बेगूसराय : कुशवाहा छात्रावास में हुए मामले की जाँच सी बी आई से होनी चाहिए। - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

मंगलवार, 6 नवंबर 2018

बेगूसराय : कुशवाहा छात्रावास में हुए मामले की जाँच सी बी आई से होनी चाहिए।

demand-cbi-investigation-begusarai
बेगूसराय (अरुण शाण्डिल्य) कुशवाहा छात्रावास कांड एक क्रूरतम कांड है जिसकी जाँच केंद्रीय एजेंसी जाँच से जाँच करवानी चाहिये।ये बात सांसद राजेश रंजन उर्फ पप्पू यादव ने सभा को संबोधित करते हुए कहा।उन्होंने यह भी कहा कि इस कांड के मामले में बिहार सरकार या बिहार पुलिसकर्मियों/पदाधिकारियों पर उन्हें तनिक भी भरोसा नहीं है,यह बात उन्होंने नगर गाँधी स्टेडियम में आम सभा को संबोधित करते हुए कल यतानी 5 नवम्बर 2018 को प्रतिरोध सभा को संबोधित करते हुए बोले।उन्होंने आगामी छठ पौजा को ध्यान में रखते हुए कहा कि छठ के बाद सीधा राजभवन मार्च, राष्ट्रपति तथा माननीय प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी को ज्ञापन सौंपते हुए,पटना न्यायालय से केश का मोनेटरिंग करने का अनुरोध किया जाएगा।घटना के बाद सांसद महोदय पीड़ितों से मिलने गए। पीड़ितों को देखने के बाद उन्होंने कहा कि अपराधियों ने उनकी जिन्दगी ही बर्बाद कर दी है कंवख्तों ने जीने के लायक नहीं छोड़ा उसी वक्त उन्होंने यह प्रण लिया कि जबतक अपराधियों को सैजा नहीं मिल जाती तबतक हमारी लड़ाई जारी रहेगी।सत्ताधारी दल से जुड़े कुछ नेता भी आये सामने चुनाव नहीं होता तो कई नेतागण आकर अपनी डफली बजाते।उन्होंने राजद सुप्रीमों लालू प्रसाद यादव के साथ साथ मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर भी अपना आक्रोश प्रकट किए।उन्होंने कहा कि दोनों नेता केंद्र से लेकर राज्य तक सत्ता में बैने रहे किन्तु दर्शाने के लिये उनके पास कोई उपलब्धि नहीं है आज।केंद्रीय मानव संसाधन राज्य मंत्री एवं रालोसपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष उपेन्द्र कुशवाहा ने अपने संबोधन में कहा कि आजतक के इतिहास में ऐसी आपराधिक घटना पहलीबार देखने सुनने को मिला है ऐसे मामले में अपराधियों को अविलम्ब सजा अगर नहीं मिले तो कानून,पुलिस प्रशासन,दंड विधान के साथ साथ समाज की भी कोई औचित्य नहीं रह जाएगी।प्रतिरोध सभा की अध्यक्षता छात्रावास कमिटी के अध्यक्ष मधुसूदन महतों ने किया।उन्होंने कार्यक्रम में प्रत्यक्ष या परोक्ष किसी भी रूप में सहयोग करने वालों के प्रति आभार प्रकट करते हुए कहा कि यह घटना दुनिया के इतिहास में अजूबा है।अपराधियों को जितना जल्दी सजा मिले मानवता के लिए शुभत्व का संकेत होगा क्योंकि यह घटना किसी जाति पर नहीं यह सीधे मानवता पर प्रहार है इससे मानवता शर्मसार हुई है।

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...