झारखण्ड : 23 साल की निधि की शादी 27 जून को है - Live Aaryaavart

Breaking

मंगलवार, 5 जून 2018

झारखण्ड : 23 साल की निधि की शादी 27 जून को है

  • शादी के 22 दिन पहले रक्तदान करने की इच्छा पूर्ण कर ली निधि, 14 महीने के थेलेसिमिया रोग से पीड़ित बच्चे की जिंदगी बचाई 

blood-donation-girl
धनबाद.धनबाद की बेटी को असंख्य बार धन्यवाद.आधुनिक युग में उसने समाज में जीने का मायने ही बदलकर रख दी.तड़क भड़क जिंदगी में भौतिक सुख भोगने की इच्छा नहीं रखी.यह कहा जाता है कि नारी जन्मजात रक्तहीनता के शिकार रहती हैं.इस कथन को किनारा करके  निधि झा ने रक्तदान कर खून न होने का  रोना रोने वालों को मार्गदर्शन करके रख दी है. यहां चर्चा है कि बदल रहा धनबाद,बदल रही युवा पीढ़ी की सोच. बदल रहा है धनबाद.युवा जागरूक होकर रक्तदान करने को आगे आ रहे हैं.ऐसा ही कुछ अनोखा नजारा सामने से देखने को मिला.धनबाद गोधर निवासी हैं कमलकांत झा. इनके 6 बच्चियां हैं.6 बहनों है निधि झा 5 वीं नंबर पर है.कुदरत ने संस्कारी बहनों को कोई भाई नहीं दिये.पिता कमलाकांत झा जी के स्वर्गवास होने के पूर्व ही निधि ने इंटर की पढ़ाई पूरी कर ली.उसके बाद पढ़ाई छोड़नी पड़ी. निधि झा की मुंह बोली भाई अंकित रजगढ़िया ने कहा कि उसकी शादी 27 जून 2018 को होने वाली है. निधि ने साफ तौर से कह रखी थीं कि शादी से पहले जरूर ही रक्तदान करेंगी. उसकी इच्छा पूरी हो गयी.23 साल की निधि झा की शादी मुकेश ठाकुर के साथ 27 जून 2018 को होने वाली है.वह विवाह के 22 दिन पूर्व ही रक्तदान करके महाकल्याण कर दी है.वह किसी की जीवन बचाने में सफल हो गयी. बता दें कि धनबाद पी.एम.सी.एच.में कुमारधुबी के 14 महीने के देव महतो भर्ती हैं. थेलेसिमिया नामर गंभीर बीमारी से पीड़ित हैं.उसका हिमोग्लोबिन मात्र 2.5 ग्राम हो गया था. रक्त समूह बी पॉजेटिव है.उसको तत्काल 100 एमएल ब्लड की जरूरत थी.  अंकित राजगढ़िया ने अपनी बहन निधि झा को बताया.वह बिना देर किए ही पी.एम.सी.एच. पहुंच गयीं.और निधि झा ने अपने शरीर के निधि से रक्त निकलवाकर रक्तदान कर दी.इस तरह मासूम बच्चे की जान बच गयी. आज दूसरी बार निधि ने रक्तदान किया है.वह कहती है मैंने शादी से पहले कुछ समाज के लिए नया करना चाहती थी. शादी से पहले में कुछ ऐसा संदेश देना चाहती, जिससे युवा जागरूक हो.तब उन्होंने रक्तदान करने का फैसला लिया. आज रक्तदान किया वह रक्तदान कर काफी खुश है शादी से पहले उसके रक्तदान का सपना पूरा हुआ।बच्चे को गोदी में उठाकर खुश हैं निधि झा.
एक टिप्पणी भेजें
Loading...