मधुबनी : जल जीवन हरियाली दिवस पर कार्यक्रम का हुआ अयोजन। - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

विजयी विश्व तिरंगा प्यारा , झंडा ऊँचा रहे हमारा। देश की आज़ादी के 75 वर्ष पूरे होने पर सभी देशवासियों को अनेकानेक शुभकामनाएं व बधाई। 'लाइव आर्यावर्त' परिवार आज़ादी के उन तमाम वीर शहीदों और सेनानियों को कृतज्ञता पूर्ण श्रद्धासुमन अर्पित करते हुए नमन करता है। आइए , मिल कर एक समृद्ध भारत के निर्माण में अपनी भूमिका निभाएं। भारत माता की जय। जय हिन्द।

मंगलवार, 3 जनवरी 2023

मधुबनी : जल जीवन हरियाली दिवस पर कार्यक्रम का हुआ अयोजन।

Jal-jivan-hariyali-madhubani
मधुबनी, जिला पदाधिकारी सह उप विकास आयुक्त, विशाल राज की अध्यक्षता में  जल जीवन हरियाली दिवस परजिला ग्रामीण विकास अभिकरण के सभाकक्ष में जल जीवन हरियाली दिवस पर कार्यक्रम आयोजित किया गया,जिसमें माननीय मुख्यमंत्री की उपस्थिति में पटना में आयोजित कार्यक्रम का सीधा प्रसारण भी किया गया। इस अवसर का विषय "ग्रामीण क्षेत्रों में जल जीवन हरियाली अभियान का क्रियान्वयन"  रखा गया। इस आयोजन के दौरान ज्ञान भवन, गांधी मैदान से माननीय मुख्यमंत्री के संबोधन का भी सीधा प्रसारण भी दिखाया गया। जिसमें माननीय मुख्यमंत्री जी द्वारा जल जीवन हरियाली अभियान की उपादेयता पर प्रकाश डाला गया। डीआरडीए सभाकक्ष में उपस्थित लोगों को संबोधित करते हुए प्रभारी जिला पदाधिकारी ने कहा कि जल जीवन हरियाली अभियान का जुड़ाव सीधे हमारे जीवन से है। आधुनिकीकरण के दौर में जब हमारा जीवन प्रदूषण की भेंट चढ़ रहा है, हम सभी को पर्यावरण संरक्षण की दिशा में अविलंब आवश्यक कदम उठाने होंगे। उन्होंने कहा कि जल जीवन हरियाली का अभियान सरकार द्वारा पर्यावरण संरक्षण को प्रोत्साहित करने का एक महत्वकांक्षी प्रयास है। इस कड़ी में जिले के सार्वजनिक जल स्रोतों को अतिक्रमण मुक्त कराया जा रहा है हरित आवरण के आच्छादन को बढ़ाने के उद्देश्य से लगातार पेड़ लगाए जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि जनहित ने हम सभी को जल जीवन हरियाली अभियान को सफल बनाने की दिशा में प्रयास करना चाहिए। मौके पर उपस्थित सभी लोगों ने उप विकास आयुक्त एवं निदेशक डीआरडीए राजेश्वर प्रसाद के नेतृत्व में जल जीवन हरियाली अभियान में अपना योगदान सुनिश्चित करने के लिए विभिन्न आशय का संकल्प भी लिया जिसमें प्रत्येक वर्ष पौधा लगाकर उसकी देखभाल करना, आसपास के तालाबों, नदियों एवं अन्य जलस्रोतों को प्रदूषित नहीं करने, आवश्यकता से अधिक भूगर्भीय जल का उपयोग न करने, पास पड़ोस के लोगों को जल संचयन हेतु प्रेरित करने, बिजली का सदुपयोग करने, कूड़े का समुचित निस्तारण करने, प्लास्टिक का उपयोग बंद करने, जीव जंतुओं के प्रति प्रेम भाव रखने, निजी तौर पर ईंधन की खपत को रोकने के लिए पैदल चलने और साइकिल का उपयोग करने, कागज का सदुपयोग करने तथा खुले में शौच न करने का संकल्प व्यक्त किया। मौके पर जिला स्तरीय सभी विभागों के वरीय पदाधिकारी उपस्थित थे।

कोई टिप्पणी नहीं: