सीहोर : संविधान बदलने की बात बाबा साहब अंबेडकर का घोर अपमान : रमेश सक्सेना - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा । हृदय राखि कौशलपुर राजा।। -- मंगल भवन अमंगल हारी। द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी ।। -- सब नर करहिं परस्पर प्रीति । चलहिं स्वधर्म निरत श्रुतिनीति ।। -- तेहि अवसर सुनि शिव धनु भंगा । आयउ भृगुकुल कमल पतंगा।। -- राजिव नयन धरैधनु सायक । भगत विपत्ति भंजनु सुखदायक।। -- अनुचित बहुत कहेउं अग्याता । छमहु क्षमा मंदिर दोउ भ्राता।। -- हरि अनन्त हरि कथा अनन्ता। कहहि सुनहि बहुविधि सब संता। -- साधक नाम जपहिं लय लाएं। होहिं सिद्ध अनिमादिक पाएं।। -- अतिथि पूज्य प्रियतम पुरारि के । कामद धन दारिद्र दवारिके।।

शुक्रवार, 18 अगस्त 2023

सीहोर : संविधान बदलने की बात बाबा साहब अंबेडकर का घोर अपमान : रमेश सक्सेना

Criticise-to-change-constitution
सीहोर। देश के प्रधान मंत्री नरेन्द्र मोदी के आर्थिक सलाहकार  विवेक देवराय द्वारा  लिखे गए लेख में भारतीय संविधान बदलने की बात की गई है। इसको लेकर पूर्व विधायक और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता रमेश सक्सेना ने कहा कि यह बहुत ही दुर्भाग्य पूर्ण वक्तव्य है, मैं इसकी घोर निंदा करता हूं। क्योंकि संविधान रचियता बाबा साहब डा अंबेडकर देश और विदेश के बहुत ही काबिल व्यक्ित थे। भारतीय संविधान संविधान सभा में हर पक्ष पर बहुत मंथन के बाद समावेश किया गया है। भारत जैसे विशाल गणतंत्र के लिए संविधान आवश्यक है, बहुत ही सोच समझकर संविधान का निर्माण किया गया है। अब संविधान बदलने की जो बात हो रही है, यह बाबा साहब अंबेडकर का अपमान है। कहीं न कहीं एेसा लगता है कि देश की एकता अखंडता को विखंडित करने का कुत्िसक प्रयास किया जा रहा है। सभी नागरिकों से अपील करता हूं कि संविधान बदलने की मंशा रखने वालों का विरोध करें, देश की एकता अखंडता के लिए संविधान बहुत जरूरी है, यह हमें आपस में जोड़े रखता है।

कोई टिप्पणी नहीं: