बिहार : दो दिवसीय आईपीएम प्रशिक्षण कार्यक्रम का हुआ आयोजन - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

विजयी विश्व तिरंगा प्यारा , झंडा ऊँचा रहे हमारा। देश की आज़ादी के 75 वर्ष पूरे होने पर सभी देशवासियों को अनेकानेक शुभकामनाएं व बधाई। 'लाइव आर्यावर्त' परिवार आज़ादी के उन तमाम वीर शहीदों और सेनानियों को कृतज्ञता पूर्ण श्रद्धासुमन अर्पित करते हुए नमन करता है। आइए , मिल कर एक समृद्ध भारत के निर्माण में अपनी भूमिका निभाएं। भारत माता की जय। जय हिन्द।

रविवार, 18 दिसंबर 2022

बिहार : दो दिवसीय आईपीएम प्रशिक्षण कार्यक्रम का हुआ आयोजन

  • किसानों को प्रक्षेत्र भ्रमण कराकर फसली खेतों में मित्र एवं शत्रु कीट की कराई गई पहचान 

Ipm-training-bihar
पटना, 18 दिसंबर, भारत सरकार के कृषि एवं कृषि कल्याण मंत्रालय अंतर्गत केंद्रीय एकीकृत नाशी जीव प्रबंधन केंद्र पटना द्वारा जिले के खरखुरा नगर पंचायत में दो दिवसीय प्रशिक्षण कार्यक्रम आज समाप्त हुआ। प्रशिक्षण के आज दूसरे दिन केंद्र के प्रभारी अधिकारी सुनील सिंह द्वारा कृषि परिस्थितिकी तंत्र विश्लेषण के विषय में बताया गया एवं किसानों को प्रक्षेत्र भ्रमण कराकर फसली खेतों में मित्र एवं शत्रु कीट की पहचान कराई गई। इस क्रम कार्यक्रम में सम्मिलित किसानों ने रूचि दिखाते हुए मित्र कीटों एवं शत्रु कीटों के पहचान की तथा परिस्थिति तंत्र का विश्लेषण करते हुए फसलों में रसायनों के ससमय एवं संतुलित उपयोग के बारे में सीखा। केंद्र के राजेश कुमार द्वारा किसानों को किसान सुविधा ऐप के इस्तेमाल के साथ अन्य डिजिटल माध्यमों से फसल सुरक्षा के उपयोग को बढ़ावा देने के बारे में बताया गया। साथ ही  विभाग द्वारा कीटनाशकों के इस्तेमाल के समय बरती जाने वाली सावधानियों के विषय में बताया एवं प्रदर्शन करके दिखाया गया। कार्यक्रम में सुनील सिंह द्वारा फसलों में खरपतवारो के प्रकोप एवं प्रबंधन के बारे में बताते हुए खरपतवारनासी के समुचित इस्तेमाल एवं परंपरागत तरीकों से खरपतवार प्रबंधन करने के विषय में बताया गया। कार्यक्रम के दौरान चलचित्र के माध्यम से भी मित्र एवं शत्रु कीटो की पहचान कराई गई तथा कीटनाशकों के दुष्प्रभाव के बारे में समझाने का प्रयास किया गया  केंद्र के प्रभारी अधिकारी द्वारा बताया गया किसानों की कृषि की लागत कम करने एवं वातावरण, जल एवं मृदा तथा मानव को स्वस्थ बनाए रखने के लिए आई पी एम को अपनाना ही एकमात्र उपाय है इसके अतिरिक्त आई पी एम को अपनाकर हम फसलों के उत्पादों के निर्यात पर लगने वाले प्रतिबंधों पर अंकुश लगाकर निर्यात को बढ़ाया जा सकता है जिससे किसानों की आय में इजाफा हो सकता है । कार्यक्रम में आर पी सिंह ,  सुरेन्द्र साह, विकास कुमार ,अंकित कुमार, अमित कुमार ,बृजेन्द्र कुमार, किसान सलाहकार तथा अन्य प्रगतिशील कृषक मौजूद रहे।

कोई टिप्पणी नहीं: