बेतिया : खेलो इंडिया योजना के तहत जिले में सिन्थेटिक एथलेटिक्स ट्रैक होेगा - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

विजयी विश्व तिरंगा प्यारा , झंडा ऊँचा रहे हमारा। देश की आज़ादी के 75 वर्ष पूरे होने पर सभी देशवासियों को अनेकानेक शुभकामनाएं व बधाई। 'लाइव आर्यावर्त' परिवार आज़ादी के उन तमाम वीर शहीदों और सेनानियों को कृतज्ञता पूर्ण श्रद्धासुमन अर्पित करते हुए नमन करता है। आइए , मिल कर एक समृद्ध भारत के निर्माण में अपनी भूमिका निभाएं। भारत माता की जय। जय हिन्द।

सोमवार, 5 दिसंबर 2022

बेतिया : खेलो इंडिया योजना के तहत जिले में सिन्थेटिक एथलेटिक्स ट्रैक होेगा

Synthetic-athletic-track-in-betiya
बेतिया. खेलो इंडिया योजना के तहत जिले में सिन्थेटिक एथलेटिक्स ट्रैक होेगा, सिन्थेटिक हॉकी मैदान, सिन्थेटिक फुटबॉल मैदान, तरणताल तथा मल्टीपरपस हॉल का निर्माण होगा.खेल तथा खिलाड़ियों के विकास को बल मिलेगा.राष्ट्रीय एवं अंतराष्ट्रीय प्रतियोगिताओं में परचम जिले के खिलाड़ी लहरा सकेंगे. जिलाधिकारी द्वारा खेल अवसंरचनाओं के निर्माण के लिए भूमि की उपलब्धता के लिए समीक्षा की गई.अंचलाधिकारियों को अविलंब भूमि चिन्हित करते हुए प्रतिवेदन उपलब्ध कराने का निर्देश.युवा कार्यक्रम एवं खेल मंत्रालय, भारत सरकार की खेलो इंडिया के तहत जिले में खेल अवसंरचना का निर्माण तथा उन्नयन किया जाता है. इसके तहत सिंथेटिक एथलेटिक्स ट्रैक, सिंथेटिक हॉकी मैदान, सिन्थेटिक फुटबॉल मैदान, तरणताल तथा मल्टीपरपज हॉल का निर्माण कराया जाना है. इसी परिप्रेक्ष्य में पश्चिम चंपारण जिले के जिलाधिकारी, श्री कुंदन कुमार की अध्यक्षता में समीक्षात्मक बैठक सम्पन्न हुयी.जिलाधिकारी ने कहा कि खेलो इंडिया भारत सरकार की महत्वाकांक्षी योजना है. इसके तहत विभिन्न खेल अवसंरचना का निर्माण तथा उन्नयन कार्य का क्रियान्वयन तीव्र गति से किया जाना आवश्यक है ताकि जिले के खिलाड़ियों को इसका लाभ मिल सके तथा वे राष्ट्रीय एवं अंतराष्ट्रीय प्रतियोगिताओं में अपना परचम लहरा सके. समीक्षा के क्रम में जिला खेल पदाधिकारी द्वारा बताया गया कि सिंथेटिक एथलेटिक्स ट्रैक के निर्माण के लिए 250 मी0×175 मी0 भूमि, सिंथेटिक हॉकी मैदान के लिए 150 मी0×100 मी0 भूमि, सिंथेटिक फुटबॉल मैदान के लिए 160 मी0×140 मी0, तरणताल के लिए 80 मी0×50 मी0 तथा मल्टीपरपज हॉल के लिए 80 मी0×60 मी0 भूमि की आवश्यकता है. जिलाधिकारी द्वारा सभी अंचलाधिकारियों को निर्देश दिया गया कि जिले में खेल तथा खिलाड़ियों के विकास के मद्देनजर उपरोक्त मानक के अनुरूप भूमि को चिन्हित किया जाय तथा प्रतिवेदन अविलंब कार्यकारी विभाग को उपलब्ध कराना सुनिश्चित किया जाय. जिला खेल पदाधिकारी को निर्देश दिया गया कि अंचलाधिकारियों से समन्वय स्थापित करते हुए खेल अवसंरचनाओं के लिए उपर्युक्त भूमि की उपलब्धता सुनिश्चित की जाय.साथ ही भूमि की उपलब्धता सुनिश्चित होते ही अग्रतर कार्रवाई की जाए ताकि सिंथेटिक एथलेटिक्स ट्रैक, सिंथेटिक हॉकी मैदान, सिन्थेटिक फुटबॉल मैदान, तरणताल तथा मल्टीपरपज हॉल का निर्माण कराया जा सके.इस अवसर पर उप विकास आयुक्त, श्री अनिल कुमार सहित अन्य संबंधित अधिकारी उपस्थित रहे.

कोई टिप्पणी नहीं: