बिहार : इंटरमीडिएट रिजल्ट पर संग्राम आज पाँचवे दिन भी जारी - Live Aaryaavart

Breaking

बुधवार, 13 जून 2018

बिहार : इंटरमीडिएट रिजल्ट पर संग्राम आज पाँचवे दिन भी जारी

ए.आई,एस.एफ के बैनर तले सड़क पर उतरे छात्र; छात्रों ने किया इंटरमीडिएट काउंसिल के सामने बुद्धमार्ग सड़क जाम; लगभग 3 दर्जन छात्रों ने दी गिरफ्तारी, सचिव से पुन: मिला ए.आई.एस.एफ का प्रतिनिधि मंडल.
student-protest-continue-on-bihar-inter-result
पटना (आर्यावर्त डेस्क) 13 जून, ज्ञात हो कि जब से इंटरमीडिएट का रिजल्ट जारी हुआ है लगातार छात्र सड़क पर आंदोलित हैं. किसी की  मार्क्सीट सादा है तो किसी उपस्थित छात्रों को भी अनुपस्थित कर दिया गया है.छात्रों की  समस्या को देखते हुए, ए.आई.एस.एफ आठ जून से लगातार समस्या के निदान के लिए सड़क पर छात्रों के साथ डटा  हुआ है. पहले 9 तारिख  और फिर 11 तारिख  को ए.आई.एस.एफ का प्रतिनिधि मंडल मिला लेकिन कोई ठोस कार्यवायी नहीं कि गयी जिससे क्षुब्ध छात्र आज पुन: सड़क पर उतरे . बुद्धमार्ग को पहले जाम किया फिस लगभग 3 दर्जन छात्रों ने गिरफ्तारी भी दिया। छात्र  मांग कर रहे थे कि सरकार और बोर्ड यदि पाक साफ है तो सभी काॅपियों को वेबसाईट पर अपडेट करे , स्क्रुटनी के जगह वह काॅपियों को अपडेट करने के लिए   छात्रों से शुल्क ले लेकिन करे. मांग को न मानते देख छात्रों का जत्था बुद्धमार्ग को लगभग 30 मिनट तक जाम किया. इस दौरान आवागमन ठप्प पर गया. उग्र छात्रों को पुलिस गिरफ्तार कर कोतवाली थाना ले गयी जहाँ छात्रों को लगभग 2.30 घन्टे बैठाये  रहा. बाद में  जब छात्र यहाँ भी नारेबाजी पर उतर आये तो मामले को बिगड़ते देख पुन: एक बार बोर्ड सचिव से वार्ता करवायी गयी. बोर्ड सचिव छात्र नेताओं को संतुष्ट करने की  कोशिश करते हुए यह बताया कि बोर्ड की  बेवसाईट  फंक्सनल  हो गया है। ऑफलाईन  और आनलाइन मिलाकर कुल जमा 1705 जे.ई.ई तथा 4229 अन्य प्रतियोगी परीक्षाओं में  उत्तीर्ण छात्रों के आवेदन आये हैं. इन्हें प्राथमिकता के आधार पर पहले ठीक करने कि कोशिश कि जा रही है. 15048 आवेदन त्रुटि के निपटारा के लिए आये हैं ये वह आवेदन हैं जिनके माक्सीट सादा या अपूर्ण हैं। 4000... से शुरू होने वाले क्रमांक इंप्रुवमेंट के हैं इनमें  पिछले साल और इस साल दोनों मिलाकर जिसमें ज्यादा अंक आया है उसी का अंक चढ़ाया गया है.

प्रतिनिधि मंडल ने सवालिये  लहजे में  कहा कि यदि इतने इतने आवेदन त्रुटिपूर्ण हैं तो यह बोर्ड पर सवाल खड़ा है कि कैसी एजेंसियों को यह कार्यभार सौंपा गया है. साथ हीं यह मांग किया की  दोषी शिक्षक और पदाधिकारियों पर बोर्ड अविलंब कार्यवायी  करे. एक बार पुन: नीतिगत फैसला बताते हुए बोर्ड सचिव ने कॉपियों  को बेवसाईट  पर अपडेट करने की  बात को टालने की  कोशिश कि जिसपर प्रतिनिधि मंडल अरे रहे और बोर्ड सचिव ने टालने की  कोशिश कि और बोर्ड अध्यक्ष से वार्ता का आश्वासन दिया। प्रतिनिधि मंडल में  ए.आई.एस.एफ के पटना जिला सचिव जन्मेजय कुमार, अध्यक्ष अक्षय कुमार , पटना विश्वविद्यालय काउंसिलर अभिषेक राज, जिला सह सचिव अनुष्का आर्या,छोटे लाल कुमार, विनय कुमार चौधरी,अमन कुमार, अमित कुमार,विनय कुमार शामिल थे. गिरफ्तार छात्रों में  अभिमन्यु मिश्र, मनीष सिंह, विकास यादव , श्री मौर्य कुमार, आदित्य कुमार समेत अन्य मौजूद थे।  ए.आई.एस.एफ ने शनिवार से पहले बोर्ड अध्यक्ष से वार्ता नहीं करवाने और काॅपियों को वेबसाईट पर अपडेट नहीं करने के शर्त में राज्य भर के छात्रों से उग्र आंदोलन के लिए आगे आने का आह्वान किया है तथा कल से सभी जिला में  ए.आई.एस.एफ से जुड़े छात्र इंटरमीडियेट रिज्लट में अन्याय झेल रहे छात्रों को संगठित कर जन आंदोलन कि तैयारी में  जूट जायेंगे. उग्र आंदोलन में  किसी भी तरह के विधि व्यवस्था बीगड़ती  है तो इसके लिए पुरी तौर पर राज्यसकार जिम्मेदार होगा।
एक टिप्पणी भेजें
Loading...