पंजाब सरकार ने जैन महापर्व “संवत्सरी” पर की छुट्टी की घोषणा - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

विजयी विश्व तिरंगा प्यारा , झंडा ऊँचा रहे हमारा। देश की आज़ादी के 75 वर्ष पूरे होने पर सभी देशवासियों को अनेकानेक शुभकामनाएं व बधाई। 'लाइव आर्यावर्त' परिवार आज़ादी के उन तमाम वीर शहीदों और सेनानियों को कृतज्ञता पूर्ण श्रद्धासुमन अर्पित करते हुए नमन करता है। आइए , मिल कर एक समृद्ध भारत के निर्माण में अपनी भूमिका निभाएं। भारत माता की जय। जय हिन्द।

सोमवार, 9 जनवरी 2023

पंजाब सरकार ने जैन महापर्व “संवत्सरी” पर की छुट्टी की घोषणा

  • संवत्सरी पर सरकारी अवकाश देने वाला देश का एक मात्र राज्य होगा पंजाब

Jain-mahaparv-chhutti-punjab
चंडीगढ़- 9 जनवरी। पंजाब सरकार ने जैन समाज के महापर्व “संवत्सरी” के अवसर पर सरकारी छुट्टी घोषित की है। पंजाब सरकार द्वारा जारी आदेशानुसार संवत्सरी पर्व का अवकाश 19 सितंबर को रहेगा। जैन धर्म का प्रमुख साधना व आराधना करने वाले पर्व “संवत्सरी” पर सरकारी अवकाश घोषित करने वाला पंजाब देश का एकमात्र राज्य बन गया है। पंजाब मुख्यमंत्री भगवंत सिंह मान द्वारा जैन समाज की इस माँग को स्वीकार करने पर समूचे जैन समाज में ख़ुशी की लहर छा गई है। उल्लेखनीय है कि श्रमण डॉ पुष्पेन्द्र व पंजाब अल्पसंख्यक आयोग के सदस्य डॉ. सलिल जैन पिछले कई वर्षों से संवत्सरी पर्व के सरकारी अवकाश की सरकार से माँग कर रहे थे। इसी संबंध में पंजाब अल्पसंख्यक आयोग के चेयरमैन डॉ. इमानुएल नाहर की अध्यक्षता में हुई पंजाब अल्पसंख्यक आयोग की मीटिंग में इस अवकाश के लिए बहुमत से प्रस्ताव पास कर पंजाब सरकार को पत्र भेजा गया, जिसे कि पंजाब सरकार ने मंज़ूरी करते हुए इस अवकाश की घोषणा की। ज्ञातव्य हो कि इससे पूर्व जैन धर्म से संबंधित एक अवकाश होता था जो कि 24वें तीर्थंकर भगवान महावीर के जन्म कल्याणक (जयंती) पर होता है, पर अब पंजाब में दो अवकाश होंगे। श्रमण डॉ पुष्पेन्द्र ने जानकारी देते हुए बताया कि जैन धर्म में अष्ट दिवसीय पर्यूषण की साधना संपन्न होती है और इसी का अंतिम दिवस “संवत्सरी पर्व” के नाम से जाना जाता है, इस दिन जैन धर्मावलंबी तपस्या, अहिंसा, क्षमा और मैत्री की आराधना के साथ मनाया इस दिवस को मनाते है । श्रमण डॉ पुष्पेन्द्र व अल्पसंख्यक आयोग सदस्य डॉ. सलिल जैन ने पंजाब मुख्यमंत्री भगवंत सिंह मान और अल्पसंख्यक आयोग के चेयरमैन प्रो. इमैनुएल नाहर जी को पत्र प्रेषित कर सकल जैन समाज की तरफ से आभार व्यक्त करते हुए धन्यवाद दिया।

कोई टिप्पणी नहीं: