दुमका : गाँधी व गाँधीवाद के हत्यारों को उनके नाम के दृरुपयोग से बचना चाहिए : काॅग्रेस - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शनिवार, 8 दिसंबर 2018

दुमका : गाँधी व गाँधीवाद के हत्यारों को उनके नाम के दृरुपयोग से बचना चाहिए : काॅग्रेस

gandhi-kiler-should-not-use-name-gandhi
दुमका (अमरेन्द्र  सुमन) ,  गाँधी जी व गाँधीवाद के हत्यारों को महात्मा गाँधी के नाम के दुरुपयोग से बचना चाहिए। जन चैपाल कार्यक्रम सरकार की अकर्मण्यता को छुपाने का एक बड़ा माध्यम है। झारखण्ड प्रदेश काॅग्रेस कमिटी के प्रवक्ता राजीव रंजन ने उपरोक्त बातें कही। दुमका जिला काॅग्रेस कमिटी कार्यालय, दुमका के
तत्वावधान में आयोजित पत्रकार वार्ता में प्रदेश प्रवक्ता राजीव रंजन ने कहा कि पिछले चार वर्षों के दरम्यान जिस सरकार को गाँवों में बसने वाली गरीब जनता का ख्याल नहीं आया वह सरकार अब जन चैपाल कार्यक्रम कर उसे गुमराह करने का कार्य कर रही है। भारतीय प्रजापति हीरोज आॅर्गेनाईजेषन के संस्थापक संरक्षक व आॅल इण्डिया प्रजापति कुम्हार पाॅलिटिकल फेडरेषन के संस्थापक अवधेष कुमार प्रजापति, झारखण्ड प्रदेष पिछड़ा प्रकोष्ठ के सचिव व भारतीय प्रजापति हीरोज आॅर्गेनाईजेषन के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष अवधेष कुमार पंडित, जिलाध्यक्ष श्यामल किशोर सिंह, दुमका प्रभारी अजय कुमार व देवघर जिला कार्यक्रम प्रभारी अशोक सिंह की मौजूदगी में प्रदेश प्रवक्ता ने कहा कि जनता की गाढ़ी कमाई का दुरुपयोग जन चैपाल कार्यक्रम के तहत किया जाना काफी दुखद है। उन्होंने कहा जो लोग विपक्षी नेताओं के विरुद्ध अमर्यादित शब्दों का प्रयोग कर रहे हैं पहले उन्हें अपने गिरेबान में झांक कर देखना चाहिए। एकात्म मानवता का विकास कर रघुवर सरकार समावेशी विकास को कुचल रही है। एक वर्ष में 17-17 लोगों की भूख से मौत हो जाती है जिसे देखने वाला कोई नहीं है। जामा के कालेश्वर सोरेन की मौत भूख की वजह से हो गई। सरकार मर्जर के नाम पर विद्यालयों को बंद करने का काम कर रही है। लोकतांत्रिक परंपराओं के अनुसार आंदोलन कर रहे पारा शिक्षकों को जेल में भर दिया जाता है। अपने मर्यादा में रहकर आंदोलन कर रहे पारा शिक्षकों को जेल भेजना कायरता की निशानी है। हर मोर्चे पर काॅग्रेस सरकार को आईना दिखाने का काम कर  रही है। उन्होंने कहा 9 दिसम्बर से प्रत्येक विस क्षेत्र में भाजपा का पदयात्रा कार्यक्रम पाखंडी पदयात्रा कार्यक्रम है। प्रदेश काॅग्रेस प्रवक्ता राजीव रंजन ने कहा कि अपने चुनिंदा एजेन्सियों को काम दिलाकर भाजपा व रघुवर सरकार अपने कर्तव्यों से नीचे गिर चुकी है। फेडरेशन आॅफ चेम्बर आॅफ काॅमर्स ने इसका पुरजोर विरोध किया है। श्री रंजन ने कहा टाटिसिलवे इन्डस्ट्रियल पार्क को देश में 5 वें स्थान पर दिखलाकर झारखण्ड को उपर ले जाने का पाखंड किया गया है। यह सरकार अन्तद्र्वंद से घिरी सरकार है। इसी सरकार के एक मंत्री सरयू राय लगातार सरकार की असफलता पर अपने बयान दे रहे हैं। सरकार के क्रियाकलापों पर लगातार प्रश्नचिन्ह लगाया जा रहा है। शाह ब्रदर्स के विरुद्ध सरयू राय ने मामले को उठाने का काम किया है। सिर्फ अनाज नहीं मिलने के कारण एक आदिम जनजाति बिरहोर की भूख से मौत हो गई। सिर्फ अनाज नहीं मिलने के कारण एक वर्ष में 17 लोगों की भूख से मौत हो गई। 50 प्रतिशत से अधिक क्षेत्र झारखण्ड का सुखाड़ क्षेत्र हो चुका है। सरकार के स्तर से तैयारी नाकाफी है। इस राज्य के कृषि मंत्री हाथी पर बैठकर खुद मस्त हैं। अंधेर नगरी, चैपट राजा की कहानी चरितार्थ हो रही है झारखण्ड में।  9 दिसम्बर को इंडोर स्टेडियम दुमका में जिला काॅग्रेस कमिटी के तत्वावधान में संताल परगना प्रमण्डल के विभिन्न जिलों से तकरीबन 20 हजार कुम्हार जाति के लोग जो भाजपा के कट्टर समर्थक व मतदाता रहे हैं काॅग्रेस का दामन थामेंगे। भारतीय प्रजापति हीरोज आॅर्गेनाईजेषन के संस्थापक संरक्षक व आॅल इण्डिया प्रजापति कुम्हार पाॅलिटिकल फेडरेषन के संस्थापक अवधेष कुमार प्रजापति, ने उपरोक्त बातें कही। उन्होंने कहा भाजपा प्रत्येक बार कुम्हारों को छलने का काम करता रहा है। आज तक कुम्हारों के आर्थिक व शैक्षणिक व्यवस्था पर सरकार ने कोई काम नहीं किया है। यह संगठन पूरी तरह सामाजिक संगठन है किन्तु जो राजनीतिक पार्टी इस संगठन के बारे में सोंचेगी, संगठन उसे अपना समर्थन देगी। काॅग्रेस प्रजापति कुम्हार जाति को हरसंभव सहायता के लिये बचनवद्धता दुहरा रही है। उन्होंने कहा झारखण्ड में साढ़े 23 लाख व पूरे देष में इस जाति की आबादी 8 करोड़ है।
एक टिप्पणी भेजें