मधुबनी : लघु, सूक्ष्म एवं मध्यम उद्योग (एमएसएमई) अर्थव्यवस्था की है रीढ़ : अश्वनी चौबे - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शुक्रवार, 2 नवंबर 2018

मधुबनी : लघु, सूक्ष्म एवं मध्यम उद्योग (एमएसएमई) अर्थव्यवस्था की है रीढ़ : अश्वनी चौबे

  • ----उद्यमी देश के विकास का है इंजन
  • -नगर भवन में बैंकों और जिला प्रशासन के सौजन्य से हुआ कार्यक्रम
  • -नगर भवन के अन्दर और बाहर प्रोजेक्टर पर लोगो ने सुना माननीय प्रधानमंत्री का भाषण
ashwini-chaube-in-madhubani
मधुबनी :  केन्द्रीय स्वास्थ्य राज्यमंत्री,भारत सरकार  श्री अश्वनी चौबे ने कहा कि लघु, सूक्ष्म एवं मध्यम उद्योग (एमएसएमई) अर्थव्यवस्था की रीढ़ है। ऐसे उद्यमी को बैंक लोन दें। इसके लिए अब महज 59 मिनट में लोन स्वीकृत हो जाएगा। 10 लाख से अधिक के लोन लेने में अब उद्यमियों को परेशानी नहीं होगी।  काम करने वाले उद्यमियों को सफलतापूर्वक लोन दें। छानबीन बैंक करें, पर लोन देने में कोताही न करें। लापरवाही बरतने वाले अधिकारियों पर कार्रवाई होगी। उद्यमी भी लोन लेकर समय से उसे चुकता करें। माननीय, पीएम  श्री मोदी श्रम को महत्व देने का काम कर रहे हैं। माननीय, प्रधानमंत्री, श्री नरेन्द्र मोदी  द्वारा स्वंय नई दिल्ली के विज्ञान भवन से देश भर के 80 जिलों के उद्यमियों को संबोधित करने का काम करेंगे। उनकी परेशानियों को सुनेंगे।                                                                                                                                    
मंत्री अश्वनी चौबे ने कहा कि बिहार के तीन जिलों में पटना, गया और मधुबनी में एम.एस.एस.ई में शामिल किया गया है। यहां की विश्व प्रसिद्ध मिथिला पेंटिंग को बढ़ावा मिलेगा। विद्यापति और मां जानकी की धरती मधुबनी के हर घर में यह कला रची-बसी है। अब इसके तहत कलाकारों के दिन बहुरने वाले हैं। उद्यमियों को लोन के साथ-साथ उनके उत्पादों को भी बाजार प्रदान किया जाएगा। शिविर लगेंगे। कलाकारों की पहचान होगी। कला को सम्मान मिलेगा। एमएसएमई के माध्यम से प्रोत्साहन मिलेगा। इस मामले में पीएम ने विश्व में पहचान बनाई है।  पोर्टल के माध्यम से ऋण मिल रहा है। वित्तीय सहायता देकर राष्ट्र का सर्वांगीण विकास करना मुख्य उद्देश्य है। भारत सरकार के कई मंत्रालय इससे जुड़े हैं। कम पूंजी लगाकर अधिक से अधिक रोजगार के अवसर प्रदान किए जा रहे हैं। इस योजना का लाभ लेकर 11 करोड़ लोगों को रोजगार मिल चुका है। एमएसएमई में आने वाली समस्याओं को खत्म किया जाएगा। देश डिजीटल इंडिया की ओर तेजी से बढ़ रहा है। बैंक उद्यम और उद्यमियों को बढ़ावा देने के लिए कई तरह की लोन दे रहे हैं। ई-मार्केटिंग की ओर देश बढ़ रहा है।          
                                               
मानव संसाधन विकास विभाग,भारत सरकार के  संयुक्त सचिव, श्री  एन. श्रवण कुमार ने कहा कि एमएसएमई के तहत बिहार के तीन जिलों को चुना गया है। इसमें मधुबनी को क्राफ्ट के लिए चुना गया है। उद्यमियों को सुलभ तरीके से लोन मिलेगा। मधुबनी में विविध शिल्पों के 55 हजार निबंधित कलाकार हैं। यह कला विश्व विख्यात है। इस योजना के तहत लोन भी मिलेगा। मार्केटिंग के अवसर भी मिलेंगे। पूरी लगन के साथ इस मौके का लाभ उठाते हुए सभी को लाभ दिलाएं। जिला पदाधिकारी, श्री  शीर्षत कपिल अशोक ने कहा कि यह अविस्मरणीय दिवस है। मधुबनी को नया चैलेंज मिला है। 100 दिन में केन्द्र और राज्य मिलकर हस्तशिल्प के विकास के लिए काम करेंगे।                                                                                                                                 
कार्यक्रम का उदघाटन माननीय मंत्री और अन्य अधिकारियों ने दीप जलाकर किया। शिवगंगा की छात्राओं ने स्वागत गीत गाया। मिथिलांचल की परंपरा के मुताविक सभी अतिथियों को भव्य स्वगात किया गया। स्वागत भाषण देते हुए एलडीएम, श्री अजय कुमार सिन्हा ने कहा कि मधुबनी को एमएसएमई कार्यक्रम के तहत चुना है जो हर्ष की बात है। एसबीआई के जीएम, श्री वीएस नेगी ने कहा कि उद्यमी ही आज के कार्यक्रम के केन्द्र में हैं। सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्योग को बढ़ावा दिया जा रहा है। लोन प्रक्रिया को आसान बनाते हुए महज पोर्टल के माध्यम से लोन की स्वीकृति हो रही है। पर मधुबनी की सीडी रेशियो चिंताजनक है। यह महज 32 प्रतिशत है। 10 लाख से 1 करोड़ तक के लोन आसानी से मिल रहे हैं।  सेन्ट्रल बैंक के जीएम,एम. के. बजाज ने कहा कि सेन्ट्रल बैंक यहां लीड बैंक के तौर पर यहां काम कर रहा है। बैंक केन्द्र और राज्य सरकार की योजनाओं को लागू करने में अपना सहयोग दे रहा है। संचालन श्री नागेन्द्र यादव व धन्यवाद ज्ञापन सेंट्रल बैंक के आरएम, श्री प्रमोद सहत्रबुद्धे ने किया।

कार्यक्रम में श्री दुर्गानंद झा,अपर समाहर्ता,मधुबनी, श्री  कुमार गौरव, सहायक समाहर्ता,(प्रशिक्षु) , पदमश्री श्रीमती बौआ देवी, शिल्प गुरू श्रीमती गोदावरी दत्ता, श्रीमती विमला दत्ता, जिप अध्यक्ष,श्रीमती  शीला मंडल, झंझारपुर के एसडीओ श्री अंशुल अग्रवाल, भाजपा जिलाध्यक्ष श्री घनश्याम ठाकुर, डीडीसी श्री अजय कुमार सिंह, श्री  सुजीत कुमार,जिला परिवहन पदाधिकारी  सहित जिले के सभी अधिकारी और बैंक  कर्मी  आंगनवारी सेविका तथा महिला मधुबनी पेंटिंग कलाकार समेत आम लोग उपस्थित थे ।
एक टिप्पणी भेजें