बेगूसराय : रविन्द्र नाथ टैगोर की मनाई गई 77वीं पुण्यतिथि। - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

मंगलवार, 7 अगस्त 2018

बेगूसराय : रविन्द्र नाथ टैगोर की मनाई गई 77वीं पुण्यतिथि।

ravindranath-tagore-anniversiry
बेगूसराय (अरुण कुमार) साहित्य के क्षेत्र में अलख जगाने वाले रविन्द्र नाथ टैगोर की 77वीं पुण्य तिथि बेगूसराय के चर्चित कवि,उद्घोषक,अधिवक्ता सह संत महावीरा किंडंगार्टन के प्राचार्य प्रफुल्ल चन्द्र मिश्रा के आवास पर मनाई गई।इस मौके पर उपस्थित बागवारा उच्च विद्यालय से सेवानिवृत्त प्राचार्य श्री वासुकी नाथ सिंह,वॉलीवुड अभिनेता अमिय कश्यप,शिक्षक नेता (राजधानी एक्सप्रेस) श्री अमरेन्द्र सिंह,समाज सेवी सरोज कुमार बिहार सीने आर्टिष्ट एशोसिएशन के ऑर्गनाइजेशन कमिटी के अध्यक्ष राकेश कुमार "महन्थ",एस मनोज और वरिष्ठ पत्रकार,कवि एवं समाज सेवी श्री चाँद मुसाफिर जैसे हस्तियों के साथ अन्य गणमान्य व्यक्ति नेता अभिनेता के उपस्थिति में पुण्यतिथि का आयोजन सम्पन्न हुआ ।इस मौके पर श्री कश्यप ने कहा कि बिहार के लिये हमारा एकसूत्री कार्यक्रम कहें या संकल्प जो भी संज्ञा दें वही सही मैं बिहार में फ़िल्म सिटी निर्माण का कार्य अवश्य पूरा करुँगा ताकि हमें फल्मों में प्रवेश के लिये जो कठिनाइयों का सामना करना पड़ रहा है वो आनेवाले पीढ़ियों को नहीं हो इसके लिये हम दृढ़ संकल्पित है।कवि प्रफुल्ल चन्द्र ने अपनी बातों को रखते हुए रविन्द्र नाथ टैगोर के बारे में बताया कि रविन्द्र नाथ टैगोर वहुप्रतिभावान व्यक्तित्व के व्यक्ति थे।टैगोर ने बांग्ला साहित्य के माध्यम से भारतीय संस्कृति का अलख जगाने वाले और एशिया के प्रथम नोबेल पुरस्कार सम्मानित व्यक्ति हैं।इनसे आज की पीढ़ियों को सीख लेनी चाहिये।
एक टिप्पणी भेजें
Loading...