बिहार : मुख्यमंत्री की प्रस्तावित यात्रा का जमीन पर होगा कड़ा विरोध : प्रशांत किशोर - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

विजयी विश्व तिरंगा प्यारा , झंडा ऊँचा रहे हमारा। देश की आज़ादी के 75 वर्ष पूरे होने पर सभी देशवासियों को अनेकानेक शुभकामनाएं व बधाई। 'लाइव आर्यावर्त' परिवार आज़ादी के उन तमाम वीर शहीदों और सेनानियों को कृतज्ञता पूर्ण श्रद्धासुमन अर्पित करते हुए नमन करता है। आइए , मिल कर एक समृद्ध भारत के निर्माण में अपनी भूमिका निभाएं। भारत माता की जय। जय हिन्द।

शनिवार, 31 दिसंबर 2022

बिहार : मुख्यमंत्री की प्रस्तावित यात्रा का जमीन पर होगा कड़ा विरोध : प्रशांत किशोर

Prashant-kishore-attack-nitish
केसरिया, पूर्वी चंपारण, जन सुराज पदयात्रा के 91वां दिन की शुरुआत पूर्वी चंपारण के केसरिया स्थित पदयात्रा शिविर में सर्वधर्म प्रार्थना से हुई। इसके बाद प्रशांत किशोर ने स्थानीय मीडिया से बात की। पदयात्रा का अबतक का अनुभव साझा करते हुए प्रशांत किशोर ने कहा कि बिहार में अबतक जो सबसे बड़ी समस्या निकल कर आई है, वह बेरोजगारी और भयावह पलायन है। यह बात तो पटना में बैठकर भी कही जा सकती है लेकिन पदयात्रा के दौरान जब हम गांव से गुजर रहे हैं जब इसकी विकरालता का अनुभव हो रहा है।


8 जनवरी को मोतिहारी में होगा जन सुराज पदयात्रा का जिला सम्मेलन, बड़ी संख्या में लोग होंगे शामिल

पूर्वी चंपारण के केसरिया प्रखंड में मीडिया से संवाद के दौरान प्रशांत किशोर ने कहा कि जो लोग जन सुराज से जुड़ना चाहते हैं या इसके संस्थापक सदस्य बनना चाहते हैं उसकी बहुत बड़ी संख्या है। उन्होंने कहा कि 8 जनवरी को मोतिहारी में जन सुराज पदयात्रा का जिला सम्मेलन है, जिसमें बड़ी संख्या में लोग शामिल होंगे और इसके संस्थापक सदस्य बनेंगे। निमंत्रित किए गए सारे लोग इस बात पर चर्चा करेंगे कि जन सुराज अभियान को आगे कैसे बढ़ाया जाए। अलग-अलग प्रखंड से आए हुए लोगों को इस बात की पूरी आजादी होगी यह बताने की इसे गैर-राजनीतिक रहने दिया जाए, या इसे दल में परिवर्तित किया जाए। आने वाले समय में चुनाव लड़ना चाहिए या नहीं या कौन सा चुनाव लड़ना चाहिए इसपर सभी लोग बैठ कर आपस में अपना-अपना मत बैलेट पेपर के माध्यम से वोट करेंगे। यह कार्यक्रम मोतिहारी के हवाईअड्डे ग्राउंड में होगा।


नीतीश कुमार की यात्रा का जमीन पर होगा कड़ा विरोध, लोगों में मुख्यमंत्री के खिलाफ भारी रोष

नीतीश कुमार पर हमला करते हुए प्रशांत किशोर ने कहा कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने जहरीले शराब से हुए मौतों का जिस प्रकार से माखौल उड़ाया है, और जनता के अंदर उनके खिलाफ रोष है। मैं आज आपको राजनीतिक विश्लेषक होने के नाते यह कह रहा हूं कि जदयू डूबती हुई नाव है। जो हालात 2002 में राजद के खिलाफ था, वही हालत आज जदयू की है। ये आपको मैं अपनी समझ से जमीनी हकीकत को देखते हुए बता रहा हूं। समाज में तीर छाप पर बटन दबाने वाले लोग बहुत कम रह जाएंगे। मैं एक भविष्यवाणी आपको नीतीश जी के बारे में बताता हूं कि नीतीश जी अगर यात्रा करेंगे तो उस यात्रा में सारे सरकारी अमला और सुरक्षाओं के बावजूद आपको अप्रिय घटना देखने-सुनने को मिलेगी। इस बात को आप एडवांस में लिख कर रख लीजिए। मैंने जनता के अंदर उनके खिलाफ रोष को देखा है, जो बढ़ता जा रहा है।


प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना में भाजपा के विधायक भी कर रहे हैं भ्रष्टाचार

प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना में हो रहे भ्रष्टाचार पर बोलते हुए प्रशांत किशोर ने कहा, "ज्यादातर लोगों को पांच किलो अनाज नहीं मिलता है, उन्हें चार या साढ़े चार किलो ही अनाज मिलता है। व्यवस्थित तरीके से 40 रुपया प्रति क्विंटल के हिसाब से विधायक से लेकर अफसर और जनप्रतिनिधि तक व्यवस्थित तरीके से गरीब जनता से पीसी काट रहे हैं। मौजूदा समय में सरकार की दो योजनाएं चल रही। प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना जिसमें भाजपा विधायक समेत जनप्रतिनिधि और अफसर मिलकर 40 रुपया प्रति क्विंटल पीसी ले रहे है जिसकी वजह से लाभार्थियों को पांच के बजाए 4 या 4.5 किलो ही अनाज मिल रहा है। प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना में भाजपा के ज्यादातर विधायक भी भ्रष्टाचार में शामिल हैं।"


बिहार में समाजवाद के नाम पर राजनीति करने वाले लोगों के शासन में 60% लोग भूमिहीन

प्रशांत किशोर ने कहा कि बिहार में समाजवादी नेताओं का शासन होने के बाबजूद देश में भूमिहीनों की संख्या बिहार में सबसे ज्यादा है। ग्रामीण बिहार में करीब 60% लोग ऐसे हैं जिनके पास एक धुर भर जमीन भी नहीं है। आगे प्रशांत ने कहा करीब 55 प्रतिशत बिहारियों के पास 1 इंच जमीन नहीं है और यह स्थिति तब है जब बीते 30-35 साल से शासन करने वाले लोग समाजवादी विचारधारा से हैं।

कोई टिप्पणी नहीं: