भाजपा राष्ट्रभक्ति से रंगी शत प्रतिशत लोकतांत्रिक पार्टी: मोदी - Live Aaryaavart

Breaking

सोमवार, 19 फ़रवरी 2018

भाजपा राष्ट्रभक्ति से रंगी शत प्रतिशत लोकतांत्रिक पार्टी: मोदी

bjp-100-percent-democratic-party-says-modi
नयी दिल्ली 18 फरवरी, जनसंघ और भारतीय जनता पार्टी को आजादी के बाद देश में हुए सभी प्रमुख जनांदोलनों का अगुआ करार देते हुए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने आज कहा कि उनकी पार्टी ‘राष्ट्रभक्ति से रंगी हुई शत प्रतिशत लोकतांत्रिक पार्टी’ है। आधुनिक सुविधाओं से लैस पार्टी मुख्यालय का उद्घाटन करते हुए प्रधानमंत्री ने यहां कहा कि आजादी के बाद देश में जितने भी आंदोलन हुए हैं, उन सारे आंदोलनों का नेतृत्व जनसंघ और भाजपा ने किया जिसका उन्हें बहुत गर्व है। उन्होंने कहा कि हमारी पार्टी राष्ट्रभक्ति से रंगी है और राष्ट्रहित के लिए मरने मिटने वाले असंख्य कार्यकर्ताओं के त्याग एवं तपस्या से इस पार्टी की रचना हुई है। श्री मोदी ने पार्टी के वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी और दिवंगत सुंदर सिंह भंडारी के योगदान को रेखांकित करते हुए कहा कि श्री आडवाणी हमेशा संगठनात्मक लोकतांत्रिक व्यवस्थाओं का अध्ययन करते रहते थे और श्री भंडारी भी हमेशा से कोई समझौता किए बिना संविधान के अनुसार पार्टी कैसे चले और सदस्यता कैसे बढ़े, प्रक्रियाएं कैसी हों, इसकी चिंता करते थे। उन्होंने कहा, ‘इन्हीं चीज़ों के कारण भाजपा का आज का ‘पिण्ड शत प्रतिशत लोकतांत्रिक पिण्ड है।’ लोकतंत्र के लिए अलग अलग क्षेत्रों में वहां के लोगों की आकांक्षाओं के अनुरूप काम करने की जरूरत होती है। सोचने, काम करने, निर्णय लेने और उसे लागू करने में लोकतंत्र की शिक्षा दीक्षा हमें मिली है। उन्होंने कहा कि आज जब जनता ने हमें सत्ता के माध्यम से सेवा का मौका दिया है तब ये लोकतांत्रिक संस्कार बहुत काम आ रहे हैं। सबको साथ लेकर चलने का प्रयास कर रहे हैं। उन्होंने गठबंधन की राजनीति में भाजपा के योगदान की चर्चा करते हुए कहा कि स्वार्थवश राजनीतिक दलों का एका होना अलग बात है, लेकिन लोकतांत्रिक मूल्यों और क्षेत्रीय अपेक्षाओं पर खरा उतरने के लक्ष्य के साथ पार्टियों को साथ लेकर चलना दूसरी बात। इस मामले में भी भाजपा ने एक अलग मुकाम हासिल किया है।  उन्होंने कहा कि लोकतांत्रिक तरीके से साथियों को साथ लेकर गठबंधन में क्षेत्रीय आकांक्षाओं के साथ संतुलन कायम करते हुए अलग अलग दलों की ताकत को जोड़ते हुए देश की आशाओं एवं आकांक्षाओं को कैसे पूरा किया जा सकता है, यह प्रयोग भी भाजपा की श्री अटल बिहारी वाजपेयी के नेतृत्व में राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन सरकार ने दिखाया। इसका मूल कारण हमारी सोच, विचार, संस्कार रग रग में लोकतंत्र हैं और उसी के कारण सबके साथ चलने में हम लोग यथासंभव सफलता पूर्वक आगे बढ़ रहे हैं।


श्री मोदी ने कहा कि भाजपा का नया कार्यालय भवन ईंट- पत्थर की इमारत नहीं बल्कि यह जनसंघ के समय से हजारों लाखों कार्यकर्ताओं की अपेक्षाओं की इमारत है। उन्होंने कार्यकर्ताओं को इस मुख्यालय की आत्मा करार देते हुए विश्वास व्यक्त किया कि पार्टी कार्यकर्ता यहां से संचित शक्ति देश की कोटि-कोटि जनता की अपेक्षाओं को पूरा करने में लगायेंगे। इस अवसर पर पार्टी अध्यक्ष अमित शाह ने कहा कि जनसंघ से शुरू होकर भाजपा के इस मुकाम तक पहुंचने की यात्रा सरल नहीं थी। आज पार्टी ऐसे मुकाम पर पहुंच चुकी है, जहां इसके सांसदों की संख्या 330 से अधिक और विधायकों की संख्या 1400 तक पहुंच गयी है। देश के 19 राज्यों में भाजपा की प्रत्यक्ष या परोक्ष सरकारें चल रही हैं। उन्होंने बताया कि देश के 694 जिलों में से 635 में भाजपा के कार्यालय बनाने का लक्ष्य तय किया गया है जिनमें से 192 जिलों में कार्यालय बन चुके हैं। 318 में भूमिपूजन हो चुका है, 125 में रजिस्ट्री हो चुकी है और सौ जिलो में कार्यालय निर्माणाधीन है। भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि नये कार्यालय भवन में पार्टी के 19 विभागों और 11 प्रकल्पों का कामकाज करना संभव होगा। यहां से भाजपा के सभी जिला एवं प्रदेश कार्यालयों से सीधा संपर्क होगा। प्रधानमंत्री केन्द्रीय कार्यालय में बैठकर ही सभी प्रदेश की कार्यकारिणियों को संबोधित कर सकते हैं। एक सशक्त आईटी सेंटर के साथ साथ मज़बूत सोशल मीडिया केन्द्र होगा। परंपरागत मीडिया के लिए भी देश भर में प्रधानमंत्री एवं पार्टी के प्रमुख कार्यक्रमों का सीधा प्रसारण देखना और उसका प्रसारण करने की भी पूरी व्यवस्था की गयी है। उन्होंने दावा किया कि विश्व की किसी भी राजनीतिक पार्टी का मुख्यालय इतना बड़ा नहीं है। मंच पर प्रधानमंत्री एवं श्री शाह के अलावा श्री आडवाणी, डॉ. मुरली मनोहर जोशी, गृह मंत्री राजनाथ सिंह, सड़क परिवहन, जहाजरानी एवं जल संसाधन मंत्री नितिन गडकरी और विदेश मंत्री सुषमा स्वराज भी उपस्थित थीं। वित्त मंत्री अरुण जेटली सऊदी अरब की यात्रा पर गए हैं। बाद में श्री मोदी ने शिलापट्ट के अनावरण के साथ मुख्यालय का उद्घाटन किया। प्रधानमंत्री ने इस दौरान श्री आडवाणी आैर डॉॅ. जोशी को अपने पास बुलाकर उनसे भी शिलापट्ट का अनावरण कराया। प्रधानमंत्री एवं अन्य नेताओं ने बाद में बहुमंजिले मुख्यालय का अवलोकन भी किया। करीब आठ हजार वर्गमीटर या लगभग एक लाख 70 हजार वर्गफुट भूभाग में फैले मुख्यालय में तीन ब्लॉक हैं।

इस इमारत का शिलान्यास श्री मोदी ने ही 18 अगस्त 2016 को रक्षा बंधन के पर्व पर किया था। मुख्यालय को सभी प्रकार की अत्याधुनिक प्रौद्योगिकी से लैस किया गया है। मुख्यालय का 70 प्रतिशत हिस्सा हरित क्षेत्र है। यहां डिजिटल लाइब्रेरी से लेकर वाई-फाई और वीडियो कांफ्रेंसिंग की सुविधा उपलब्ध करायी गयी है। बेसमेंट में दो फ्लोर की पार्किंग व्यवस्था की गयी है, जिसमें एक साथ कम से कम 300 वाहन पार्क किये जा सकते हैं। इस मुख्यालय में सौर ऊर्जा से बिजली आपूर्ति की भी वैकल्पिक व्यवस्था की गयी है। इतना ही नहीं वाटर हार्वेस्टिंग प्रणाली से भी इस इमारत को सुसज्जित किया गया है।

एक टिप्पणी भेजें
Loading...