सीतामढ़ी : अंतर्राष्ट्रीय मोटा अनाज पर परिचर्चा सह जागरूकता कार्यक्रम का आयोजन - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

विजयी विश्व तिरंगा प्यारा , झंडा ऊँचा रहे हमारा। देश की आज़ादी के 75 वर्ष पूरे होने पर सभी देशवासियों को अनेकानेक शुभकामनाएं व बधाई। 'लाइव आर्यावर्त' परिवार आज़ादी के उन तमाम वीर शहीदों और सेनानियों को कृतज्ञता पूर्ण श्रद्धासुमन अर्पित करते हुए नमन करता है। आइए , मिल कर एक समृद्ध भारत के निर्माण में अपनी भूमिका निभाएं। भारत माता की जय। जय हिन्द।

मंगलवार, 24 जनवरी 2023

सीतामढ़ी : अंतर्राष्ट्रीय मोटा अनाज पर परिचर्चा सह जागरूकता कार्यक्रम का आयोजन

  • सीतामढ़ी में मोटे अनाज के उत्पादन की बहुत संभावनाएं हैं, इसके उत्पादन में अगर तेजी आएगी तो आम लोग भी इसका प्रयोग और अधिक करेंगे- सच्चिदानंद प्रसाद, कृषि वैज्ञानिक, कृषि विकास केंद्र

Workahop-fat-seed-bihar
सीतामढ़ी, 24 जनवरी, सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय, भारत सरकार के केंद्रीय संचार ब्यूरो, सीतामढ़ी के द्वारा आज सीतामढ़ी के लक्ष्मी नगर, बसवरिया में स्थित भागेश्वरी वैद्यनाथ सरस्वती विद्या मंदिर  में अंतर्राष्ट्रीय मोटा अनाज वर्ष-2023  विषय पर परिचर्चा सह जागरूकता कार्यक्रम का आयोजन किया गया, जिसका विधिवत उदघाटन कमल सिंह, जिला  सूचना  एवं जनसंपर्क पदाधिकारी, सीतामढ़ी,  सच्चिदानंद प्रसाद, कृषि वैज्ञानिक, कृषि विकास केंद्र, सीतामढ़ी, नीरज कुमार झा, जिला उद्यान पदाधिकारी, सीतामढ़ी,  रजनीकांत भारती, उप परियोजना निदेशक, आत्मा, सीतामढ़ी, सुश्री रश्मि सिंह, जिला युवा पदाधिकारी नेहरू युवा केंद्र, आलोक कुमार, अपना खेत संस्था, सीतामढ़ी, चंद्र मोहन यादव, प्राचार्य, सरस्वती विद्या मंदिर, सीतामढ़ी एवं अन्य गणमान्य अतिथियों द्वारा दीप प्रज्वलित कर किया गया। इस कार्यक्रम के मुख्य अतिथि कमल सिंह, जिला सूचना एवं जनसंपर्क पदाधिकारी, सीतामढ़ी ने अपने संबोधन में कहा कि केंद्रीय संचार ब्यूरो, सूचना प्रसारण मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा आयोजित यह जागरूकता कार्यक्रम के माध्यम से अंतर्राष्ट्रीय मोटा अनाज वर्ष-2023 विषय पर आयोजित कार्यक्रम काफी सराहनीय है । किसी भी अभियान को चलाने का एक प्रमुख उद्देश्य यह है कि इसमें लोगों की भागीदारी हो और उसके प्रति लोग जागरूक हो और आज के कार्यक्रम का भी यही उद्देश्य है कि बच्चों में मोटा अनाज के प्रति जागरूकता लाई जाए तथा  वह अपने भोजन में मोटे अनाज का उपयोग बढ़ाएं। बच्चों के माध्यम से इनके घरों तक जागरूकता अभियान को पहुंचाया जाए। 


कार्यक्रम को संबोधित करते हुए सच्चिदानंद प्रसाद, कृषि वैज्ञानिक, कृषि विकास केंद्र, सीतामढ़ी ने कहा कि वर्ष 2023 को विश्व स्तर पर अंतर्राष्ट्रीय मोटा अनाज वर्ष के रूप में मनाया जा रहा है, भारत ने इसका प्रस्ताव दिया था और इसे संयुक्त राष्ट्र महासभा ने अनुमोदन किया है । सीतामढ़ी में मोटे अनाज के उत्पादन की बहुत संभावनाएं हैं ।  इसके उत्पादन में अगर तेजी आएगी तो आम लोग भी इसका प्रयोग तेजी से करेंगे. इसके लिए भारत सरकार मोटे अनाज के उत्पादन के लिए कई योजनाएं लेकर आ रही है, इस तरह के जागरूकता अभियान से मोटे अनाज के प्रति लोगों में जागरूकता पैदा होगी। नीरज कुमार झा, जिला उद्यान पदाधिकारी, सीतामढ़ी ने कहा कि इस तरह के आयोजन के माध्यम से बच्चों में भारत सरकार द्वारा चलाए जा रहे अभियानों के प्रति जागरूकता आती है। इस आयोजन में जिन प्रतियोगिताओं का आयोजन किया गया उसके सभी विजेताओं के साथ-साथ इस में भाग लेने वाले सभी बच्चों को उन्होंने शुभकामनाएं  दी। अपने संबोधन में रजनीकांत भारती, उप परियोजना निदेशक, आत्मा, सीतामढ़ी ने कहा कि इस कार्यक्रम से बच्चों में एक भावना जागृत हुई है और मोटे अनाज के प्रति जागरूकता बढ़ेगी। इस कार्यक्रम में प्रश्नोत्तरी प्रतियोगिता का भी आयोजन किया गया और विजेताओं को अतिथियों द्वारा पुरस्कृत किया गया साथ ही  चित्रकला प्रतियोगिता के विजेताओं को भी पुरस्कृत किया गया। मंत्रालय के पटना स्थित पंजीकृत सांस्कृतिक दल द्वारा मोटा अनाज पर नुक्कड़ नाटक का भी आयोजन किया गया। इस कार्यक्रम में अपना खेत संस्था के सहयोग से मोटे अनाज की प्रदर्शनी लगायी गयी थी साथ ही अतिथियों को  मोटे अनाज से बने पैकेट उपहार स्वरुप भेंट किया गया। इस कार्यक्रम के पूर्व जागरूकता रैली का आयोजन किया गया, जिसमें बड़ी संख्या में बच्चों ने भाग लिया. यह रैली लक्ष्मी नगर से बांध होते हुए सरस्वती विद्या मंदिर में समाप्त हुई। कार्यक्रम का विषय प्रवेश क्षेत्रीय प्रचार अधिकारी जावेद अंसारी ने किया । धन्यवाद ज्ञापन चंद्र मोहन यादव, प्राचार्य, सरस्वती विद्या मंदिर और कार्यक्रम का संचालन व्यास अख्तर ने किया ।  इस कार्यक्रम को सफल बनाने में बालमुकुंद, बिहारी जी, सुशांत कुमार, रवि कुमार आदि ने योगदान दिया, केंद्रीय संचार ब्यूरो के संजय राय और राकेश कुमार ने योगदान दिया।

कोई टिप्पणी नहीं: