केरल हाईकोर्ट का वकील मोहम्मद मुबारक हुआ गिरफ्तार - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

विजयी विश्व तिरंगा प्यारा , झंडा ऊँचा रहे हमारा। देश की आज़ादी के 75 वर्ष पूरे होने पर सभी देशवासियों को अनेकानेक शुभकामनाएं व बधाई। 'लाइव आर्यावर्त' परिवार आज़ादी के उन तमाम वीर शहीदों और सेनानियों को कृतज्ञता पूर्ण श्रद्धासुमन अर्पित करते हुए नमन करता है। आइए , मिल कर एक समृद्ध भारत के निर्माण में अपनी भूमिका निभाएं। भारत माता की जय। जय हिन्द।

शनिवार, 31 दिसंबर 2022

केरल हाईकोर्ट का वकील मोहम्मद मुबारक हुआ गिरफ्तार

kerala-lawyer-mohammad-mubarak-arrested
नई दिल्ली 31 दिसम्बर। राष्ट्रीय जाँच एजेंसी (एनआईए) ने प्रतिबंधित चरमपंथी संगठन पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया (पीएफआई) से जुड़े एक और सदस्य को गिरफ्तार किया है। इसका नाम मोहम्मद मुबारक है और यह केरल हाईकोर्ट में एडवोकेट है। आरोपित मुबारक केरल के एर्नाकुलम का रहने वाला है। उसकी गिरफ्तारी गुरुवार (29 दिसंबर 2022) को हुई है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, मोहम्मद मुबारक पीएफआई के गुर्गों को मार्शल आर्ट की ट्रेनिंग देता था। वह प्रतिबंधित संगठन के सदस्यों को यह भी सिखाता था कि टारगेट को कैसे खत्म करना है। मुबारक के घर से एक बैग में छुपा कर रखे गए कुल्हाड़ी और तलवार सहित कुछ अन्य हथियार भी बरामद किए गए हैं। ये हथियार बैडमिंटन के एक बैग में रखे हुए थे। एनआईए ने अपने बयान में बताया है कि पकड़ा गया वकील मोहम्मद मुबारक विभिन्न राज्यों में हिट स्क्वॉयड संचालित कर रहा था। एनआईए ने 20 घंटे की मैराथन पूछताछ के बाद उसे गिरफ्तार किया है। फिलहाल उससे आगे की पूछताछ चल रही है। उसकी बीवी भी वकील है। गौरतलब है कि 29 दिसंबर को एनआईए ने केरल में एक साथ 56 स्थानों पर छापेमारी की थी। यह छापेमारी 19 सितम्बर 2022 को एनआईए द्वारा स्वतः संज्ञान लेकर दर्ज की गई एफआईआर संख्या RC-02/2022/NIA/KOC के मामले में हुई थी। इस एफआईआर में पीएफआई  से जुड़े सदस्यों पर देश विरोधी गतिविधियों को चलाने के आरोप हैं। इससे पहले भी एनआईए ने पॉपुलर फ्रंट ऑफ़ इंडिया के कई ठिकानों पर छापेमारी की थी।


पीएफआई से जुड़े 11 आरोपितों पर हुई है चार्जशीट

वहीं, एक अन्य मामले में राष्ट्रीय जाँच एजेंसी (एनआईए) ने पीएफआई (पॉपुलर फ्रंट ऑफ़ इंडिया) से जुड़े 11 आरोपितों पर हैदराबाद के स्पेशल एनआईए कोर्ट में आरोप पत्र दाखिल किए हैं। यह मामला तेलंगाना के निज़ामाबाद का है, जिसमें सभी आरोपितों पर आतंकी ट्रेनिंग कैम्प चलाने और वहाँ देश विरोधी गतिविधियों को संचालित करने का आरोप है। इस केस में आरोपितों पर योग एवं कराटे क्लास के बहाने मुस्लिम युवाओं को हथियारों को चलाने की ट्रेनिंग देने का आरोप है। इस दौरान मुस्लिम युवाओं को यह भी सिखाया जाता था कि किसी की फ़ौरन जान लेने के लिए शरीर के किस अंग को कैसे काटना चाहिए। इसमें गला काटने की भी ट्रेनिंग दी जाती थी। इस हाईप्रोफाइल मामले में गिरफ्तार आरोपितों के नाम अब्दुल कादिर, अब्दुल अहद, शेख इलियास, अब्दुल सलीम, शेख सहदुल्लाह, फ़िरोज़ खान, मुहमम्द उस्मान, सैयद याहिया समीर, शेख इमरान, मोहम्मद अब्दुल मुबीन और मोहम्मद इरफ़ान आरोपित किए गए हैं।

कोई टिप्पणी नहीं: