मधुबनी : राजस्व समन्वय समिति की बैठक का हुआ योजन - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

गुरुवार, 14 जून 2018

मधुबनी : राजस्व समन्वय समिति की बैठक का हुआ योजन

madhubani-revenue-standing-committee-meeting
मधुबनी (आर्यावर्त डेस्क) 14 जून,  जिला पदाधिकारी,मधुबनी की अध्यक्षता में गुरूवार को समाहरणालय स्थित सभाकक्ष में मासिक राजस्व समन्वय समिति की बैठक का आयोजन किया गया। जिसमें आगामी बाढ़ की तैयारी की भी समीक्षा की गयी। बैठक में  अपर समाहर्ता मधुबनी, अनुमंडल पदाधिकारी सदर मधुबनी, अनमंडल पदाधिकारी बेनीपट्टी, अनुमंडल पदाधिकारी झंझारपुर सहित अन्य अनुमंडल पदाधिकारीगण तथा भूमि सुधार उप समाहर्ता एवं अंचल अधिकारी उपस्थित थे। बैठक में जिला पदाधिकारी द्वारा आॅपरेषन भूमि दखल देहानी की समीक्षा की गयी। एवं सभी पदाधिकारियों को निदेष दिया गया कि वे अनवरत सर्वेक्षण कराकर एवं दखल देहानी कराकर प्रत्येक माह के 15 एवं 30 तारीख को इसकी सूचना विभागीय वेवसाईट पर अपलोड करना सुनिष्चित करें। उन्हों ने इसके साथ ही अभियान बसेरा के तहत बास रहित परिवारों का सर्वेक्षण कर 5 डिसमिल जमीन उपलब्ध कराने का निदेष दिया। जिला पदाधिकारी द्वारा सभी अंचल अधिकारी को निदेष दिया गया कि हल्का कर्मचारी पंचायतवार तिथि का निर्धारण कर उक्त तिथि को संबंधित पंचायत के सरकारी भवनों में ही कार्य करेंगे। जिससे की लोगों को जमीन का लगान इत्यादि का भुगतान के लिए उन्हें इधर-उधर दौड़ना नहीं पडे। उन्होने प्रत्येक माह सर्वेक्षण कर लगभग 5 अतिक्रमण स्थल को चिन्हित कर खाली कराने की कार्रवाई करने का निदेष दिया। जिला पदाधिकारी द्वारा बाढ़ पूर्व तैयारी के मद्देनजर सभी अंचल अधिकारी सर्वेक्षण कर बाढ़ग्रस्त पंचायत/प्रखंड में नाव की संख्या,अद्यतन स्थिति एवं कहां है,इससे संबंधित जांच करने एवं प्रतिवेदन भेजने का निदेष दिया गया। उन्होंने बाढ़ पूर्व तैयारी के तहत बाढ़ के समय फूड पैकेट के निर्माण हेतु सर्वेक्षण कर स्थल चिन्हित करने का निदेष दिया गया। जिला पदाधिकारी द्वारा माननीय उच्च न्यायालय के लंबित मामलों का निष्पादन 15 दिनों के अंदर करने का निदेष दिया गया।
एक टिप्पणी भेजें
Loading...