बिहार : बिहार बंद को जनता के विभिन्न तबकों व विपक्षी पार्टियों का मिला समर्थन: माले - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

बुधवार, 9 जनवरी 2019

बिहार : बिहार बंद को जनता के विभिन्न तबकों व विपक्षी पार्टियों का मिला समर्थन: माले

सवर्ण आरक्षण हड़ताल से ध्यान हटाने व भटकाने के लिए मोीद सरकार की हताशमूलक बेतावी व बेईमानी
all-people-support-bihar-band-cpi-ml
पटना 9 जनवरी 2019, भाकपा-माले ने मजदूर वर्ग की दो दिवसीय हड़ताल के समर्थन मे वाम दलों के बिहार बंद की ऐतिहासिक सफलता पर बिहार की जनता और अन्य विपक्षी पार्टियों का धन्यवाद किया है. राज्य सचिव कुणाल ने कहा कि मजदूर वर्ग की देशव्यापी हड़ताल और आज के बंद का बिहार में भी जबरदस्त प्रभाव रहा. मजदूर वर्ग की हड़ताल के समर्थन में समाज के विभिन्न तबकों का समर्थन मिला. मोदी-नीतीश शासन के खिलाफ जनता का प्रतिरोध खुलेआम सड़कों पर दिख रहा था. उन्होंने राष्ट्रीय जनता दल, हिंदुस्तान अवामी मोर्चा, समाजवादी पार्टी, कांग्रेस, वीआईपी और उन तमाम राजनीतिक पार्टियों व संगठनों का अभिनंदन किया जिन्होंने बंद का समर्थन किया. कहा कि ये अच्छी बात है कि आज मोदी निजाम के खिलाफ मजदूरों-किसानों के पक्ष में एक बड़ी राजनीतिक एकता निर्मित हो रही है. आने वाले चुनावों में हम इस निश्चित रूप से भाजपा को गद्दी से उतारने में सफल रहेंगे. उन्होंने कहा कि विगत दो दिनों की हड़ताल से देश की जनता का ध्यान भटकाने और हटाने के लिए मोदी सरकार ने सवर्णों के लिए 10 प्रतिशत आरक्षण की घोषणा की है. हर हाथ को रोजगार, न्यूनतम मजदूरी और सामाजिक सुरक्षा जैसी मांगों से मुंह मोड़कर यह घोषणा मोदी सरकार की हताशामूलक बेताबी और बेईमानी को ही दर्शाती है. भारत की जनता सामाजिक न्याय, आर्थिक अधिकारों और जन.कल्याण के लिये एकताबद्ध रूप से लड़ेगी और मोदी सरकार को जनता और संविधान के खिलाफ बर्बर युद्ध छेड़ने के अपराध में सत्ता से उखाड़ फेंकेगी.
एक टिप्पणी भेजें
Loading...