बिहार : बिहारी शब्द गाली बन गया, नेताओं को कोई फर्क नहीं पड़ता: प्रशांत किशोर - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

विजयी विश्व तिरंगा प्यारा , झंडा ऊँचा रहे हमारा। देश की आज़ादी के 75 वर्ष पूरे होने पर सभी देशवासियों को अनेकानेक शुभकामनाएं व बधाई। 'लाइव आर्यावर्त' परिवार आज़ादी के उन तमाम वीर शहीदों और सेनानियों को कृतज्ञता पूर्ण श्रद्धासुमन अर्पित करते हुए नमन करता है। आइए , मिल कर एक समृद्ध भारत के निर्माण में अपनी भूमिका निभाएं। भारत माता की जय। जय हिन्द।

बुधवार, 21 दिसंबर 2022

बिहार : बिहारी शब्द गाली बन गया, नेताओं को कोई फर्क नहीं पड़ता: प्रशांत किशोर

Bihari-word-gali
मिर्ज़ापुर दोबाही, शिवहर। जन सुराज पदयात्रा के दौरान मिर्ज़ापुर दोबाही में जनसभा को संबोधित करते हुए प्रशांत किशोर ने कहा कि बिहार एक समय में ज्ञान की भूमि रही है, इस धरती पर देवताओं को भी पढ़ने आना पड़ा, उन्हें भी ज्ञान की प्राप्ति इसी धरती से हुई है और आज नेताओं और व्यवस्था ने बिहार को मजदूर बनाने का फैक्ट्री बना कर छोड़ दिया है। दूसरे राज्यों में बिहारी शब्द को बस गाली बना कर छोड़ दिया गया है। बिहारी का मतलब अनपढ़-बेवकूफ बोला जा रहा है, लेकिन जनता और नेता दोनों सो रहे हैं। उन्हें इस बात से कोई फर्क ही नहीं पड़ रहा। बिहार के युवा आज के इस आधुनिक जमाने में झोपड़ियों में अपनी जिंदगी काट रहे हैं। आज के इस समय में भी वो जानवरों जैसी जीवन बिता रहे हैं। इसके बावजूद लोग जाति-धर्म, भारत-पाकिस्तान-चाइना से बाहर निकल कर अपने बारे में सोच नही पाते।

कोई टिप्पणी नहीं: