पूर्णिया : कभी भी ध्वस्त हो सकता है डगरूआ से पतरिंगा जाने वाली सड़क का पुल - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

बुधवार, 19 सितंबर 2018

पूर्णिया : कभी भी ध्वस्त हो सकता है डगरूआ से पतरिंगा जाने वाली सड़क का पुल

- इसकी जर्जरता की खबर प्रशासनिक पदाधिकारी से लेकर तमाम जनप्रतिनिधियों को है लेकिन कार्रवाई के नाम पर कुछ भी नहीं हो रहा है
bridge-mey-colapsed-in-purnia
पूर्णिया : जिले में मुख्यमंत्री सेतु योजना अंतर्गत डगरुआ प्रखंड से पतरिंगा जाने वाले पथ पतरिंगा गांव के पास मनेन धार पर स्थित पुल का निर्माण कार्य 2008 में विधायक रुकनुद्दीन के समय में हुआ था। आज पुल पूरी तरह से जर्जर हालत में है। जबकि इससे रोजाना सैकड़ों वाहनों का आवाजाही होता है। स्थानीय ग्रामीणों का कहना है कि पुल इस कदर जर्जर हो चुका है कि किसी भी वक्त यह पुल ध्वस्त हो सकता है। हालांकि इसकी जर्जरता की खबर प्रशासनिक पदाधिकारी से लेकर तमाम जनप्रतिनिधियों को है लेकिन कार्रवाई के नाम पर कुछ भी नहीं हो रहा है। ग्रामीणों का कहना है कि धार में गहरा खाई भी है। अगर यह पुल ध्वस्त हो गया तो न जाने  कितना बड़ा हादसा हो जाए यह कहना मुश्किल है। क्योंकि इस इलाके का यह मुख्य मार्ग है। भारी भरकम वाहनों की आवाजाही लगातार बनी रहती है। समाज सेवक सरफराज आलम का कहना है कि इस पुल के दोनों छोर से मिट्टी व सड़क कट कर नदी में समा चुकी है और लोग जान जोखिम में डालकर अपने वाहनों को इस पुल से होकर पार करते हैं। खासकर बरसाती दिनों ताे स्थिति बेहद खतरनाक हो जाती है। अक्सर इस पुल पर ऑटोरिक्शा या फिर छोटे बड़े वाहनों को फंसना आम हो गया है और लोग घटना के शिकार भी हो रहे हैं। ग्रामीणों का कहना है कि अगर इसे दुरूस्त करने की दिशा में जल्द कोई ठोस कदम नहीं उठाया गया तो कभी भी बड़ा हादसा हो सकता है। इस इलाके के सैकड़ों ग्रामीणों ने प्रशासनिक पदाधिकारी व जनप्रतिनिधियों से अविलंब पुल निर्माण की मांग की है।
एक टिप्पणी भेजें