बिहार : ध्वस्त शिक्षा व्यवस्था के कारण दो पीढ़ियां अनपढ़ हो गई : प्रशांत किशोर - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

विजयी विश्व तिरंगा प्यारा , झंडा ऊँचा रहे हमारा। देश की आज़ादी के 75 वर्ष पूरे होने पर सभी देशवासियों को अनेकानेक शुभकामनाएं व बधाई। 'लाइव आर्यावर्त' परिवार आज़ादी के उन तमाम वीर शहीदों और सेनानियों को कृतज्ञता पूर्ण श्रद्धासुमन अर्पित करते हुए नमन करता है। आइए , मिल कर एक समृद्ध भारत के निर्माण में अपनी भूमिका निभाएं। भारत माता की जय। जय हिन्द।

बुधवार, 28 दिसंबर 2022

बिहार : ध्वस्त शिक्षा व्यवस्था के कारण दो पीढ़ियां अनपढ़ हो गई : प्रशांत किशोर

prashant-kishore-mehsi
मेहसी, पूर्वी चंपारण, जन सुराज पदयात्रा के 88वें दिन बिहार की बदहाल शिक्षा व्यवस्था पर बात करते हुए प्रशांत किशोर ने कहा कि बिहार में शिक्षा व्यवस्था के ध्वस्त हो जाने की बड़ी वजह विद्यालयों का इन्फ्रास्ट्रक्चर है। विद्यालयों के इंफ्रास्ट्रक्चर और शिक्षकों के बीच समायोजन नहीं है। जहां विद्यालय है, वहां शिक्षक नहीं। जहां शिक्षक है, वहां विद्यालय नहीं । जहां शिक्षक और विद्यालय हैं, वहां बच्चे नहीं। उपरोक्त तीनों बिंदुओं का समायोजन न होना ही बिहार की शिक्षा व्यवस्था का ध्वस्त हो जाने का बड़ा कारण है। इसके साथ ही मौजूदा सरकार की शिक्षा को लेकर उदासीन है।आज बिहार की शिक्षा व्यवस्था ध्वस्त हो जाने के कारण ही यहां की दो पीढ़ियां अनपढ़ हो गई। इसके साथ ही प्रशांत किशोर ने कहा कि बिहार सरकार हर साल 40000 करोड़ रुपए खर्च करने के बावजूद राज्य के बच्चों को अच्छी शिक्षा नहीं मुहैया करवा पा रही है। शिक्षा का ध्वस्त हो जाने का सीधा असर बिहार के गरीबों पर पड़ा हैं क्योंकि अच्छी शिक्षा ही एक ऐसा माध्यम है जिससे गरीब अपनी दयनीय स्थिति से बाहर निकल सकते हैं।

कोई टिप्पणी नहीं: