015 में पहली बार मधुबनी जिले के झंझारपुर से राजद के टिकट पर निर्वाचित हुए थे। 2020 के चुनावी गठबंधन में यह सीट सीपीआई को चली गयी और गुलाब यादव बेटिकट हो गये। 2019 के लोकसभा चुनाव में झंझारपुर से राजद के उम्‍मीदवार थे। उनकी बेटी बिंदु यादव मधुबनी जिला परिषद अध्‍यक्ष हैं और पत्‍नी अंबिका गुलाब यादव मधुबनी स्‍थानीय निर्वाचन प्राधिकार से विधान पार्षद हैं। गुलाब 2024 में फिर लोकसभा चुनाव लड़ने की तैयारी कर रहे हैं। वे कहते हैं कि राजद के साथ उनका स्‍वाभाविक जुड़ाव है, लेकिन भाजपा से भी परहेज नहीं है। वे लोकसभा के लिए निर्दलीय उम्‍मीदवार के रूप में तैयारी कर रहे हैं। चुनाव के समय के सामाजिक समीकरण और राजनीतिक जरूरत के हिसाब से पार्टी और लोकसभा क्षेत्र का चयन करेंगे। लेकिन तैयारी मुधबनी और झंझारपुर सीट की प्राथमिकता के आधार पर कर रहे हैं। उनका दावा है कि वे दरभंगा, मधुबनी और झंझारपुर तीन लोकसभा के चुनाव परिणाम को प्रभावित करेंगे। वीरेंद्र यादव न्‍यूज के साथ चर्चा में उन्‍होंने कहा कि अपने राजनीतिक कार्यकर्ताओं के साथ प्रोफेशनल टीम के माध्‍यम से भी बूथ स्‍तर पर तैयारी कर रहे हैं। बूथ स्‍तर पर कमेटी का गठन किया जा रहा है। वे कहते हैं कि विधान परिषद चुनाव के बाद से ही लोकसभा की तैयारी में जुट गये हैं। उनका जुड़ाव स्‍थानीय निकाय के माध्‍यम से वार्ड स्‍तर तक है और सीधे लोगों से जुड़े हुए हैं। जनता की अपेक्षा और उम्‍मीदों को ध्‍यान में रखकर लोकसभा चुनाव लड़ना और जीतना चाहते हैं, ताकि क्षेत्र के विकास का काम कर सकें। अपनी राजनीतिक यात्रा के संबंध में बताया कि उनकी व्‍यावसायिक पृष्‍ठभूमि महाराष्‍ट्र के पुणे से जुड़ी हुई है और वहां की राजनीति में सक्रिय होने की कोशिश की थी, लेकिन सफलता नहीं मिली तो बिहार की राजनीति में सक्रिय हुए। वे पहली बार 2005 में मधेपुर विधान सभा क्षेत्र से चुनाव निर्दलीय उम्‍मीदवार के रूप में लड़े थे। 2006 में लखनौर प्रखंड के प्रमुख बने। 2011 में भी दूसरी बार प्रमुख निर्वाचित हुए और प्रमुख रहते हुए विधायक निर्वाचित हुए। वे कहते हैं कि विधायक के रूप में उन्‍होंने मधुबनी जिले और खासकर झंझारपुर के विकास के लिए काफी काम किया है। शिक्षा, स्‍वास्‍थ्‍य और सड़क के क्षेत्र में अनेक कार्य हुआ है। अब पंचायती राज के माध्‍यम से विकास की अनेक योजनाओं की जमीन पर उतारने का प्रयास कर रहे हैं। 








--- वीरेंद्र यादव न्‍यूज ----

कोई टिप्पणी नहीं: