कर्नाटक बंद के दूसरे दिन कई जगहाें पर पथराव - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

बुधवार, 9 जनवरी 2019

कर्नाटक बंद के दूसरे दिन कई जगहाें पर पथराव

second-day-of-karnataka-shutdown-pestilence-on-many-worlds
बेंगलुरु, 09 जनवरी, विभिन्न ट्रेड यूनियनों के आह्वान पर देशव्यापी बंद के दूसरे दिन राज्य के कई हिस्सों में हिंसा की घटनाओं के दौरान उपद्रवियों ने करीब 50 जगहों पर राज्य परिवहन निगम की बसों पर पथराव किया। बंद के आह्वान का हालांकि आंशिक असर रहा तथा राज्य में व्यावसायिक प्रतिष्ठान खुले रहे और सरकारी एवं अन्य कार्यालयों में कामकाज सामान्य रूप से चला।  पुलिस सूत्रों ने बताया कि कई जिलों से पथराव की रिपोर्ट मिली जिसके बाद परिवहन निगम की ओर से अधिकांश बसें वापस बुला ली गयी। राजधानी बेंगलुरु में समेत कई अन्य जगहों पर सड़कों पर यातायात बाधित करने के प्रयास को देखते हुए कई आंदोलनकारियों को पुलिस ने हिरासत में लिया।  राज्य में स्कूल एवं कॉलेज दूसरे दिन भी बंद हैं और सभी विश्वविद्यालयों ने मंगलवार और बुधवार को होने वाली सभी परीक्षाएं स्थगित कर दी। बेंगलुरु में हालात सामान्य हैं, अधिकांश व्यावसायिक प्रतिष्ठान, होटल और अन्य प्रतिष्ठानों में गतिविधियां सामान्य रूप से चल रही है।  शहर में सुबह सड़कों पर निजी वाहनों का दवाब काफी अधिक रहा जिससे सड़कों यातायात की गति धीमी रही। बंद को देखते हुए लोग अपने वाहनों से घर से निकलना पंसद किया।  बेलगावी में हालात सामान्य हैं और परिवहन निगम ने भी मंगलवार की अपेक्षा अधिक बस को सेवाओं में लगाया गया है। कर्नाटक राज्य परिविहन निगम की बसें महाराष्ट्र, गोवा, हुबली, विजयपुरा, मंगलुरु और अन्य रूटों पर करीब करीब निर्धारित समय पर सामान्य रूप से चल रही है। ऑटो, कैब, पिकअप वैन सामान्य रूप से चल रही है जबकि अधिकांश व्यावसायिक प्रतिष्ठान, होटल, बैंक, रेहड़ी पटरी वाले, फूल एवं फल कारोबारी सामान्य रूप से अपने व्यवसाय में लगे हैं। 
एक टिप्पणी भेजें
Loading...